Black Fungus Treatment: भारत सरकार बढ़ाएगी Amphotericin-B की उपलब्धता, पांच अतिरिक्त विनिर्माताओं को भी दिया लाइसेंस

Black Fungus Treatment: कोरोना महामारी के साथ-साथ देश भर में अब ब्लैक फंगस के मामले भी बढ़ते नज़र आ रहे हैं। ऐसे में बड़ी फार्मा कंपनियां भी एंटीफंगल दवा एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन के उत्पादन को तेजी से बढ़ा रही है।

By: Deovrat Singh

Published: 21 May 2021, 10:08 PM IST

Black Fungus Treatment: कोरोना महामारी के साथ-साथ देश भर में अब ब्लैक फंगस के मामले भी बढ़ते नज़र आ रहे हैं। ऐसे में बड़ी फार्मा कंपनियां भी एंटीफंगल दवा एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन के उत्पादन को तेजी से बढ़ा रही है। ब्लैक फंगस को कुछ राज्यों की सरकार द्वारा महामारी घोषित किए जाने के बाद भारत सरकार भी ब्लैक फंगस रोग के उपचार के लिए एम्फोटेरिसिन-बी एंटी-फंगल दवा की उपलब्धता को बढ़ाने पर जोर दे रही है। अब इस दवा निर्माण के लिए पांच अतिरिक्त विनिर्माताओं को भी लाइसेंस दिया गया है। यह बिमारी डाइबिटीज के मरीजों में ज्यादा देखने को मिल रही है।

Read More: कोरोना के लिए बनी स्पुतनिक वैक्सीन के भी हैं कई साइड इफेक्ट, लगवाते वक्त जरूर बरतें सावधानी

Amphotericin-B Production in India
कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि के साथ ही अब कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ब्लैक फंगस के मामले भी बढ़ रहे हैं। इसी के साथ Amphotericin-B इंजेक्शन की कमी भी नजर आ रही है। एम्फोटेरिसिन-बी एक एंटी-फंगल दवा है, जिसका उपयोग ब्लैक फंगस के उपचार में किया जाता है। बढ़ते मामलों और दवा के उत्पादन की धीमी रफ़्तार को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के फार्मास्यूटिकल्स विभाग और विदेश मंत्रालय (MEA) एम्फोटेरिसिन-बी दवा के घरेलू उत्पादन में वृद्धि के लिए प्रयास कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने भी वैश्विक निर्माताओं से आयत कर देश में दवा की उपलब्धता के लिए प्रभावी प्रयास तेज कर दिए हैं।

Read More: Covid-19 वैक्सीन के लिए ऐसे बुक करें अपॉइंटमेंट, पढ़ें पूरा प्रोसेस

Top-5 Amphotericin-B Production Pharma Company in India
भारत सीरम एंड वैक्सीन्स लिमिटेड
बीडीआर फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड
सन फार्मा लिमिटेड
सिप्ला लिमिटेड
लाइफ केयर इनोवेशन
माइलैन लैब्स (आयातक)

Read More: एम्स ने ब्लैक फंगस से बचाव के लिए जारी की गाइडलाइन्स, यहां पढ़ें

भारत सरकार द्वारा हैंडहोल्डिंग के परिणामस्वरूप, ये घरेलू निर्माता मई 2021 में संचयी रूप से एम्फोटेरिसिन-बी की 1,63,752 शीशियों का उत्पादन करेंगी। इसे जून 2021 में 2,55,114 शीशियों तक बढ़ाया जाएगा। इसके अतिरिक्त इस एंटी-फंगल दवा की उपलब्धता को भी बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। मई 2021 में, एम्फोटेरिसिन-बी की 3,63,000 शीशियों का आयात किया जाएगा, जिससे देश में कुल उपलब्धता 5,26,752 शीशियों की होगी। जून 2021 में बढ़ाकर 5,70,114 शीशियों तक किया जाएगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रयासों से देश के पांच और निर्माताओं को एंटी-फंगल दवा के उत्पादन का लाइसेंस दिया गया है। इन कंपनियों को जुलाई 2021 से प्रति माह एम्फोटेरिसिन-बी की 1,11,000 शीशियों का उत्पादन करना होगा।

इन्हे भी मिला लाइसेंस
NATCO फार्मास्यूटिकल्स, हैदराबाद
अलेम्बिक फार्मास्यूटिकल्स, वडोदरा
गुफिक बायोसाइंसेज़ लिमिटेड, गुजरात
एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स, पुणे
लायका, गुजरात

Web Title: Black Fungus Treatment: 5 pharma cos get DCGI's nod to produce Amphotericin B

Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned