scriptGoddess Lakshmi Blessings just before deepawali | Puja Path- ऐसे करें भगवान विष्णु प्रसन्न, मिलेगा देवी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद साथ ही कई समस्याओं का होगा निदान | Patrika News

Puja Path- ऐसे करें भगवान विष्णु प्रसन्न, मिलेगा देवी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद साथ ही कई समस्याओं का होगा निदान

विवाह सहित आर्थिक समस्या से लेकर मानसिक अशांति तक की समस्याओं के निदान के लिए गुरुवार के दिन करें ये आसान उपाय

भोपाल

Updated: October 28, 2021 02:37:41 pm

सप्ताह में बृहस्पतिवार यानि गुरुवार को शांति व प्रसन्नता के लिए विशेष दिन माना जाता है। वहीं इस दिन भगवान विष्णु और मां सरस्वती दोनों की पूजा की जाती है। ऐसे में जहां आज दिवाली 2021 से ठीक पहले का गुरुवार है वहीं गुरुवार के दिन के संबंध में मान्यता है कि इस दिन विष्णु भगवान की पूजा से देवी लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं।

puja path
blessings of goddess lakshmi

एक ओर जहां भगवान विष्णु को प्रसन्न करना अत्यंत कठिन माना जाता है, वहीं कई बार ये भी कहा जाता है कि इन्हें प्रसन्न कर इनसे आशीर्वाद पाना मुमकिन ही नहीं है, लेकिन वहीं अधिकांश जानकारों का यह भी कहना है कि यदि उनकी सच्चे मन से अराधना करें तो वे अवश्य कृपा बरसाते हैं और इसका उदाहरण कई पौराणिक कथाओं में भी मिलता है।

sharad purnima-lord vishnu and laxmi puja

ज्योतिष के जानकारों अनुसार शास्त्रों में भी देवगुरु यानि भगवान बृहस्पति साधु और संतों के देव माने गए हैं और इसी तरह पीला रंग संपन्नता का प्रतीक भी है। इसी वजह है पीला रंग इस दिन को समर्पित किया गया है।

गुरुवार की पूजा -

1. बृहस्पतिवार यानि गुरुवार के दिन सुबह ब्रह्ममुहूर्त में नहाने के बाद घी का दीपक जलाकर भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए, इसके साथ ही उनका पाठ भी अवश्य करें। ज्योतिषशास्त्र में गुरु को धन का कारक ग्रह भी माना गय है। अत: ऐसे में माना जाता है कि जिस व्यक्ति पर गुरु की कृपा होती है, उसकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहती है।

2. ज्योतिष के जानकारों के अनुसार गुरुवार को पीले वस्त्र ही धारण करने का प्रयास करना चाहिए, अगर ऐसा नहीं हो सकता तो कम से कम पूजा करते वक्त केसर से भगवान विष्णु को तिलक अवश्य करें, लेकिन यदि केसर का तिलक करना भी मुमकिन न हो तो हल्दी से भी तिलक कर सकते हैं।

बेहद प्रिय है विष्णु भगवान को पीला रंग -
गुरुवार का दिन भगवान बृहस्पति की पूजा के लिए शुभ माना गया है। वहीं इस दिन के कारक देव भगवान विष्णु माने जाते हैं।

ऐसे में आज के दिन यानि गुरुवार / बृहस्पतिवार को पूजा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और धन संपत्ति का वरदान देते हैं।

Must read- साल में केवल इस दिन होती है माता लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की पूजा

Lord vishnu puja

भगवान विष्णु को पीला रंग बहुत प्रिय है इसलिए इस दिन पीले वस्त्र धारण करने चाहिए और पीली वस्तुओं का दान भी किया जाता है। वहीं दूसरी तरफ इस दिन कुछ चीजों से परहेज करना भी बहुत जरूरी माना जाता है।

यह करें और यह न करें इस दिन जानें

1. सुबह उठकर नहाने के बाद पीले रंग के कपड़े पहनें।

2. पूजा में भोग लगाने के लिए गुड़ और चने की दाल को एक साथ मिला कर प्रसाद बनाएं।

3. इस प्रसाद को आप भगवान को अर्पित कर पूजा करें। माना जाता है कि ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होकर अपना आशीर्वाद आपके घर पर सदा बनाए रखते हैं।

4. गुरुवार की पूजा विधि-विधान के साथ ही करने से बृहस्पति देव के पूजन में पीले फूल, चने की दान, पीली मिठाई, पीले चावल आदि का उपयोग करना शुभ माना जाता है।

5. इस दिन केले के पेड़ का पूजन करना चाहिए और यदि संभव हो तो इसके पास बैठकर ही बृहस्पति देव का पूजन और कथा पाठ करना चाहिए।

6. यदि आप आज के दिन व्रत रख रहे हैं तो ऐसे में केवल पीले फल ही ग्रहण करने चाहिए। आज के दिन पीली वस्तुओं का दान करने से मन को शांति और घर में समृद्धि का निवास रहता है।

7. माना जाता है कि भगवान बृहस्पति देव की पूजा करने भर से आपके घर में गुरु का वास होता है।

8. मन से सभी बुरे विचार आज के दिन त्याग देने के साथ ही भगवान के चरणों में अपने जीवन को अर्पण करना चाहिए।

9. इस दिन घर में पोछा नहीं लगना चाहिए और न ही कपड़े धोने या प्रेस करने का काम करना चाहिए।

Must read- Dhanteras 2021: इस धनतेरस इन बातों का रखें खास ध्यान

dhanteras 2021

10. माना जाता है कि आज के दिन किसी को पैसे नहीं देने चाहिए।

11. जो लोग गुरुवार का व्रत करें उन्हें इस दिन नमक नहीं खाना चाहिए और केवल पीला भोजन ही करना चाहिए।


मनोकामना को पूरा करने वाला दिन-
कई समस्याएं हैं जैसे विवाह का न होना, आर्थिक समस्या का होना और मानसिक अशांति, ऐसे में माना जाता है कि यदि गुरुवार के दिन कुछ आसान से उपाय किए जाएं, तो इन समस्याओं के निदान के साथ ही मनोकामना जरूर पूरी होगी।

पंडित एसके पांडे के अनुसार हिंदू पौराणिक ग्रंथों में गुरुवार का दिन भगवान विष्णु का दिन माना गया है। इस दिन यदि कोई भक्त सच्चे मन से श्रीहरि विष्णु को प्रसन्न करता है तो उसकी मनोकामनाएं जरूर पूरी होती है।

- बृहस्पतिवार को नहाते समय एक चुटकी हल्दी पानी में डालकर स्नान करें। इसके बाद 'ऊं नमों भगवते वासुदेवाय' मंत्र के जाप के पश्चात भगवान विष्णु जी की पूजा करें। मान्यता के अनुसार ऐसा करने पर विवाह में आ रही अड़चन दूर होगी।

- वहीं यदि आपकी जन्मकुंडली में गुरु दोष है, तो हर गुरुवार को भगवान विष्णु को बेसन के लड्डू का भोग लगाना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से आपकी कुंडली में गुरु दोष शांत होने के साथ ही ये उपाय काफी लाभ प्रदान करता है।

Must Read- Diwali Special: मां लक्ष्मी की कृपा बरसने का संकेत

signals of ma lakshmi

- इसके साथ ही गुरु दोष शांति के लिए पीली वस्तुओं जैसे गुड़,चने की दाल, केले, पीले फूल, चन्दन या पीले वस्त्र, हल्दी, पीले रंग की मिठाई और गाय का घी भी दान करना उचित माना गया है।

- बृहस्पतिवार यानि गुरुवार को धन से जुड़ा लेन देन थोड़ा संभलकर करना चाहिए, ऐसे में यदि कोई इस दिन धन मांगने आता है और आप उसे धन दे देते हैं, तो माना जाता है कि ऐसा करने से आपका गुरु कमजोर हो जाता है, जिससे आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैं।

- गुरुवार को शाम के समय केले के वृक्ष के आगे दीप दान करने के साथ ही कोई मिठाई चढ़ा कर, जहां तक हो सकें बेसन की मिठाई को ही अर्पित कर उसे लोगों में बांट दें। माना जाता है कि ये उपाय काफी लाभ पहुंचाता है।

बृहस्पतिवार को ये 5 काम करेंगे भगवान विष्णु होंगे प्रसन्न -
हिंदू धर्म में बृहस्पतिवार को बेहद खास दिन माना जाता है। इस दिन घर में सुख समृद्धि और संपन्नता लाने के लिए विष्णु भगवान की पूजा की जाती है। ऐसे में कुछ खास उपाय हैं, जिनके संबंध में मान्यता है कि इन्हें अपनाने से बृहस्पति देव की कृपा प्राप्त होती है।

1. बृहस्पतिवार के दिन विष्णु भगवान की पूजा के संबंध में मान्यता है कि इस दिन विष्णु भगवान की पूजा से देवी लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं।

Must Read- Diwali 2021- छह दशक बाद बन रहा दुर्लभ संयोग

2. बृहस्पतिवार यानि गुरुवार के दिन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए सत्यनारायण की कथा पढ़नी चाहिए।

3. पीले रंग के कपड़े पहनने : भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए बृहस्पतिवार यानि गुरुवार के दिन पीले रंग के कपड़े पहनने चाहिए। इसका कारण ये है कि पीला रंग भगवान विष्णु को बेहद प्रिय है।

4. केले के पेड़ की पूजा: बृहस्पतिवार यानि गुरुवार के दिन केले के पेड़ की पूजा विशेष जाती है। जानकारों के अनुसार इस दिन सुबह-सुबह केले के पेड़ की पूजा कर उसके नीचे घी का दीपक जलाना चाहिए। इसके साथ ही इस दिन केले के पेड़ पर चने की दाल चढ़ाना भी शुभ माना जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

Petrol-Diesel Prices Today: केंद्र के बाद राज्यों ने घटाए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें कितनी हैं आपके शहर में कीमतेंQuad Summit 2022: प्रधानमंत्री मोदी का जापान दौरा, क्वाड शिखर सम्मेलन में बाइडेन से अहम मुलाकात, जानें और किन मुद्दों पर होगी बात'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीRam Mandir : पांच गुम्बद वाला दुनिया का अकेला होगा राम मंदिर, जाने अलग दिखने वाली विशेषताएंभाजपा नेता को किया गिरफ्तार, आशियाना ध्वस्त करने पहुंचा था बुलडोजरWeather Update: कई राज्यों में आंधी के साथ बूंदाबांदी, अगले 5 दिनों तक बारिश का अलर्टRaj Thackeray Pune Rally: मनसे प्रमुख राज ठाकरे की पुणे रैली आज, अयोध्या यात्रा रद्द करने पर देंगे जानकारी, भारी संख्या में पुलिस तैनातकिस घोड़े की तारीफ में पीएम मोदी ने लिखा रिटायर्ड कर्नल को पत्र...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.