केवल शनिवार शनि देव के चरणों में चढ़ा दें ये दो चीज, सालों पुरानी समस्या हो जायेगी सप्ताह भर में दूर

केवल शनिवार शनि देव के चरणों में चढ़ा दें ये दो चीज, सालों पुरानी समस्या हो जायेगी सप्ताह भर में दूर

Shyam Kishor | Publish: Jun, 07 2019 05:39:42 PM (IST) धर्म कर्म

इस सरल उपाय से सारे मनोरथ पूर करें शनि देव

अगर आपके जीवन में बार-बार एक के बाद दूसरी समस्या आ रहो ही हो, या फिर सालों से कोई ऐसी समस्या है जो दूर होने का नाम ही नहीं ले रही तो अब घबराने की जरूरत नहीं। इस इस उपाय के बाद शनि देव आप पर शीघ्र प्रसन्न होकर आपकी सभी समस्याएं कुछ ही दिनों में दूर कर देंगे। जानें कैसे करना है शनिवार के दिन शनि देव का पूजन।

 

अनेक लोग शनिवार के दिन शनि देव की कृपा एवं शुभ फल पाने के लिए विशेष पूजा अर्चना करते हैं, लेकिन कहा जाता है कि शनिवार के दिन शनि देव के चरणों में शनि देव को सबसे अधिक प्रिय लगने वाली इन चीजों को अपनी इच्छा पूर्ति की कामना करते हुए श्रद्धा भाव से अर्पित कर दें। ऐसा करने से शनि देव शीघ्र प्रसन्न होकर सालों पुरानी समस्याओं से कुछ ही दिनों में छुटकारा दिला देते हैं।

 

मरते दम तक नहीं रहेगी पैसों की कमी, भगवान कृष्ण की यह चीज रखें अपने घर में

 

शनिवार के दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव के चरणों में केवल नीले रंग के 5 फूल एवं काले तिल के 21 दाने सुबह के समय चढ़ा दें, इससे शनि देव शीघ्र प्रसन्न होकर हर मनोकामना पूरी कर देते हैं।

 

ये चीजें चढ़ाएं शनि के चरणों में-

1- शमी के पत्ते- शनि देव को शमी के पत्ते सबसे अदिक प्रिय है, ये पत्ते से शनिदेव तुरंत खुश हो जाते हैं।

2- नीले फूल- शनि को अपराजिता के फूल चढ़ाएं। ये फूल नीले होते हैं। शनि नीले वस्त्र धारण किए रहते हैं और उन्हें नीला रंग प्रिय है। इसी वजह से शनि को ये फूल चढ़ायें जाते हैं।

3- काले तिल- काले तिल का कारक शनि है। शनि को काली चीजें प्रिय है। इसी वजह से शनि की पूजा में काले तिल भी चढ़ाए जाते हैं।

4- सरसों का तेल- शनि को तेल चढ़ाने की परंपरा बहुत पुराने समय से चली आ रही है और अधिकतर लोग शनिवार को तेल का दान भी करते हैं और शनि का अभिषेक भी करते हैं।

 

शनि मंदिर या घर में करें चमत्कारों से भरी इस स्तुति का पाठ, शनि देव कर देंगे हर इच्छा पूरी

 

इस शनि मंत्र का जप भी 21 बार जरूर करें-

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

*********

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned