scriptYoung man died in hospital and alive in post mortem | लापरवाही: अस्पताल में मौत और पोस्‍टमार्टम रूम का स्‍टाफ बोला- यह तो जिंदा है | Patrika News

लापरवाही: अस्पताल में मौत और पोस्‍टमार्टम रूम का स्‍टाफ बोला- यह तो जिंदा है

सीएमएस डॉ राजेश अग्रवाल का कहना है कि अस्पताल में वेंटिलेटर की सुविधा तो है, लेकिन उसे ऑपरेट करने के लिए कोई कर्मचारी नहीं है।

एटा

Published: December 02, 2021 12:17:31 pm

एटा. यूपी के एटा जिले में एक रोड़ एक्सिडेंट में युवक घायल हो गया। कई घंटों तक युवक मौत से जंग लड़ता रहा, लेकिन आखिर वेंटिलेटर नहीं मिलने से वो जंग हार गया। हुआ यूं कि एक युवक सड़क हादसे में घायल हो गया। जिसे अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर शव को पोस्मार्टम हाउस भेज दिया। वहां पहुंचने पर परिजनों ने देखा कि मृत युवक की सांसे चल रही थी, जिसके बाद उसे लेकर इमरजेंसी पहुंचे तो वेंटिलेटर न होने के कारण उसे अलीगढ़ ले जाना पड़ा। लेकिन रास्ते में ही युवक की मौत हो गई।
shav.jpeg
यह भी पढ़ें

Weather Update: दिसंबर में बढ़ती जाएगी ठंड, छाए रहेंगे बादल

कोतवाली देहात इलाके के ग्राम नगला पुड़िहार निवासी 27 वर्षीय सोनू यादव मंगलवार की रात एटा में भर्ती एक मरीज के देखने के बाद बाइक से वापस अपने गांव लौट रहा था। रास्ते में बाइक किसी गाड़ी से टकरा गई और घायल सोनू को मेडिकल कॉलेज लाया गया। हालत गंभीर देख डॉक्टरों ने आगरा रेफर कर दिया। जिसके बाद उसे आगरा के रामबाग स्थित कृष्णा अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टर ने बुधवार को सुबह सोनू को मृत घोषित कर दिया।
पोस्टमार्टम हाऊस में महसूस हुई धड़कन

जिसके बाद मृतक सोनू के रिश्तेदार के शव को लेकर साढ़े 11 बजे एटा मेडिकल कॉलेज के पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। वहां कर्मचारियों को शव के दिल की धड़कन महसूस हुई और यह सुनते ही रिश्तेदार तुरंत सोनू को लेकर अस्पताल के इमरजेंसी पहुंचे।
रास्ते में हुई मौत

सोनू को लेकर अस्पताल के इमरजेंसी लेकर पहुंचे परिजनों से डॉक्टर ने कहा कि उसे वेंटिलेटर की जरूरत है और लेकिन वहां पर ये सुविधा नहीं है। लिहाजा उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया। परिजन सोनू को अलीगढ़ ले जा रहे थे और रास्ते में उसकी मौत हो गई। इसके बाद फिर परिजन शव को लेकर पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे।
वेंटिलेटर होता तो बच जाती भाई की जान

मृतक सोनू के भाई संदीप का कहना है कि सोनू नोएडा के एक रेस्टोरेंट में मैनेजर था। मेडिकल कॉलेज में अगर वेंटिलेटर की सुविधा रहती तो शायद उनके भाई की जान बच जाती। सीएमएस डॉ राजेश अग्रवाल का कहना है कि अस्पताल में वेंटिलेटर की सुविधा तो है, लेकिन उसे ऑपरेट करने के लिए कोई कर्मचारी नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP assembly elections 2022: अखिलेश के वादाखिलाफी पर फूट-फूट कर रोई पूर्व मंत्री की पत्नी शमा वसीम, सपा पर भारी पड़ सकता है आंसूWeather News- दो दिन बाद मिलेगी सर्दी से राहत, तापमान में होगी बढ़ोतरीस्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- अभी कोरोना का खतरा बरकरार, 11 राज्यों में 50 हजार से ज्यादा एक्टिव केस, संक्रमण दर 17.75 फीसदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.