महंगार्इ से मिली राहत, अगस्त माह में थोक महंगार्इ दर 4.53 फीसदी हुर्इ

महंगार्इ से मिली राहत, अगस्त माह में थोक महंगार्इ दर 4.53 फीसदी हुर्इ

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Sep, 14 2018 01:45:08 PM (IST) | Updated: Sep, 14 2018 02:02:14 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने आज (शुक्रवार) अगस्त माह की थोक महंगार्इ दर (WPI) के आंकड़ें जारी कर दिए हैं।

नर्इ दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद भी अगस्त माह में महंगार्इ दर में कमी अार्इ है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने आज (शुक्रवार) अगस्त माह की थोक महंगार्इ दर (WPI) के आंकड़ें जारी कर दिए हैं। जारी आंकड़ों के मुताबिक जुलार्इ माह में 5.09 फीसदी की तुलना में अगस्त माह में महंगार्इ दर घटकर 4.53 फीसदी दर्ज की गर्इ है। हालांकि पिछले वित्त वर्ष के सामान माह में ये आंकड़ा 3.24 फीसदी था।

यह भी पढ़ें - Big Billion Day से पहले खड़ी हो सकती हैं फ्लिपकार्ट के लिए मुश्किलें, छोटे वेंडर्स ने इस बात को लेकर CCI से की शिकायत

क्या कहते हैं आंकड़े
वाणिज्य आैर उद्योग मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार अगस्त माह में फूड आर्टिकल्स के लिए थोक महंगार्इ दर -2.16 फीसदी से घटकर -4.04 फीसदी, प्राइमरी आर्टिकल्स के लिए 1.73 फीसदी से घटकर -0.15 फीसदी आैर फ्यूल आर्टिकल्स के लिए 18.10 फीसदी से घटकर 17.73 दर्ज की गर्इ है। लेकिन मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्ट्स के लिए ये आंकड़ा 4.26 फीसदी से बढ़कर 4.43 फीसदी हो गया है। फूड आर्टिकल्स इंडेक्स में चना (6 फीसदी), मूंग, रागी और बाजरा (4 फीसदी प्रत्येक), उड़द, जौ, गेहूं आैर चाय (3 फीसदी प्रत्येक), कॉफी, ज्वार और मसूर (2% प्रत्येक) और मक्का और राजमा (1% प्रत्येक) की वजह से 0.1 फीसदी बढ़ोतरी हुर्इह है। जिसके बाद ये 144.7 फीसदी से बढ़कर 144.8 फीसदी हो गया है।

यह भी पढ़ें - आज 30 पैसे तक बढ़े पेट्रोल के दाम, डीजल में भी 24 पैसे की बढ़ोतरी, ये रहीं आज की नर्इ दरें

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद भी महंगार्इ दर में कमी
गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। लेकिन इस मामले से जुड़े लोगों का कहना है कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा सितंबर माह में हुआ है, इसलिए अगस्त माह की महंगार्इ दर में कमी आर्इ है। जानकारों का मानना है सितंबर माह के लिए जारी होने वाले महंगार्इ दर के आंकड़ें में इजाफा हो सकता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned