ट्रेड वार में बिगड़े ड्रैगन के हालात, चीन की अर्थव्यवस्था को हो सकता है भारी नुकसान

ट्रेड वार में बिगड़े ड्रैगन के हालात, चीन की अर्थव्यवस्था को हो सकता है भारी नुकसान

Shivani Sharma | Publish: May, 18 2019 01:40:52 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • अमरीका और चीन के बीच पिछले साल से ट्रेड वार चल रहा है और इस ट्रेड वार ( Trade War ) में चीन ( China ) को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा
  • हाल ही में अमरीका ने चीनी उत्पादों पर टैरिफ बढ़ा दिया
  • अमरीका के टैरिफ बढ़ाने से चीन की अर्थव्यवस्था को काफी खतरा है

नई दिल्ली। अमरीका और चीन के बीच पिछले साल से ट्रेड वार चल रहा है और इस ट्रेड वॉर ( Trade War ) में चीन ( China ) को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। हाल ही में अमरीका ने चीनी उत्पादों पर टैरिफ बढ़ा दिया है, जिसके बाद से चीन के हालात काफी खराब हो रहे हैं। चीन के एक बड़े अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि अमरीका के साथ व्यापार युद्ध में चीन के सकल घरेलू उत्पाद ( GDP ) को एक फीसदी का झटका लग सकता है।


चीन की अर्थव्यवस्था को होगा नुकसान

आपको बता दें कि चीन ने पहली बार यह बात स्वीकार की है कि अमरीका के टैरिफ बढ़ाने से चीन की अर्थव्यवस्था को काफी खतरा है। चीन ने कहा कि ट्रेड वॉर के कारण हमारी अर्थव्यवस्था को नुकसान हो सकता है। हांगकांग की मीडिया से मिली जानकारी के अऩुसार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ( सीपीसी ) के शीर्ष पोलित ब्यूरो की सात सदस्यीय स्थायी समिति के सदस्य वांग यांग के हवाले से कहा गया है कि चीन-अमरीका के बीच जारी ट्रेड वार से चीन की आर्थिक वृद्धि एक फीसदी नीचे आ सकती है।


ये भी पढ़ें: US के प्रतिबंध के बाद भी भारत में नहीं होगी पेट्रोल-डीजल की कमी, अब से सऊदी से तेल आयात करेगा भारत


रिपोर्ट में हुआ खुलासा

रिपोर्ट के मुताबिक वांग ने चीन में कारोबार कर रहे ताइवानी कारोबारियों के एक समूह के साथ गुरुवार को बातचीत के बातचीत में ट्रेड वार से हुए नुकसान की बात स्वीकार किया था। वांग ने उनसे कहा कि एक साल से चल रहे इस विवाद पर सरकार का आकलन है कि सबसे प्रतिकूल परिस्थिति में जीडीपी अनुमानित स्तर से एक फीसदी कम हो सकती है।


पिछले साल चीन की आर्थिक वृद्धि में आई गिरावट

हालांकि, उन्होंने इस बात पर कोई चर्चा नहीं कि इस स्थिति से निपटने के लिए चीन की योजना क्या है। बता दें कि पिछले साल चीन की आर्थिक वृद्धि दर गिरकर 6.8 फीसदी पर आ गई थी। सरकारी अनुमानों के अनुसार, इस साल यह 6.5 फीसदी से 6 फीसदी के बीच रह सकती है। इस बयान की महत्ता इससे समझे जा सकती है कि यह समिति ही एक तरह से चीन पर नियंत्रण करती है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें
patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned