Raksha Bandhan: भारत-चीन के बीच तनाव का रक्षाबंधन पर भी असर, इस बार चीनी राखियों का बहिष्कार

Highlights:

-भारत-चीन के बीच चल रहा तनाव

-देशवासियों ने चीनी सामान का किया बहिष्कार

-रक्षाबंधन पर भी करेंगे चीनी राखियों का बहिष्कार

By: Rahul Chauhan

Updated: 22 Jul 2020, 04:56 PM IST

गाजियाबाद। भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे तनाव के बाद देशवासियों ने चीन में बनी वस्तुओं का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इसका असर अगामी रक्षाबंधन को लेकर भी देखने को मिल रहा है। कारण, इस बार बाजार से चीन में बनी राखियां गायब हैं।

यह भी पढ़ें: तेज बारिश के चलते गंगा में बहकर आए 5 बारहसिंघा, इस तरह किए गए रेस्क्यू

जनपद के घंटाघर इलाके में रहने वाले राखी विक्रेता राजेश बंसल और आलोक कुमार ने बताया कि उनकी दुकान पर हर साल बड़ी मात्रा में चाइना से बनी हुई राखी आती थी और लोग उन्हें बेहद पसंद भी करते थे। लेकिन इस बार लोगों के द्वारा चीन के सामान का जमकर विरोध किया जा रहा है। इसलिए अबकी बार वह थोक में चीन की बनी राखियां नहीं लाए हैं और उनकी दुकान पर अब हिंदुस्तानी राखी ही नजर आ रही हैं। इन राखियों को सभी लोग पसंद भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: बायो डीजल पंप में लगी भीषण आग, 3 कर्मचारी झुलसे, दिखा खौफनाक मंजर

उन्होंने कहा कि आम लोगों के साथ-साथ उन्हें भी चीन के खिलाफ बेहद गुस्सा है और वह खुद भी अब चीन का माल बेचना पसंद नहीं कर रहे हैं। उधर, प्रताप विहार में रहने वाली तान्या प्रेरणा और अंशिका का कहना है कि जिस तरह से चीन ने भारतीय सैनिकों पर हमला किया। हर किसी के मन में चीन के खिलाफ बेहद गुस्सा भरा है। अब चीन से बना हुआ सामान कोई भी नहीं खरीदना चाहता। इस बार रक्षाबंधन पर सिर्फ देश में बनी राखियों का उपयोग किया जाएगा।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned