scriptCM Yogi offered this special thing | गुरु की प्रतिमा समक्ष भावुक हो गए सीएम योगी, अर्पित किए ये खास चीज | Patrika News

गुरु की प्रतिमा समक्ष भावुक हो गए सीएम योगी, अर्पित किए ये खास चीज

locationगोरखपुरPublished: Jan 27, 2024 10:17:41 pm

Submitted by:

anoop shukla

अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा के समक्ष योगी काफी भावुक हो गए। यूं लगा मानो गुरुदेव के सूक्ष्म शरीर से यह कहकर आशीर्वाद ले रहे हों कि देखिए अयोध्याधाम में आपका संकल्प सिद्ध हो गया, आपका सपना साकार हो गया।

गुरु की प्रतिमा समक्ष भावुक हो गए सीएम योगी, अर्पित किए ये खास चीज
गुरु की प्रतिमा समक्ष भावुक हो गए सीएम योगी, अर्पित किए ये खास चीज
गोरखनाथ मंदिर पहुंचने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंदिर के गर्भगृह में शंख ध्वनि, वेदपाठी विद्यार्थियों के मंगलाचरण के बीच शीश नवाकर गुरु गोरखनाथ जी का दर्शन पूजन किया। इसके बाद वह ब्रह्मलीन पीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ की समाधि स्थल पर आए और श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा के समक्ष योगी काफी भावुक हो गए। यूं लगा मानो गुरुदेव के सूक्ष्म शरीर से यह कहकर आशीर्वाद ले रहे हों कि देखिए अयोध्याधाम में आपका संकल्प सिद्ध हो गया, आपका सपना साकार हो गया। इन्हीं भावों के साथ सीएम योगी ने अयोधयाधाम से धारण किए श्रीराम नाम की पट्टिका गुरु प्रतिमा पर श्रद्धाभाव से समर्पित कर दी।
श्रीरामजन्मभूमि की मुक्ति के लिए आंदोलन को रणनीतिक रूप देना हो, आंदोलन को विश्वव्यापी बनाकर निर्णायक दिशा देनी हो या फिर मंदिर को मूर्त रूप देकर श्रीरामलला के नूतन विग्रह की प्रतिष्ठा, हर विषम-सम स्थिति-परिस्थिति में नेतृत्व गोरक्षपीठ का ही रहा।
1949 में श्रीरामलला के प्राकट्य की दैवीय घटना के समय ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्वर महंत दिग्विजयनाथ की पूर्वाभासी उपस्थिति तो नब्बे के दशक में परिणामजन्य आंदोलन का नेतृत्व व मार्गदर्शन ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ ने किया।
श्रीरामजन्मभूमि मुक्ति यज्ञ के आजीवन अध्यक्ष रहे महंत अवेद्यनाथ का सपना और जीवन की आखिरी इच्छा ही श्रीराम मंदिर निर्माण की रही।

स्वागत में प्रमुख रूप से ये रहे शामिल
सांसद रविकिशन शुक्ल, महापौर डॉ मंगलेश श्रीवास्तव, विधायक विपिन सिंह, महेंद्रपाल सिंह, प्रदीप शुक्ल, चरगांवा ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि रणविजय सिंह, पूर्व प्रमुख ईश्वरचंद जायसवाल, कालीबाड़ी के महंत रविंद्रदास आदि।

ट्रेंडिंग वीडियो