scriptGandhis killer nathuram Godse worshiped again in Gwalior | फिर हुई गांधी के हत्यारे गोडसे की पूजा प्रशासन को नहीं लगी भनक | Patrika News

फिर हुई गांधी के हत्यारे गोडसे की पूजा प्रशासन को नहीं लगी भनक

हिन्दू महासभा ने एक बार फिर प्रशासन को चुनौती देते हुए किया आयोजन, लगाए जिंदाबाद के नारे

ग्वालियर

Published: November 15, 2021 06:25:21 pm

ग्वालियर. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर अक्सर ग्वालियर सुर्खियों में रहता है। एक बार हिंदू महासभा ने गोडसे का महिमामंडन करते हुए पार्टी कार्यालय में नाथूराम गोडसे और उनके साथी नारायण आप्टे का बलिदान दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया।

hindu_mahasabha.png

हिंदू महासभा के ऑफिस में नाथूराम गोडसे की मूर्ति की पूजा की गई और हिन्दू महासभा के नेताओं ने घोषणा की मेरठ की तरह पूरे देश में नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे की मूर्तियां स्थापित की जाएंगी। दोनों की मूर्तियां जिला स्तर स्थापित करने के हिंदू महासभा काम कर रही है। सोमवार को हिन्दू महासभा ने शहर के दौलतगंज में पार्टी कार्यालय पर अम्बाला जेल से लायी गई मिट्टी से तिलक किया और नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे का 72 वां बलिदान दिवस मनाया।

Must See: अब इलाज से पहले बताना होगा वैक्सीनेशन हुआ या नहीं

महात्मा गांधी की हत्या के बाद 15 नवम्बर को 1949 को नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को अम्बाला जेल में फांसी दी गई थी। नाथूराम गोडसे को बापू के हत्यारे के रूप में पहचाना जाता है लेकिन हिन्दू महासभा उन्हें अपना आदर्श मानती है। हिन्दू महासभा नाथूराम गोडसे और उनके साथी नारायण आप्टे की पूजा करती है। पार्टी ने मेरठ में दोनों की मूर्तियां स्थापित की है। पार्टी ने कि वो पूरे देश में दोनों की मूर्तियां स्थापित करेगी और देश को बताएगी कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे।

Must See: बड़ी खबरः प्रदेश के नर्सिंग विद्यार्थियों को मिला जनरल प्रमोशन

जयवीर भरद्वाज ने एलान किया कि अभी नाथूराम गोडसे की मूर्ति बनकर आ गई है, नारायण आप्टे की मूर्ति आते ही दोनों की मूर्तियां कार्यालय में स्थापित कर देंगे। हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भाद्वाज ने कहा कि कांग्रेस के चलते देश का विभाजन हुआ था और इसकी वजह से लाखों हिन्दुओं की जान चली गई थी, इसकी वजह से ही नाथूराम गोडसे ने ये कदम उठाया। यही वजह है कि आज पूरे देश में हिंदू महासभा बलिदान दिवस मना रही है। अम्बाला जेल में नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को फांसी दी गई थी इसलिए अंबाला शहर की मिट्टी से दोनों के चित्र पर तिलक किया गया है। हिन्दू महासभा ने कहा कि पार्टी ने संवैधानिक अधिकारों के तहत पहले नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे की मूर्ति स्थापित करने के लिए अनुमति मांगी है। इसके लिए जिला प्रशासन पत्राचार किया है। दोनों की मूर्ति हिंदू महासभा के पार्टी कार्यालय में स्थापित की जाएगी। अब पार्टी प्रशासन से अनुमति मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजBudget 2022: Work From Home वालों को मिल सकता है 50,000 रुपए तक का तोहफा!Parliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगापूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.