scriptCongress national spokesperson Supriya Shrinet big attack on PM Modi | UP Assembly elections 2022: कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत का PM Modi पर बड़ा हमला | Patrika News

UP Assembly elections 2022: कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत का PM Modi पर बड़ा हमला

कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने वाराणसी में भाजपा पर फ़र्जी राष्ट्रवाद व सेना के शौर्य के नाम पर वोट हासिल कर सेना के हितों पर चोट करने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को इतिहास की अब तक की सबसे भ्रष्ट व विफल सरकार करार दिया। कहा कि ये सरकार सैन्य मोर्चे पर बुरी तरह से विफल साबित हुई है।

वाराणसी

Published: January 28, 2022 04:17:13 pm

वाराणसी. कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत,अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाज व वरिष्ठ कांग्रेस नेता विजेंद्र सिंह ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोद के संसदीय क्षेत्र में केंद्र की मोदी सरकार को जमकर घेरा। कांग्रेस नताओं ने भाजपा पर फ़र्जी राष्ट्रवाद व सेना के शौर्य के नाम पर वोट हासिल कर सेना के हितों पर चोट करने का आरोप लगाया। साथ ही नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को इतिहास की अब तक की सबसे भ्रष्ट व विफल सरकार करार दिया। कहा कि ये सरकार सैन्य मोर्चे पर बुरी तरह से विफल साबित हुई है। मीडिया से मुखातिब कांग्रेस नेताओं ने भारतीय सेना के शूरवीर सैनिकों के हितों व उन्हें पहले से दी जा रही सरकारी सुविधाओं व बजट में मोदी सरकार द्वारा की जा रही कटौती से जुड़ी एक पुस्तिका भी लोकार्पित की। इस पुस्तिका में मोदी सरकार की सेना से जुड़ी कारगुजारियों का पूरा चिट्ठा है ।
मीडिया से मुखातिब कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत
मीडिया से मुखातिब कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत
मैदागिन स्थित कांग्रेस कार्यालय ( राजीव भवन ) में मीडिया से मुखातिब पूर्व कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने भारत माता की संप्रभुता और सीमाओं की सुरक्षा करने वाले भारत मां की तीनों सेनाओं व अर्द्धसैनिक बलों के सपूतों को शत् - शत् नमन किया। उन्होंने कहा कि, जब भी हम अपनी सेनाओं को याद करते हैं, तब हमारा मस्तक गर्व से ऊंचा हो जाता है। मगर मोदी सरकार और भाजपा एक तरफ़ तो सेना की कुर्बानी और शौर्य का इस्तेमाल अपने राजनैतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए करती हैं, वहीं दूसरी ओर सेना और सैनिकों के हितों पर कुठाराघात करते हैं। उन्होंने कहा कि इसे हम सिलसिलेवार इस तरह देख सकते हैं...
ये भी पढें- वराणसी में कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय सहित अन्य नेताओं के घरों पर पुलिस का पहरा

पुस्तिका का विमोचन करते कांग्रेसजन1- सेनाओं में 1,22,555 पद खाली - देश की सुरक्षा से नाकाबिले माफ़ी समझौता
13 दिसंबर, 2021 को रक्षा मंत्रालय ने संसद को बताया कि तीनों सेनाओं में 1,22,555 पद खाली पड़े हैं, जिसमें से लगभग 10,000 पद सैन्य अधिकारियों के हैं।
2. OROP पर 30 लाख पूर्व सैनिकों से धोखा - ‘वन रैंक, वन पेंशन’ बनी ‘वन रैंक, पांच पेंशन’
कांग्रेस सरकार ने सन 2004 से 2012 के बीच तीन बार भूतपूर्व सैनिकों की पेंशन बढ़ाई, जिससे उन्हें ₹7,000 करोड़ का अतिरिक्त आर्थिक फायदा हुआ।
17.02.14 को कांग्रेस सरकार ने आदेश जारी कर 01.04.14 से OROP को मंज़ूर किया। इसमें तय किया कि एक समान समय तक सेवा करने के बाद एक ही रैंक से रिटायर होने वाले सभी सैनिकों को एक समान पेंशन दी जाए, फिर चाहे उनकी रिटायरमेंट की तारीख अलग-अलग क्यों न हो, और भविष्य में पेंशनवृद्धि का लाभ भी पुराने पेंशनधारकों को मिले।
कांग्रेस सरकार का 17.02.14 का OROP का आदेश नकारते हुए मोदी सरकार ने 07.11.15 को नया आदेश निकाल सेना के 30-40 प्रतिशत सैनिकों से OROPपूरी तरह से छीन लिया। आदेश में कहा कि इन तीनों सेनाओं में 01.07.14 के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले सैन्य कर्मियों को ‘वन रैंक, वन पेंशन’ नहीं मिलेगा।
सेना के अधिकतर जवान 17-18 साल की सेवा के बाद 40 साल की आयु तक रिटायर हो जाते हैं। OROP का लाभ उनको नहीं मिलेगा। क्या यह सच नहीं कि सेनाओं के 85 प्रतिशत कर्मी 38 साल की उम्र तक रिटायर हो जाते हैं और 10 प्रतिशत 46 वर्ष की आयु तक (Para 9 (iii), कोशियारी कमिटी रिपोर्ट)।
मोदी सरकार ने 30 लाख सैनिकों की पेंशन को हर साल रिवाईज़ करने की मांग को भी नकारकर इस समय अवधि को 5 साल कर दिया। OROP को ‘वन रैंक, वन पेंशन’ की बजाय ‘वन रैंक, पाँच पेंशन’ बना दिया।
3. पूर्व सैनिकों की स्वास्थ्य योजना (ECHS) सुविधाओं पर आघात
मौजूदा साल 2021-22 में पिछले साल के मुकाबले पूर्व सैनिकों का ECHS बजट ₹1990 करोड़ काट लिया।
ECHS बजट में कटौती का नतीजा यह है कि ‘ECHS के एम्पैनल्ड अस्पतालों में’ एरियर्स का भुगतान नहीं हो रहा, और नतीजतन रेफ़रल के बावज़ूद पूर्व सैनिकों और अधिकारियों का इलाज नहीं हो रहा।
इसे सिलसिकेवार इस तरह देखा जा सकता है -
विषय
-रिवाईज़्ड एस्टिमेट 2019-20 (करोड़ में)
-रिवाईज़्ड एस्टिमेट 2 020-21 (करोड़ में)
-बजट एस्टिमेट 2021-22 (करोड़ में)
ECHS में पैसा मांगा
6,781 रुपये
6,054 रुपये
5,643 रुपये
बजट अलॉट हुआ
4,872 रुपये
5,352 रुपये
3,332 रुपये
4. CSD कैंटीन में सामान खरीद पर लगाई पाबंदियां व जड़ा जीएसटी
मोदी सरकार ने सेना के CSD कैंटीन से वस्तुओं की खरीद पर अधिकतम सीमा ₹10,000 प्रतिमाह निर्धारित कर दी है। इतना ही नहीं, CSD कैंटीन के माध्यम से अब 10 साल की सेवा के बाद ही पहली कार खरीद पाएंगे। रिटायर होने तक CSD कैंटीन से कोई कार नहीं खरीद सकते। रिटायरमेंट के बाद भी पूरी जिंदगी में CSD कैंटीन से केवल एक कार खरीद सकते हैं, और वो भी 1800सीसी से कम इंजन क्षमता वाली।
2017 में मोदी सरकार ने CSD कैंटीन में बिकने वाले सामान की आधी कीमत पर जीएसटी देने का प्रावधान भी जड़ दिया है। जबकि जीएसटी लागू होने से पहले पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड जैसे राज्यों में CSD कैंटीन पर वैट पूरी तरह से माफ था।
5. मोदी सरकार ने सैनिकों की ‘डिसएबिलिटी पेंशन’ पर टैक्स लगाया
अगर कोई सैनिक सेवा में रहते घायल होने पर समय से पहले रिटायरमेंट लेता है, तो वह डिसएबिलिटी पेंशन का हक़दार होता है। मोदी सरकार ने 24 जून, 2019 से सैनिकों की इस पेंशन पर भी बेशर्मी से टैक्स लगा दिया। सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा सरकार के इस आदेश पर रोक लगा दी, मगर बेशर्मी से मोदी सरकार आज भी यह केस सुप्रीम कोर्ट में सैनिकों के खिलाफ़ लड़ रही है।
6. सातवें वेतन आयोग में सेनाओं से सौतेला व्यवहार - मोदी सरकार ने मुँह मोड़ा
सातवें वेतन आयोग में डिफ़ेंस पे मैट्रिक्स में केवल 24 पे लेवल निर्धारित किए गए, जबकि सिविलियन सेवाओं में पे मैट्रिक्स में 40 लेवल हैं। नतीजा यह है कि सैनिकों व अधिकारियों की पेंशन सिविल एम्प्लॉईज़ से लगभग 20,000 रु. कम निर्धारित होती है।
भारत सरकार के अतिरिक्त सचिव को 60,000 रुपये डिसएबिलिटी पेंशन मिलती है, पर सेना के लेफ़्टिनेंट जनरल को 27,000 रुपये डिसएबिलिटी पेंशन मिलती है। बराबरी की मांग के बावजू़द इसे दरकिनार कर दिया गया।
दुनिया की सबसे ऊंची सैन्य पोस्टिंग ‘सियाचिन ग्लेशियर’ पर सैनिकों को 31,500 रुपये मासिक ‘रिस्क अलाउंस’ मिलता है। इसके विपरीत, ऑल इंडिया सर्विसेस के सिविलियन एम्प्लॉईज़ को सामान्य परिस्थितियों से दूर नियुक्ति पर तनख़्वाह का 30 प्रतिशत हिस्सा ‘हार्डशिप अलाउंस’ मिलता है। उदाहरण के तौर पर, सैनिकों को सियाचिन ग्लेशियर पर 31,500 रुपये मासिक ‘रिस्क व हार्डशिप अलाउंस’ परंतु IAS अधिकारी को गुवाहाटी में नियुक्ति पर 70,000 मासिक ‘हार्डशिप अलाउंस’।
लेह-लद्दाख में नियुक्त फ़ौज के ब्रिगेडियर को वहां नियुक्ति पर मासिक 17,000 रुपये अतिरिक्त अलाउंस मिलेगा, पर सिविलियन एम्प्लॉईज़ को लेह-लद्दाख में नियुक्ति पर 50,000 रुपये अतिरिक्त अलाउंस मिलेगा। भाजपा द्वारा फ़ौज की अनदेखी की यह इंतहा है।
7- ‘शॉर्ट सर्विस कमीशन’ सैन्य अधिकारियों को मिलिट्री अस्पताल में इलाज से वंचित किया
जो सैनिक ‘शॉर्ट सर्विस कमीशन’ के माध्यम से देश की सेवा में योगदान देते हैं, पहले उन्हें आजीवन मिलिट्री अस्पताल में मुफ़्त इलाज की सुविधा थी। मगर अब मोदी सरकार ने इस पर रोक लगा दी। और यह शर्त लगा दी कि वे बाहर से इलाज कराएं और रिइम्बर्समेंट बेसिस पर आधा ही भुगतान पाएं। अधिकतर समय यह भुगतान भी लालफ़ीताशाही की बलि चढ़ जाता है।
8. तीनों सेनाओं के सैन्य अधिकारियों को ‘‘नॉन-फंक्शनल अपग्रेड’’ (NFU) से वंचित किया
सिविलियन सेवाओं में सभी अधिकारियों को
‘नॉन-फंक्शनल अपग्रेड की सुविधा है, यानि अगर एक बैच का आईएएस या आईपीएस या अन्य अधिकारी तरक्की पाकर अगला पे स्केल ले लेता है, तो उस बैच के सभी अधिकारियों को वही पे स्केल मिलेगा। परंतु तीनों सेनाओं के सैन्य अधिकारियों को बार-बार मांग उठाने के बावजूद इससे वंचित कर दिया गया है, जिससे सेनाओं में भारी निराशा है।
मोदी सरकार ने ऐसा ही दुर्व्यवहार अर्द्धसैनिक बलों के अधिकारियों से भी किया था, मगर वो अधिकारी सुप्रीम कोर्ट गए और वहां से उन्हें राहत मिल गई। मगर मोदी सरकार की नालायकी और फ़ौज विरोधी चेहरा देखिए, वह अब भी तीनों सेनाओं के सैन्य अधिकारियों को नॉन-फंक्शनल अपग्रेड नहीं दे रही।
9- पूर्व सैनिकों के पुनर्वास की सुविधाओं का रास्ता रोका
कांग्रेस सरकारों में पूर्व सैनिकों, उनकी विधवाओं, सेवा में चोटिल हो सेवानिवृत्त हुए सैनिकों को प्राथमिकता से पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, कोयला लदान, ट्रांसपोर्ट कॉन्ट्रैक्ट, सरकारी सिक्योरिटी कॉन्ट्रैक्ट्स में प्राथमिकता दी जाती थी। मोदी सरकार के कार्यकाल में ये सुविधाएं लगभग खत्म हो गई हैं। निजीकरण के कारण पेट्रोलियम कंपनियां ऐसा आरक्षण देती ही नहीं तथा सरकारी कंपनियों ने भी धीरे-धीरे यह सुविधा बंद कर दी है। कोल इंडिया लिमिटेड की सभी खदानों में कोयला लदान व ट्रांसपोर्टेशन का काम पूर्व सैनिकों के लिए आरक्षित था, पर अब इसे भी खत्म कर दिया गया है। यही हाल टोल प्लाज़ा व ज्यादातर सरकारी कॉन्ट्रैक्ट का है।
10 - अर्द्धसैनिक बलों के साथ सौतेला व्यवहार
देश-सेवा में कुर्बान होने वाले अर्द्धसैनिक बलों, CRPF, BSF, ITBP, CISF, SSB, Coast Guard आदि के जवानों को मोदी सरकार ‘शहीद’ का दर्जा नहीं देती। न तो परिवारों को मुआवज़ा मिलता और न सरकारी नौकरी।
कांग्रेस सरकार ने 23 नवंबर, 2012 को सभी अर्द्धसैनिक बलों को "Ex Central Armed Police Force Personnel" चिन्हित करते हुए केंद्रीय व प्रांतीय सरकारों को आदेश जारी किया कि CRPF, BSF, ITBP, SSB, CISF, Coast Guard के सभी रिटायर्ड अधिकारियों को तीनों सेनाओं के समान एक्स सर्विसमैन की सभी सुविधाएं दी जाएं। परंतु केंद्र की मोदी सरकार व प्रांतीय भाजपा सरकारों ने इसकी अनदेखी की।
1800 से अधिक सेंट्रल पुलिस कैंटीन 10 लाख अर्द्धसैनिक बलों के सेवारत कर्मियों व 50 लाख के करीब उनके परिवारों को सुविधा देती है। मोदी सरकार ने सेंट्रल पुलिस कैंटीन पर पूरा जीएसटी लगा दिया तथा तीनों सेनाओं की तरह उन्हें आधे जीएसटी की छूट की भी सुविधा नहीं दी । पत्रकारवार्ता के अंत मे कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि अतः सवाल यह करते हैं - जो सेना को देते हैं धोखा, क्यों उन्हें कोई देगा मौका ?
पत्रकार वार्ता से वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व विधायक अजय राय ने कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत व कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजीव गौतम ने अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाज व वरिष्ठ कांग्रेस नेता विजेंदर सिंह को अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलसेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेसIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: राजस्थान ने गुजरात को जीत के लिए दिया 189 रनों का लक्ष्य'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'नवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.