बेहतर परिणाम लाने वाली कक्षा के शिक्षक का नाम वॉल ऑफ फेम पर प्रदर्शित होगा

बेहतर परिणाम लाने वाली कक्षा के शिक्षक का नाम वॉल ऑफ फेम पर प्रदर्शित होगा

Sanjeev Dubey | Publish: Sep, 09 2018 12:06:25 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

- दक्षता उन्नयन कार्यक्रम में दी गई जानकारी

हरदा. जिले के जो सरकारी स्कूल 90 प्रतिशत दक्षता प्राप्त करेंगे उनके शिक्षकों का सम्मान होगा। साथ ही उनके नाम प्रदेश स्तरीय वॉल ऑफ फेम में प्रदर्शित किया जाएगा। यह जानकारी दक्षता उन्नयन कार्यक्रम में शिक्षकों को दी गई। इस मौके पर राज्य शिक्षा केंद्र के जिला प्रभारी अधिकारी आरके त्रिवेदी मौजूद थे। डीपीसी डॉ. आरएस तिवारी ने बताया कि जिस स्कूल के 90 प्रतिशत बच्चे उच्चतम दक्षता प्राप्त करेंगे उन शिक्षकों का सम्मान किया जाएगा। जनशिक्षा केंद्रों से इस तरह के दो स्कूल चिह्नित किए गए हैं। प्रथम चरण मेंहर ब्लॉक से 20 स्कूल लिए गए हैं। साथ ही सभी को 4 स्कूल गुणवत्ता सुधार के लिए गोद दिए गए हैं। इनकी मॉनिटरिंग के लिए जिला एवं ब्लॉक से टीम गठित की गई है। स्कूलों में बच्चों एवं शिक्षकों की उपस्थिति की भी प्रति सप्ताह समीक्षा की जाएगी। एपीसी विवेक शर्मा ने बताया कि उन्नयन कार्यक्रम के तहत सभी शिक्षक प्रति पखवाड़े बच्चों की दक्षता का आंकलन करेंगे। प्रगति को रिकार्ड कर आवश्यक सुधार की कार्यवाही करेंगे। कार्यक्रम में शाला सिद्धि के तहत चैंपियन शालाओं के आंकलन की प्रतिपुष्टि एवं मॉनिटरिंग के बारे में जानकारी दी गई। इस दौरान डाइट प्राचार्य एम के गुप्ता, एपीसी एसएन भाटी के अलावा डाइट के अकादमिक सदस्य, जनशिक्षक, बीएसी, बीआरसी मौजूद रहे।

जनशिक्षा केन्द्र में हुआ समीक्षा बैठक सह कार्यशाला का आयोजन
हंडिया. जनशिक्षा केंद्र हंडिया में समीक्षा बैठक सह कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें केंद्र की 38 शालाओं के 88 प्रभारी उपस्थित हुए। इस अवसर पर एपीसी विवेक शर्मा ,डाइट व्याख्याता बीएल गुर्जर, विकासखंड अकादमिक समंवयक ललित सोनी ने शालाओं की बिंदुवार समीक्षा की। जिसमें बेसलाइन टेस्ट में सुधार, शाला सिद्धि अंतर्गत आयाम दो एवं तीन के मानकों का पालन कर स्व आकलन करने, शिक्षक वार उत्तरदायित्व तथा पूर्णता की समय सीमा निर्धारित करने का सुझाव दिया। बेसलाइन टेस्ट में होने वाली त्रुटियां विषय वार स्पष्ट करते हुए टेस्ट की गंभीरता, पारदर्शिता तथा रिकॉर्ड संधारण की जानकारी दी। शर्मा ने विमर्श पोर्टल पर शाला का नाम दर्ज कराने एवं 90 प्रतिशत से अधिक दक्षता पूर्ण करने वाली शालाओं की समीक्षा की। वॉल ऑफ फेम पर विस्तृत जानकारी दी। जिसके अंतर्गत 90 प्रतिशत से अधिक दक्षता पूर्ण करने वाली शालाओं को इस वॉल पर अपना प्रदर्शन करना होगा। जो राज्य शिक्षा स्तर पर प्रदर्शित होगा। शालाओं को 90 प्रतिशत दक्षता पूर्ण करने का दावा प्रस्तुत करना होगा। विकासखंड एवं जिला स्तरीय दल द्वारा इन संस्थाओं की जांच कर दक्षता पूर्ण होने पर इनका प्रदर्शन वाल ऑफ फ्रेम पर किया जा सकेगा। प्राथमिक शाला छोटी मैदा, ऊंचान, डूमलाय, बेसवा एवं चौकी एवं माध्यमिक शाला खेड़ीनीमा, चिराखान एवं सिगोन द्वारा 90 प्रतिशत से ऊपर दक्षता का दावा पेश किया। 8 शालाओं द्वारा 15 दिवस में दक्षता स्तर 90 प्रतिशत पूर्ण करने को कहा गया। शर्मा द्वारा दक्षता उन्नयन का आईना संधारण करने संबंधी समस्याओं का निराकरण किया गया। जन शिक्षा केंद्र

नामांकन में वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया-
प्रभारी सीमा ओनकर ने नामांकन शाला वार समीक्षा की । केंद्र की शालाओं में गत वर्ष की अपेक्षा नामांकन में वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया। नामांकन गिरावट वाली संस्थाओं से कारण सहित जानकारी ली। स्वच्छता पखवाड़े अंतर्गत प्रतिदिन की जाने वाली गतिविधियों गतिविधियों की जानकारी ली। ललित सोनी, डीआरजी भरत अमकरे, जनशिक्षक अनूप शर्मा एवं दिनेश सराठे ने स्वच्छता ऐप पर स्वच्छता सर्वेक्षण दक्षता, उन्नयन टीचर्स हैंडबुक, अभ्यास पुस्तिका कार्य, साइकिल व गणवेश वितरण मैपिंग प्रोफाइल जनरेट एवं एक परिसर एक शाला की समीक्षा की।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned