कान में पानी जाने से होता ज्यादा संक्रमण, छेद भी हो सकता

पत्रिका लाइफ लाइन लाइव में इएनटी से जुड़े सवालों के जवाब

विस्तार से यहां देखें bit.ly/3gv9mB6

By: Hemant Pandey

Published: 14 Jun 2021, 07:20 PM IST

सवाल- मेरे एक कान के पर्दे में घाव से छेद हो गया है। इससे कान में तेज दर्द होता है। इसका क्या इलाज है।
-एक पाठक
जवाब- कान के पर्दे में छेद के कई कारण होते हैं। कई बार जुकाम और संक्रमण से भी ऐसा हो सकता है। अगर यह चोट के कारण है तो कुछ दिन में अपने से छेद भर जाएगा। अगर जुकाम और संक्रमण से कान में छेद हुआ है तो कई बाद दवा से ठीक हो जाता है लेकिन कई बार सर्जरी कर कान के पर्दे को ठीक किया जाता है। बचाव के लिए कानों में कुछ डालने से बचें। कानों में पानी न जाने दें। अगर ये सावधानी रखते हैं तो कई बार अपने से भर जाएगा। अगर नहीं भरता है तो सर्जरी की जरूरत पड़ेगी। बारिश में नमी और उमस के कारण हो सकता है। इसका इलाज संभव है। लेकिन बचाव ज्यादा करें।

सवाल- मेरी 23 वर्षीय बहन को 30 सितंबर 2019 में हेड इंजरी हुई थी। इलाज के बाद अब पूरी तरह से स्वस्थ हो गई है। दवा भी बंद हो गई है लेकिन कान से सीटी बजने की आवाज आती है। इसका इलाज क्या है। रिपोर्ट भेज रहा हूं?
- एक पाठक
- हेड इंजरी के बाद सीटी बजना भी टिनाइटस ही है। चोट के बाद ऐसी समस्या हो जाती है। चोट से कान के अंदर नुकसान होता है। आंतरिक नुकसान से सीटी आवाज आ रही है। यह कुछ दिनों तक रह सकती है। हो सकता है कि कुछ दिनों में खुद से ठीक भी हो सकता है। लेकिन इस पर ध्यान रखें। इससे परेशान न हों। ज्यादा ध्यान देंगे तो दिक्कत और महसूस होगी।

Hemant Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned