कांग्रेस के भारत बंद का हाथरस में नहीं दिखा असर, कांग्रेसी भी नहीं जुट सके

कांग्रेस के भारत बंद का हाथरस में नहीं दिखा असर, कांग्रेसी भी नहीं जुट सके

Amit Sharma | Publish: Sep, 10 2018 07:17:25 PM (IST) Hathras, Uttar Pradesh, India

कांग्रेसियों ने बढ़ते पेट्रोले मूल्य को लेकर भारत बंद का आह्वान किया था, लेकिन यह बंद बेअसर रहा।

 

 

हाथरस। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाल कर पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती क़ीमतों के विरोध में भारत बंद का आह्वान किया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्य नाथ और देश के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन के दौरान तलाब चैराहे पर कुछ समय के लिए जाम लग गया। कांग्रेसी सड़क पर बैठ गये। बाद में मौके पर पहुंचे अपर जिलाधिकारी को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा।

यह भी पढ़ें- कांग्रेस का भारत बंद यहां रहा बेअसर, देखें वीडियो

व्यापारियों का काग्रेसियों को नहीं मिला समर्थन

कांग्रेस पार्टी का भारतबंद बेअसर रहा। व्यापारियों ने दुकानें बंद नहीं कीं। बाजार में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाल समस्त व्यापारियों से दुकान बन्द कर मंहगाई के विरोध में शामिल होने की अपील की लेकिन व्यापारियों का समर्थन कांग्रेस को नहीं मिला। एक दो दुकानों को छोड़ सरा मार्केट यथावत खुला नजर आया। वहीं कांगेे्रस ने सपा, बसपा, आरएलडी आदि कई दलों के समर्थन का दावा किया जो हाथरस में बिफल रहा।

अब नरेंद्र मोदी शांत क्यों

इस दौरान कांग्रेस जिला अध्यक्ष करूणेश मोहन दीक्षित ने कहा कि हम बढ़ते दामों का पुरज़ोर विरोध करेंगे। पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमतों में आये दिन बढ़ोतरी हो रही है। डॉलर के रेट आज 72 रूपए तक पहुंच गये हैं। मोदी जब विपक्ष में थे तो कहते थे कि डॉलर मनमोहन की उम्र की तरह बढ़ रहा है आज इतनी मंहगाई पर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैसे शांत हैं।

पुलिस की कड़ी सुरक्षा
डीजल और पेट्रोल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी को लेकर कांग्रेस पार्टी द्वारा आज भारत बंद का आह्वान किया गया था, भारतबंद को लेकर पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद रहा। जगह-जगह पुलिस पिकेट लगी रही। वहीं खुद डीएम रमाशंकर मोर्य और एसपी जय प्रकाश यादव ने जगह-जगह जाकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। वहीं एस पी सिद्धार्थ वर्मा, एडीएम डीपी सिंह, एसपी सिटी सुमन कनौजिया खुद मुस्तैद दिखे।

Ad Block is Banned