निधन से पहले माराडोना की देखभाल नहीं की गई: रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि माराडोना का मेडिकल, नर्सिंग और चिकित्सीय स्टाफ द्वारा सही तरीके से निगरानी नहीं किया गया।

By: Mahendra Yadav

Published: 01 May 2021, 05:32 PM IST

अर्जेंटीना के दिवंगत फुटबॉलर डिएगो माराडोना के निधन के बाद विशेषज्ञ आयोग ने उनके डॉक्टरों और नर्सों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। ला नेसियन न्यूजपेपर्स ने शुक्रवार को एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें कहा गया है कि डिएगो माराडोना की चिकित्सा टीम का आचरण अपर्याप्त, कमी और असंगत था। रोगी को उनकी किस्मत पर छोड़ दिया गया था। माराडोना का 60 साल की उम्र में पिछले साल निधन हो गया था। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यह निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता है कि स्टार फुटबॉलर की बेहतर चिकित्सा सुविधा के अभाव में मौत हुई, लेकिन कम से कम उनके पास जीवित रहने का बेहतर मौका था।

घर पर ठीक हो रहे थे
रिपोर्ट के अनुसार, 1986 का विश्व कप विजेता टीम के सदस्य माराडोना अपने घर पर ठीक हो रहे थे क्योंकि डॉक्टरों ने उनके मस्तिष्क में खून का थक्का हटा दिया था। विशेषज्ञों की रिपोर्ट के अनुसार, माराडोना की मौत देखभाल में कमियों और अनियमितताओं के कारण हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि माराडोना का मेडिकल, नर्सिंग और चिकित्सीय स्टाफ द्वारा सही तरीके से निगरानी नहीं किया गया।

यह भी पढ़ें— अब कोरोना वॉरियर्स संभालेंगे भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री का ट्विटर अकाउंट

पिछले साल नवंबर में हुआ था निधन
बता दें कि डिएगो माराडोना का निधन पिछले साल नवंबर माह में हुआ था। माराडोना के निधन पर अर्जेंटीना की सरकार ने 3 दिन के राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया था। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी डिएगो माराडोना के निधन पर शोक जताया था। उन्होंने सोशल मीडिया पर माराडोना को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा था कि डिएगो माराडोना फुटबॉल के एक जादूगर थे, जिन्होंने वैश्विक लोकप्रियता का आनंद लिया। अपने पूरे करियर के दौरान उन्होंने हमें फुटबॉल के मैदान पर कई बेहतरीन खेल के लम्हें दिए। उनके असामयिक निधन ने हम सभी को दुखी किया है। उनकी आत्मा को ईश्वर शांति दे।

यह भी पढ़ें— टोक्यो ओलंपिक के लिए महिला फुटबॉल के मुकाबले घोषित

माराडोना के रिकॉर्ड
मैराडोना को 'फुटबॉल का भगवान' भी कहा जाता है। माराडोना ने अपनी कप्तानी में 1986 में अर्जेंटीना को फीफा वर्ल्ड कप जिताने में अहम योगदान दिया था। मैराडोना के नाम वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा मैच में कप्तानी करने का रिकॉर्ड है। माराडोना ने वर्ल्ड कप में 16 मैच में कप्तानी की थी। उन्होंने 1982 से 1994 तक अर्जेंटीना के लिए 4 वर्ल्ड कप खेले थे। 1986 में उन्होंने गोल्डन बॉल अवॉर्ड जीता था। टूर्नामेंट में माराडोना को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned