एक मंदिर जिसमें नहीं जा सकते मुसलमान

मुस्लिमों पर राेक की वजह भी काफी दिलचस्प है

गाजियाबाद। भारत में कहने के लिए सभी धर्म एक समान हैं। सभी एक दूसरे धर्म के मंदिर मस्जिद और गुरूद्वारों में आ जा सकते हैं। लेकिन एनसीआर में एक मंदिर ऐसा भी है जहां पर मुस्लिम समाज के लोगों का प्रवेश पूरी तरीके से वर्जित है। मंदिर के मंहत की तरफ से मुस्लमानों के अंदर न आने के लिए गेट के बाहर बोर्ड लगाया गया है। जिस पर साफ लिखा गया है कि ये तीर्थ हिंदूओं का पवित्र स्थल है, यहां मुसलमान का प्रवेश वर्जित है।   



हिंदू धर्म की महिलाओं और युवतियों के साथ होती है अभ्रदता

डासना देवी मंदिर के मंहत यति नरसिम्हा नंद सरस्वती के अनुसार यहां पर मां चंडी की पूजा अर्चना करने के लिए आने वाले लोगों के साथ में मुस्लिम समाज के युवक अभ्रदता करते हैं। वो हिंदू युवतियों को लव जिहाद के जरिए फंसाने की कोशिश करते हैं। अपने समाज को बचाने के लिए और ऐसे असमाजिक तत्वों पर काबू पाने के लिए मंदिर के बाहर ये बोर्ड लगाया गया है। ऐसे किसी भी शख्स को हम यहां घूसने नहीं देते।



नहीं लगता डर

डासना मसूरी इलाका मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है। इसके बावजूद हिंदू स्वाभिमान के संयोजक यति नरसिम्हा नंदर सरस्वती ने मुस्लिम समाज के लोगों के मंदिर में आने पर रोक लगा रखी है। उनके मुताबिक संगठन हिन्दूओं को सशक्त कर रहा है। किसी भी विपदा की स्थिति में एक आवाज पर हजारों हिन्दू यहां एकजुट हो जाएगें।



हजारों साल पुराना है इतिहास

डासना देवी मंदिर पौराणिक समय से महाभारत के इतिहास से जुड़ा हुआ है। बताया जाता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने माता कुंती के साथ में यहां कुछ समय बिताया था। इस मंदिर पर जब हमला हुआ था तो यहां पर देवी देवातओं की मूर्तियों को मंदिर परिसर में बने एक तालाब में छिपा दिया गया था।

बताया जाता है कि बहुत समय बाद स्वामी जगदगिरी महाराज को माता ने सपने में दर्शन दे कर तालाब में मूर्ति की बात से अवगत कराया और पुनः स्थापना के लिए आदेश दिया। जिसके बाद तालाब से मूर्ति को निकाल कर पुनःप्राण प्रतिष्ठा कर स्थापित  कराया गया।



मंदिर की मान्यता

ऐसी मान्यता है कि महाभारत काल में माता कुंती के साथ पांडवों ने लाक्षागृह से निकलने के बाद यहां रुके थे। रामायण काल में भगवान परशुराम ने इस मन्दिर में शिवलिंग की स्थापना की थी।
Show More
sandeep tomar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned