डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर टैरिफ बढ़ाने का फिर रागा अलाप, अमरीकी राष्ट्रपति के ट्वीट से सहमा एशियाई बाजार

डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर टैरिफ बढ़ाने का फिर रागा अलाप, अमरीकी राष्ट्रपति के ट्वीट से सहमा एशियाई बाजार

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Jul, 17 2019 01:51:23 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • चीन पर अमरीका लगा सकता है 300 अरब डॉलर टैरिफ।
  • पिछले माह ही ट्रेड सीजफायर पर दोनों देशों में बनी थी सहमति।
  • अगले सप्ताह बीजिंग जा सकते हैं अमरीकी प्रतिनिधि।

नई दिल्ली। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( Donald Trump ) ने एक बार फिर चीन पर अतिरिक्त आयात शुल्क ( Tariff ) बढ़ाने का राग अलापना शुरू कर दिया है। ट्रंप ने बीते दिन कहा कि अगर वो चाहेंगे तो चीन पर 300 अरब डॉलर का अतिरिक्त आयात शुल्क बढ़ा सकते हैं। पिछले माह ही चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात में ट्रेड वॉर ( Trade War ) समझौते के तहत अमरीका ने टैरिफ न बढ़ाने का फैसला लिया था।

पिछले माह ही जापान के ओसाका में हुए G20 बैठक के बाद ट्रंप और शी जिनपिंग ( Xi Jinping ) ने टैरिफ सीजफायर लगाते हुए ट्रेड को लेकर बातचीत करने के लिए तैयार हुये थे। वॉशिंगटन स्थित व्हाइट हाउस से यह खबर आने के बाद मंगलवार को स्टॉक मार्केट में भी हलचल देखने को मिली।

यह भी पढ़ें - यूरेनियम पर डोनाल्ड ट्रंप का फैसला, कहा- आयात पर कोटा नहीं लागू करेंगे

अगले सप्ताह चीन जा सकते हैं चीनी प्रतिनिधि

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने चीन पर 300 अरब डॉलर मूल्य का अतिरिक्त टैरिफ होल्ड पर रखा है। इसके बदले शी जिनपिंग सहमत हुए हैं कि चीन बड़ी मात्रा में अमरीकी फार्म गुड्स की खरीदारी करेगा। लेकिन, अभी तक यह खरीदारी पूरी नहीं हुई है। अमरीकी ट्रेड प्रतिनीधि रॉबर्ट लाइथिजर ने उम्मीद जताई है कि चीनी प्रतिनिधित्व से इस संबंध में अगले सप्ताह बातचीत हो सकती है। अमरीकी सचिव स्टीवेन न्यूचिन और रॉबर्ट लाइथिजर इसके लिए अगले सप्ताह बीजिंग जा सकते हैं।

27 साल में सबसे खराब चीनी आर्थिक ग्रोथ

बीते दिन ट्रंप ने ट्वीट करते हुए चीन पर एक बार फिर दबाव बनाया है। सोमवार को ट्रंप ने इस बात की तरफ भी इशारा किया कि अमरीकी टैरिफ का असर चीन की अर्थव्यवस्था पर साफ दिखाई देने लगा है। बताते चलें कि इस सप्ताह चीन ने आंकड़े जारी किये हैं, जिसके मुताबिक, दुनिया की इस दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की ग्रोथ दूसरी तिमाही में घटकर 6.2 फीसदी रह गई है। साल 1992 के बाद चीन की यह सबसे न्यूनत आर्थिक ग्रोथ दर है।

यह भी पढ़ें - स्विटजरलैंड के बाद नया Tax Haven बनता जा रहा दक्षिण कोरिया, 2018 में भारतीयों ने खपाया 61.64 अरब रुपये

एशियाई बाजारों में गिरावट

मंगलवार देर रात को डोनाल्ड ट्रंप के इस ट्वीट के बाद बुधवार को शुरुआती कारोबार के दौरान एशियाई बाजारों में बिकवाली का दौर देखने को मिला। बुधवार को जापान और दक्षिण कोरिया के प्रमुख इंडेक्स में गिरावट दर्ज की गई। आज दोपहर तक चीन का हैंग सेंग, ताइवान इंडेक्स, कोस्पी, शंघाई कम्पोजिट भी लाल निशान पर बंद हुआ। इसके पहले कारोबारी सत्र में अमरीकी बाजार भी गिरावट के साथ बंद हुआ।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned