किसानों को मेहनत का मोल मिलने का इंतजार

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. कृषि प्रधान हनुमानगढ़ जिले में कुछ जगह किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद होने के बाद उन्हें समय पर भुगतान नहीं मिल रहा है।

 

By: Purushottam Jha

Published: 29 May 2020, 06:36 PM IST

किसानों को मेहनत का मोल मिलने का इंतजार
-किसानों को समय पर नहीं मिल रहा भुगतान
-टाउन व जंक्शन मंडी में ही सरसों व चना उत्पादकों के बारह करोड़ अटके
हनुमानगढ़. कृषि प्रधान हनुमानगढ़ जिले में कुछ जगह किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद होने के बाद उन्हें समय पर भुगतान नहीं मिल रहा है। इससे किसान परेशान हो रहे हैं। भुगतान में ज्यादा दिक्कतें संगरिया मंडी में आ रही है। यहां पर नेफेड को गेहूं व सरसों की सरकारी खरीद के लिए अधिकृत किया गया है। किसान नेता ओम जांगू ने बताया कि संगरिया मंडी में किसानों दस से बारह दिनों की देरी से भुगतान हो रहा है। इससे करोड़ों का भुगतान अब तक अटका हुआ है। उन्होंने बताया कि समय पर भुगतान की व्यवस्था नहीं होने पर जल्द किसान आंदोलन करने को मजबूर होंगे।
यही हालात हनुमानगढ़ जंक्शन व टाउन मंडी में सरसों व चना उत्पादक किसानों के सामने बनी हुई है। इन दोनों मंडियों में क्रय विक्रय सहकारी समितियों के माध्यम से सरसों व चने की खरीद की जा रही है। लेकिन चालू सीजन में अभी तक किसानों को चवन्नी का भुगतान भी नहीं किया गया है। दोनेां मंडियों में सरसों चना की सरकारी खरीद की एवज में बारह करोड़ से अधिक का भुगतान अटका हुआ है।
जंक्शन अनाज मंडी में इस समय एफसीआई की ओर से गेहूं की सरकारी खरीद की जा रही है। चालू सीजन में अभी तक २८०० किसानों से ६२५०० एमटी गेहूं की खरीद की जा चुकी है। इसमें ५५००० एमटी गेहूं का भुगतान कर दिया गया है। यानी २३०० किसानों को अभी तक भुगतान कर दिया गया है। जंक्शन मंडी में एफसीआई की ओर से तैनात किस्म निरीक्षक हवा सिंह ने बताया कि हमारी मंडी में भुगतान की कोई दिक्कत नहीं है। उठाव के ७२ घंटों के भीतर भुगतान करने का प्रयास रहता है।

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned