देश में इन राज्यों के लोगों को मिला त्योहारी तोहफा, बढ़ने जा रही सभी की सैलरी

  • जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में मिलेगी सभी को बढ़ी हुई सैलरी
  • अमित शाह ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी

नई दिल्ली। नवगठित केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सरकारी कर्मियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ दिया जाएगा। यह लाभ 31 अक्टूबर से प्रभावी माना जाएगा। जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को खत्म कर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू एवं कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित कर दिया गया था।


अमित शाह ने दी जानकारी

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। सरकार को विश्वास है कि कश्मीरियों को मुख्यधारा में लाने में यह कदम काफी महत्वपूर्ण साबित होगा।

ये भी पढ़े: 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के साथ राज्य कर्मचारियों की भी बड़ा फायदा, न्यूनतम सैलरी होगी 26000 रुपए


सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन

एक सरकारी नोट के अनुसार, "केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। इस कदम से मौजूदा जम्मू एवं कश्मीर राज्य में काम करने वाले 4.5 लाख कर्मियों को लाभ मिलेगा। ये कर्मी अब 31 अक्टूबर से केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू एवं कश्मीर तथा लद्दाख के कर्मी कहलाएंगे।"


सरकार देगी 4800 करोड़ रुपए

इसका सालाना भार लगभग 4,800 करोड़ रुपये होगा और यह 4.5 लाख कर्मियों बच्चों की शिक्षा का भत्ता, आवास भत्ता, यात्रा भत्ता, एलटीसी, मेडिकल भत्ता और अन्य भत्तों के रूप में मिलेगा।


बच्चो को दिया जाएगा शिक्षा भत्ता

बच्चों के शिक्षा भत्ते का भार 607 करोड़ रुपये, आवास भत्ते का 1,823 करोड़ रुपये, यात्रा भत्ते का 1,200 करोड़ रुपये, लीव ट्रेवल कंसेशन (एलटीसी) का 108 करोड़ रुपये और मेडिकल भत्ते का सालाना भार 108 करोड़ रुपये होगा। इसके अलावा अन्य भत्तों के लिए 62 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned