G-20 की बैठक में डि़जिटल टैक्स का किया गया समर्थन, निर्मला सीतारमण ने ट्वीट कर की वकालत

  • जी-20 की बैठक में डिजिटल टैक्स का किया गया समर्थन
  • फेसबुक, गूगल से टैक्स वसूलने पर अमेरिका को छोड़ अन्य जी-20 देश सहमत
  • निर्मला सीतारमण ने भी ट्वीट कर डिजिटल टैक्स की वकालत की

By: Shivani Sharma

Published: 08 Jun 2019, 07:07 PM IST

नई दिल्ली। जी-20 समूह देशों के शीर्ष वित्त अधिकारी शनिवार को इस बात पर सहमत हुए कि गूगल और फेसबुक जैसी बड़ी इंटरनेट कंपनियों पर टैक्स लगाने के लिए जल्दी एक वैश्विक प्रणाली की जरूरत है। इस प्रणाली को लेकर कई देशों ने अफनी सहमति जताई है, लेकिन अमरीका इस बदलाव से खुश नहीं है। वहीं, जापान के फुकुओका शहर में शनिवार को जी-20 देशों के वित्त प्रमुखों ने फेयर टैक्स लागू करने का एकसुर में समर्थन किया।


बड़ी कंपनियों से वसूला जाना चाहिए ज्यादा टैक्स

आपको बता दें कि जी-20 समूह देशों ने यह काम आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) को सौंपा है। उससे कहा गया है कि वह प्रणाली को ठीक करें। इसके साथ ही जापान के लोगों का मानना है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए बड़ी कंपनियों से राजस्व के आधार पर टैक्स वसूला जाना चाहिए। इस टैक्स से काफी देशों को फायदा होगा।


ये भी पढ़ें: देश में हर दिन घट रही ATM की संख्या, पिछले दो सालों में गायब हुईं 597 एटीएम मशीनें


निर्मला ने किया ट्वीट

इस सिस्टम पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि भारत सरकार के कर से बचने के लिए कई कंपनियां नए-नए तरीके अपना रही हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैठक में बड़ी डिजिटल कंपनियों की टैक्स चोरी का मुद्दा उठाते हुए इसके लिए बेहतर और कारगर कानून बनाने की वकालत की। वह जापान के फुकुओका में जी-20 के वित्त मंत्रियों की बैठक के दौरान अंतरराष्ट्रीय कराधान पर संगोष्ठी को संबोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही। वित्त मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए कहा कि, 'कर बचाव और कर अपवंचना से निपटने के लिए भारत सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया।'

 

g20

फ्रांस के वित्त मंत्री ने दी जानकारी

इस मसले पर एक चर्चा में फ्रांस के वित्त मंत्री ब्रूनो ला माइरे ने कहा, 'हमें जल्दी करना होगा।' वहीं ब्रिटेन के वित्त मंत्री फिलिप हैमंड ने कहा कि बड़ी इंटरनेट कंपनियों पर सही से टैक्स लगाना एक तरह से हमारी कर प्रणाली में हमारी जनता के साथ होने वाले अन्याय का जवाब होगा।


ये भी पढ़ें: अमरीका और चीन के बीच सुधर सकते हैं संबध, 28 जून को शी जिनपिंग के साथ बैठक करेंगे डोनाल्ड ट्रंप


कई देशों में बड़ी कंपनियां उठा रही हैं लाभ

इसके साथ ही कुछ लोगों ने जानकारी देते हुए बताया कि बड़ी कंपनियां आयरलैंड जैसे देशों में कम टैक्स होने का लाभ उठा रही हैं और उन देशों में टैक्स के तौर पर कुछ भी नहीं दे रही हैं, जहां वह बड़ा लाभ कमा रही हैं। ओईसीडी के प्रमुख एंजेल गुरिया यहां जी-20 समूह देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के प्रमुखों की बैठक के दौरान बोल रहे थे। यह बैठक शनिवार से शुरू हुई और रविवार तक चलेगी।


इस समय सभी लोग बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं

जापान के वित्त मंत्री तारो आसो ने जानकारी देते हुए बताया कि हम सभी इस समय बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। फेयर टैक्स लागू करना पिछले 100 वर्षों के दौरान अंतरराष्ट्रीय ढांचे में बड़ा सुधार होगा। यह नियम हर देश की सरकार को बड़ा राजस्व कमाने वाली अमेजन, फेसबुक जैसी कंपनियों से अपना कानूनी हिस्सा लेने का अधिकार देगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook .com/patrikahindinews">Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें google .com/store/apps/details?id=com.vserv.rajasthanpatrika">patrika Hindi News App.

finance minister
Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned