400 से ज्यादा ITI संस्थानों की मान्यता रद्द करने की सिफारिश, सरकार ने साधी चुप्पी!

400 से ज्यादा ITI संस्थानों की मान्यता रद्द करने की सिफारिश, सरकार ने साधी चुप्पी!

Sunil Sharma | Publish: Aug, 05 2018 11:45:12 AM (IST) शिक्षा

कौशल उद्यमिता मंत्री जसवंत यादव की ओर से गठित कमेटी ने ४०० से ज्यादा आइटीआइ संस्थानों की मान्यता रद्द करने की सिफारिश कर दी है।

कौशल उद्यमिता मंत्री जसवंत यादव की ओर से गठित कमेटी ने ४०० से ज्यादा आइटीआइ संस्थानों की मान्यता रद्द करने की सिफारिश कर दी है, लेकिन निदेशक इस मामले में अभी तक चुप्पी साधे हैं। निदेशक ने दो माह बाद भी इन संस्थानों में कमियों को दूर कराने के लिए नोटिस तक जारी नहीं किया है। मंत्री भी मौन हैं। ऐसे में स्टाफ और संसाधनों के बिना चल रहे इन संस्थानों में अध्ययनरत छात्रों के भविष्य के साथ भी खिलवाड़ हो रहा है।

निदेशक की ओर से मान्यता रद्द किए जाने को लेकर एनसीवीटी को सिफारिश भेजनी थी, जो अभी तक नहीं भेजी गई है। इसके अलावा जिन संस्थानों में मामूली कमियां थी और उन्हें कमेटी ने हिदायत दी थी, उनको भी निदेशक ने अभी तक नोटिस नहीं दिए। जबकि मंत्री की ओर से गठित की गई दूसरी कमेटी नोटिस जारी कर पुन: जांच के लिए कह रही है, जो उसके अधिकार से ही बाहर है।

नोटिस जारी नहीं करने पर हो रहे सवाल खड़े, कहीं रफा-दफा तो नहीं कर रहे
आठ माह की जांच के बाद भी निदेशक की ओर से कार्रवाई के लिए नोटिस जारी नहीं करने को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। उधर, पहली कमेटी से जांच बीच में ही वापस लेकर दूसरी कमेटी को सौंपने के बाद से कमेटी ने जांच के लिए नोटिस जारी करना शुरू कर दिया है। जबकि सूत्रों की मानें तो नोटिस निदेशक ही जारी कर सकते हैं।

मंत्री जसवंत यादव की ओर से भी निदेशक ए.के. आनन्द को सख्त कार्रवाई करने के लिए नहीं कहा गया। ऐसे में संचालन के पर्याप्त संसाधन नहीं होने के बावजूद आइटीआइ संस्थान बच्चों को भर्ती कर कोर्स करा रहे हैं, जो बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। दूसरी बनाई नई कमेटी रेण्डम जांच के नाम पर पहले नोटिस जारी कर जांच के लिए कह रही हैं। कहा जा रहा है कि मामलों को अपने स्तर पर ही निपटाने के प्रयास भी चल रहे हैं। उधर, नोटिस जारी करने से संस्थान संचालक सचेत हो गए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned