scriptPUJA VIDHI And IMPORTANCE OF SHARAD PURNIMA | Sharad Purnima- साल मेें केवल इसी पूर्णिमा पर होती है माता लक्ष्मी के संग भगवान विष्णु की पूजा | Patrika News

Sharad Purnima- साल मेें केवल इसी पूर्णिमा पर होती है माता लक्ष्मी के संग भगवान विष्णु की पूजा

साल भर की सभी पूर्णिमा में से क्यों है सबसे अधिक विशेष

भोपाल

Updated: October 18, 2021 06:49:43 pm

हिंदू पंचांग के अनुसार हर वर्ष आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है। जिसे रास पूर्णिमा और कोजागरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। वहीं यह दिन देवी लक्ष्मी की पूजा के लिए विशेष माना जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि साल भर की एक मात्र ऐसी पूर्णिमा व दिन है जब लक्ष्मी जी की पूजा भगवान विष्णु के साथ होती है।

sharad purnima importance
sharad purnima importance

दरअसल आपने भी देखा होगा कि माता लक्ष्मी की पूजा दिवाली के दिन श्री गणेश के साथ धनतेरस के दिन कुबेर जी के साथ आदि के साथ की जाती है। ऐसे में शरद पूर्णिमा एक मात्र ऐसा खास दिन है जब माता लक्ष्मी की पूजा भगवान विष्णु के साथ होती है।

sharad purnima-lord vishnu and laxmi puja

दरअसल हिंदुओं में पूर्णिमा तिथि भगवान विष्णु को समर्पित मानी गई है। इस तिथि को पूर्णमासी भी कहा जाता है। भगवान विष्णु की पूजा के इस दिन स्नान का विशेष महत्व होता है। ऐसे में साल में सामान्यत: 12 पूर्णिमा होती हैं, जिनमें हर पूर्णिमा पर भगवान विष्णु की पूजा होती है, वहीं केवल शरद पूर्णिमा ही ऐसी है, जिस दिन भगवान विष्णु के साथ देवी माता लक्ष्मी की भी पूजा की जाती है।

ऐेसे में इस साल यानि 2021 में आश्विन मास की पूर्णिमा तिथि मंगलवार, अक्टूबर 19 को है। यही दिन शरद पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। इस बार यानि 2021 में ये पूर्णिमा तिथि 19 अक्टूबर, मंगलवार को 19:05:42 बजे से शुरु होकर बुधवार, 20 अक्टूबर 20:28:56 बजे तक रहेगी।

शरद पूर्णिमा के दिन देवी मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की भी पूजा विशेष मानी जाती है। मान्यता के अनुसार शरद पूर्णिमा के अवसर पर देवी मां लक्ष्मी की पूजा करने से धन की कमी दूर होने के साथ ही जीवन में खुशहाली का आगमन होता है।

Must read- Sharad Purnima 2021 : चंद्रमा से बरसेगा खीर में अमृत

sharad purnima

शरद पूर्णिमा के कई नाम
शरद पूर्णिमा को देश के कई हिस्सों में कोजागरी पूर्णिमा, नवन्ना पूर्णिमा, कौमुदी पूर्णिमा और अश्विन पूर्णिमा जैसे अलग- अलग नामों से भी जाना जाता है। वहीं इस दिन देश के विभिन्न हिस्सों में, अविवाहित भी लड़कियां भगवान विष्णु को प्रसन्न करने और एक उपयुक्त वर पाने के लिए शरद पूर्णिमा का व्रत रखती हैं।

श्री कृष्ण की महारास लीला
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, शरद पूर्णिमा पर ही भगवान श्रीकृष्ण ने महारास लीला रचाई थी। इसके साथ ही शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की भी विशेष पूजा अर्चना करने का विधान है। इसी के तहत इस पूर्णिमा पर चंद्र देवता की खीर का भोग लगाया जाता है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार इस रात आसमान से अमृत की बूंदे गिरती हैं, जिसके कारण खीर को खुले आसमान के नीचे रखा जाता है। शास्त्रों के अनुसार इस तिथि पर चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है, ऐसे में अमृत वर्षा से खीर भी अमृत के सामान हो जाती है। जिसके बाद इस खीर को प्रसाद मानकर ग्रहण किया जाता है।

जानकारों के अनुसार शरद पूर्णिमा के दिन ही चंद्रमा सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है। नारदपुराण के अनुसार ऐसा माना गया है कि इस दिन लक्ष्मी मां अपने हाथों में वर और अभय लिए घूमती हैं। इस दिन मां लक्ष्मी अपने जागते हुए भक्तों को धन और वैभव का आशीष देती हैं।

Must read- Sharad Purnima 2021-जानें शुभ मुहूर्त के साथ ही इस दिन क्या न करें

sharad purnima 2021

वहीं इस दिन शाम होने पर सोने, चांदी या मिट्टी के दीपक से आरती की जाती है।माना जाता है कि शरद पूर्णिमा पर देवी लक्ष्मी जी के साथ ही भगवान विष्णु जी की पूजा करने से जीवन में धन की कमी दूर होती है।

शरद पूर्णिमा की पूजन विधि
शरद पूर्णिमा के दिन ब्रह्ममुहूर्त मे पवित्र नदी में स्‍नान करना चाहिए है। लेकिन यदि किन्हीं कारणोंवश आप ऐसा करने में सक्षम न हों तो घर में पानी में ही गंगाजल मिलाकर मंत्र (गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती।नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु।।) का जाप करते हुए स्‍नान करें और स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें।

इसके पश्चात लकड़ी की चौकी पर लाल रंग का वस्‍त्र बिछाते हुए स्‍थान को गंगाजल से पवित्र करें। फिर इस चौकी पर मां लक्ष्‍मी की प्रतिमा स्‍थापित करें और लाल चुनरी पहनाएं। इसके साथ ही उन्हें धूप, दीप, नैवेद्य और सुपारी आदि अर्पित करें। इसके बाद मां लक्ष्‍मी की पूजा करते हुए ध्‍यान करते हुए लक्ष्‍मी चालीसा का भी पाठ करें।

वहीं शाम को भगवान विष्‍णु के साथ ही माता लक्ष्मी की भी पूजा करें। इसके बाद चंद्रमा को अर्घ्‍य दें और चावल और गाय के दूध से खीर बनाकर चंद्रमा की रोशनी में रख दें। खीर का भोग भगवान को भी लगाने के साथ ही रात्रि जागरण के पश्चात सुबह खीर को प्रसाद के रूप में पूरे परिवार को खिलाएं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया हैMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.