गोरखपुर में सपा के प्रवीण निषाद जीते, 29 साल बाद ढहा योगी का किला

गोरखपुर में सपा के प्रवीण निषाद जीते, 29 साल बाद ढहा योगी का किला

Rafatuddin Faridi | Publish: Mar, 14 2018 05:50:51 PM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 06:00:37 PM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

समाजवादी पार्टी के प्रवीण निषाद ने 456937 वोट पाकर भाजपाके उपेन्द्र दत्त शुक्ल को हराया।

गोरखपुर. देश में बीजेपी की सबसे मजबूत कही जाने वाली लोकसभा सीट अब उसके हाथ से निकल गयी। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ कहे जाने वाले गोरखपुर संसदीय सीट पर समाजवादी पार्टी ने पहली बार ऐतिहासिक जीत हासिल की है। इस जीत के साथ ही 29 साल बाद योगी का अभेद दुर्ग ढहा दिया। यहां सपा के प्रवीण निषाद ने भाजपा प्रत्याशी उपेन्द्र दत्त शुक्ल को 22037 वोटों से हरा दिया।

 

इसे भी पढ़ें

फूलपुर सीट पर समाजवादी पार्टी के नागेन्द्र सिंह पटेल करीब 60 हजार वोटों से जीते

गोरखपुर में भारतीय जनता पार्टी को चार लाख 34 हजार 476 वोट मिले, जबकि समाजवादी पार्टी के इंजीनियर प्रवीण निषाद ने चार लाख 56 हजार 937 वोट पाकर जीत गए। यहां कांग्रेस का बुरा हाल हुआ। कांग्रेस पार्टी की प्रत्याशी डॉ. सुरहिता करीम की जमानत जब्त हो गयी। गोरखपुर सीट पर सीएम योगी आदित्यनाथ पिछले पांच बार से लगातार सांसद होते चले आ रहे थे। उनके मुख्यमंत्री बनने से खाली हुई इस सीट पर उपचुनाव कराया गया था।


इस उपचुनाव में गोरखपुर की सीट बीजेपी से छीनने के लिये समाजवादी पार्टी ने निषाद वोटरों की अधिकता को देखते हुए वहां की स्थानीय पार्टी निषाद दल व पीस पार्टी के साथ हाथ मिलाया। यहां सपा ने निषाद दल के प्रमुख संजय निषाद के बेटे प्रवीण निषाद को ही मैदान में उतार दिया। भाजपा ने उनके मुकाबले ब्राह्मण कार्ड खेला और यहां से ब्राह्मण चेहरे उपेन्द्र दत्त शुक्ला को टिकट दिया। कांग्रेस की ओर से डॉ. सुरहिता करीम थीं।
बाद में समाजवादी पार्टी को तब और मजबूती मिल गयी जब बसपा ने उसे समर्थन का ऐलान कर दिया। इतना ही नहीं राष्ट्रीय लोक दल और वाम दलों समेत पार्टियों ने भी सपा को उपचुनाव में समर्थन दिया। जीतीय समीकरण और दूसरे दलों के समर्थन के चलते आखिरकार 29 साल बाद सपा ने इस सीट को भाजपा से छीन ही लिया।

Ad Block is Banned