scriptDon't fishing these banned species, Demolition action will be done | प्रतिबंधित इन प्रजाति की मछलियों का पालन कर रहे तो होगी विनिष्टीकरण कार्रवाई, इस दौरान व्यय होने वाले खर्च भी वसूल किए जाएंगे | Patrika News

प्रतिबंधित इन प्रजाति की मछलियों का पालन कर रहे तो होगी विनिष्टीकरण कार्रवाई, इस दौरान व्यय होने वाले खर्च भी वसूल किए जाएंगे

गोंडा देशभर में मांसाहारी प्रजाति की मछली थाई मांगुर का पालन प्रतिबंधित होने के बावजूद कुछ मत्स्य पालक द्वारा इस प्रजाति की मछली का पालन किया जा रहा है। प्रतिबंधित प्रजाति की मछली का बाजारों में विक्रय होने की सूचना पर प्रशासन ने ऐसे मत्स्य पालकों के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।

गोंडा

Published: May 13, 2022 08:41:00 pm

जिलाधिकारी उज्ज्वल कुमार ने बताया है कि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण, नई दिल्ली द्वारा प्रतिबन्धित मत्स्य प्रजाति थाई मांगुर का पालन अभी भी जनपद में कुछ व्यक्तियों द्वारा किया जा रहा है। बाजारों में थाई मांगुर मछली विक्रय की सूचना निरन्तर प्राप्त हो रही है। जबकि थाई मांगुर मछली की प्रजाति का पालन देश के सभी राज्यों में पूर्णतयः प्रतिबन्धित है। उन्होने बताया कि यह मछलियां मांसाहारी प्रवृत्ति की होने के कारण इनके पालने से स्थानीय मत्स्य सम्पदा को क्षति पहुंचाने के साथ-साथ जलीय पर्यावरण को असन्तुलन एवं जनस्वास्थ को खतरा होने की संभावना बनी रहती है, साथ ही उक्त प्रजातियों की मछलियों को सड़ा-गला मॉस खिलाने से आस-पास का वातावरण भी प्रदूषित होता है।
img-20220513-wa0004.jpg
उन्होने समस्त उप जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि थाई मांगुर मछली का पालन, मत्स्य बीज आयात संचयन, मछली का परिवहन एवं इनको खिलाये जाने वाले स्लोटर हाउस के मॉस के अवशेष/अपशिष्ट की आपूर्ति को पूर्णतयः रोकने के लिये अपनी-अपनी तहसील क्षेत्र में मत्स्य विभाग के कर्मचारियों/लेखपालों के माध्यम से प्रतिबन्धित थाई मांगुर पाल रहे मत्स्य पालकों का चिन्हांकन कर उनको नोटिस निर्गत करके तत्काल प्रतिबन्धित प्रजाति की मछलियों के पालन, विक्रय, आयात, निर्यात अथवा स्टॉक की उपलब्ध होने पर/संज्ञान में आने पर नियमानुसार विनिष्टीकरण आदेश जारी करते हुए मत्स्य विभाग के अधिकारियों एवं आवश्यक पुलिस बल के साथ टीम गठित कर प्रतिबन्धित मछलियों एवं मत्स्य बीज के विनिष्टीकरण की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए तथा विनिष्टीकरण में व्यय हुई धनराशि सम्बन्धित मत्स्य पालक/हैचरी स्वामी विक्रेता से वसूल की जाये।
उन्होने कहा कि चिन्हित किये गये मत्स्य पालकों एवं विक्रेताओं की सूची तथा की गयी कार्यवाही की सूचना से अधोहस्ताक्षरी को अवगत कराना सुनिश्चित किया जाये।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थाकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मMenstrual Hygiene Day 2022: दुनिया के वो देश जिन्होंने पेड पीरियड लीव को दी मंजूरी'साउथ फिल्मों ने मुझे बुरी हिंदी फिल्मों से बचाया' ये क्या बोल गए सोनू सूदभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का हेमंत सरकार पर बड़ा हमला, कहा - 'जब तक सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, तब तक चैन से नहीं सोएंगे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.