Hariyali Amavsya 2019: 125 साल बाद हरियाली अमावस्‍या पर पड़ेगा पंच महायोग, धन लाभ के लिए लगाएं यह पौधा

Hariyali Amavsya 2019: 125 साल बाद हरियाली अमावस्‍या पर पड़ेगा पंच महायोग, धन लाभ के लिए लगाएं यह पौधा

sharad asthana | Publish: Jul, 20 2019 03:28:44 PM (IST) Ghaziabad, Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

  • 1 अगस्‍त 2019 यानी गुरुवार को पड़ेगी Hariyali Amavsya
  • Hariyali Amavsya पर पौधारोपण का है विशेष महत्‍व
  • हरियाली अमावस्या पर पितरों को भी कर सकते हैं प्रसन्‍न

गाजियाबाद। भगवान शिव का प्रिय माह सावन ( sawan ) 17 जुलाई 2019 से शुरू हो चुका है। अब 22 जुलाई 2019 को सावन का पहला सोमवार ( sawan ka pahla somwar ) पड़ेगा। सावन माह ( sawan month ) में इस बार हरियाली अमावस्या ( Hariyali Amavsya 2019 ) 1 अगस्‍त 2019 यानी गुरुवार को पड़ेगी। इस दिन पंच महायोग का संयोग बनेगा।

17 जुलाई से शुरू हो चुका है Sawan

17 जुलाई 2019 से सावन माह ( Sawan Month ) शुरू हो चुका है। इसके साथ ही कांवड़ यात्रा ( Kanwar Yatra 2019 ) भी शुरू हो चुकी है। इस बार 2019 में हरियाली अमावस्या ( Hariyali Amavsya 2019 ) 1 अगस्‍त 2019 को है। दूधेश्वर नाथ मंदिर ( Dudheshwar Nath Mandir ) के महंत नारायण गिरी जी महाराज का कहना है कि इस बार हरियाली अमावस्या ( Hariyali Amavsya 2019 ) पर पंच महायोग का संयोग बनेगा। यह संयोग लगभग 125 साल बाद पड़ रहा है। इस दिन सिद्धि योग, शुभ योग, गुरु पुष्यामृत योग, सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग का संयोग है। इसमें सभी देवी-देवताओं और मां पार्वती की पूजा करने से मनोवांछित फल मिलता है।

यह भी पढ़ें: 22 जुलाई को है Sawan का पहला Somwar, 150 साल बाद बन रहे दुर्लभ योग में ऐसे दूर करें राहु दोष

31 जुलाई से प्रारंभ हो जाएगी अमावस्‍या तिथि

पुजारी बद्री शर्मा का कहना है क‍ि अमावस्‍या तिथि का प्रारंभ 31 जुलाई को सुबह 11.57 बजे से होगा, जो 1 अगस्त को प्रात: 8.41 बजे तक रहेगा। इस दिन पौधरोपण का विशेष महत्‍व है। शास्‍त्रों में कहा गया है क‍ि वृक्षों में देवी-देवताओं का वास होता है इसलिए इस दिन एक पौधा जरूर लगाना चाहिए। साथ ही हरियाली अमावस्या ( Hariyali Amavsya 2019 ) पर पितरों को भी प्रसन्‍न कर सकते हैं। इसे पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। उनके अनुसार, इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करने के बाद पंडित से पितरों के निमित्त तर्पण, पिंडदान और श्राद्धकर्म करें। इस दिन रात में नदी किनारे दीपदान का बड़ा महत्व है। इससे पितृदोष से मुक्ति मिलती है।

यह भी पढ़ें: Kanwar Yatra 2019 की वजह से इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल

शिवलिंग पर जल चढ़ाएं

उनका कहना है क‍ि इस दिन दोपहर 12 बजे से पहले पीपल के पेड़ की 21 परिक्रमा करते हुए जल चढ़ाएं। साथ ही मौली के 21 फेरे बांधें। इसके बाद सूर्यास्त से पहले पीपल के पेड़ के नीचे आटे से पांच दीपक बनाकर जलाने से धन संबंधी समस्या समाप्त हो सकती है। सर्पदोष और शनि की दशा का प्रभाव कम करने के लिए हरियाली अमावस्या ( Hariyali Amavsya 2019 ) के दिन शिवलिंग पर जल और पुष्प चढ़ाएं। इसके अलावा रोग से छुटकारे के लिए नीम का पेड़, सुख की प्राप्ति के लिए तुलसी का पौधा, संतान प्राप्ति के लिए केले का वृक्ष और धन संपदा के लिए आंवले का पौधा लगाएं।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned