आखिर कहां हैं देश के 10 हजार करोड़ रुपए, पिछले दो साल से हैं गायब

आखिर कहां हैं देश के 10 हजार करोड़ रुपए, पिछले दो साल से हैं गायब

Saurabh Sharma | Publish: Aug, 30 2018 09:22:54 AM (IST) फाइनेंस

देश में करीब दो सालों से 10 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए गायब है। यह बात हम नहीं बल्कि आरबीआई कह रही है। बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, विमुद्रित मुद्रा में से 10,700 करोड़ रुपए वापस बैंकिंग प्रणाली में नहीं लौटे हैं।

नर्इ दिल्ली। देश में करीब दो सालों से 10 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए गायब है। यह बात हम नहीं बल्कि आरबीआई कह रही है। बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, विमुद्रित मुद्रा में से 10,700 करोड़ रुपए वापस बैंकिंग प्रणाली में नहीं लौटे हैं। इस धनराशि की जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की सालाना रपट के आधार पर, आठ नवंबर, 2016 को घोषित नोटबंदी से पूर्व चलन में रहे विमुद्रित नोटों की 15.42 लाख करोड़ रुपये की राशि में से वापस बैंकिंग प्रणाली में लौटी 15.31 लाख करोड़ रुपये की राशि को घटाने के बाद सामने आई है।

ये भी पढ़ेंः- जन्मदिन विशेषः मरने के बाद भी 500 करोड़ से ज्यादा कमाता है दुनिया का सबसे बड़ा पाॅप स्टार

पिछले साल के मुकाबले इस साल पकड़े गए ज्यादा नकली नोट
रिर्पोट में 500 रुपए और 1000 रुपए के लापता नोटों के लिए एक आंशिक विवरण दिया गया है कि आरबीआई में जितने नकली नोट पकड़े गए हैं, उनकी हिस्सेदारी 2016-17 के दौरान के 4.3 फीसदी की तुलना में 2017-18 के दौरान 36.1 फीसदी के साथ काफी अधिक है। रिर्पोट में कहा गया है कि ऐसा नोटंबदी के जरिए चलन से वापस लिए गए बैंक नोटों की एक बड़ी मात्रा के प्रसंस्करण के कारण है।

ये भी पढ़ेंः- डीजल की कीमत में दिखा रुपए की एेतिहासिक गिरावट का असर, 19 पैसे तक बढ़े दाम

इस दिन हुर्इ नोटबंदी
देश में नोटबंदी की घोषणा देश पर पड़ा सबसे बड़ा वज्र प्रहार था। जो देश के पीएम ने 8 नवंबर 2016 को रात 8 बजे नेशनल टेलीविजन से किया था। जिसके बाद देश के लोगों को 50 दिन का समय दिया गया था पुराने नोटों को बैंकों में जमा कराने के लिए। देश के एटीएम की लाइनों में था। उस दौरान के देश के एटीएम की लाइनों के बाहर कर्इ लोगों ने दम तोड़ दिया था। वहीं पहले आरबीआर्इ ने 2000 रुपए का नया नोट देश के सामने लेकर आएै। उसके बाद 500 रुपए, 200 रुपए, 50 रुपए आैर उसके बाद 10 रुपए का नया नोट सामने आया है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned