West Bengal Election Results 2021: प. बंगाल हर हाल में रचेगा इतिहास, ममता के सिर तीसरी बार सजेगा ताज या भाजपा खिलाएगी कमल ?

West Bengal Election Results 2021: क्या वहां ममता दीदी तीसरी बार जीत का डंका बजाने जा रही हैं या पहली बार भाजपा कमल खिलाएगी? परिणाम किसी के पक्ष में भी जाए, बंगाल नया इतिहास रचने जा रहा है।

By: विकास गुप्ता

Published: 02 May 2021, 10:13 AM IST

नई दिल्ली। West Bengal Election Results 2021: रविवार सुबह आठ बजे से पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल व पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव Assembly election results 2021 की मतगणना vote Counting शुरू हो गई। इंतजार है कि कौन, कहां जीत का परचम फहराता है। खास नजर पश्चिम बंगाल पर है। क्या वहां ममता दीदी mamta banerjee तीसरी बार जीत का डंका बजाने जा रही हैं या पहली बार भाजपा BJP कमल खिलाएगी? परिणाम किसी के पक्ष में भी जाए, बंगाल नया इतिहास रचने जा रहा है।

Kerala Election Results 2021 Live Updates: सीएम पी विजयन धर्मदाम और पलक्कड़ से मेट्रो मैन ई श्रीधरन आगे

ममता दीदी जीतंी तो पश्चिम बंगाल की सत्ता संभालने के साथ दिल्ली में भी विपक्षी राजनीति का नया केंद्र बनकर उभरेंगी। अंतर्कलह से जूझ रही कांग्रेस भले मुख्य विपक्षी दल की भूमिका में रहे, लेकिन गैर-कांग्रेसी विपक्ष की राजनीति ममता बनर्जी के इर्द-गिर्द घूमती नजर आएगी।

West Bengal Election Results 2021 Live Updates: नंदीग्राम में बड़ा उलटफेर, ममता बनर्जी 4457 वोटों से पीछे

भाजपा से अकेले मोर्चा लेकर ममता ने मतदाताओं का भरोसा जीता तो किसान आंदोलन की धार फिर तेज हो सकती है। कोरोना की दूसरी लहर से निपटने में केंद्र सरकार की विफलता की आवाज और मुखर होने के पूरे आसार हैं। इस सूरत में ममता दीदी के नेतृत्व में भाजपा को टक्कर देने के लिए विपक्षी दलों के मोर्चे की संभावना भी बनती है। भाजपा के साथ रहे कुछ दल भी इस मोर्चे के साथ जुड़ सकते है। इसके विपरीत अगर भाजपा पश्चिम बंगाल के किले में सेंध लगाने में सफल हो जाती है तो यह नरेंद्र मोदी - अमित शाह की सफलता को नए शिखर पर पहुंचाने वाला होगा। केंद्र की राजनीति में भाजपा को नई ऑक्सीजन तो मिलेगी ही, साथ ही यूपी समेत अन्य राज्यों में होने वाले चुनाव में उसके लिए संभावनाएं मजबूत होंगी।

नए समीकरणों की संभावना-
पश्चिम बंगाल के नतीजे शिवसेना, अकाली दल, वाइएसआर कांग्रेस, बीजू जनता दल और टीआरएस जैसे दलों के लिए चुनावी गठजोड़ के नए अवसर खोलने वाले होंगे। दिल्ली के साथ राज्यों की राजनीति में नए समीकरणों के बनने-बिगडऩे की संभावनाएं तेज होंगी।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned