आज पुष्य नक्षत्र में जरूर करें ये काम, बन जाएगी बिगड़ी बात

Sunil Sharma

Publish: Oct, 13 2017 09:45:16 (IST)

Horoscope
आज पुष्य नक्षत्र में जरूर करें ये काम, बन जाएगी बिगड़ी बात

नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि अन्तरात्रि ३.२२ तक, तदन्तर दशमी पूर्णा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी

नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि अन्तरात्रि ३.२२ तक, तदन्तर दशमी पूर्णा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। नवमी तिथि में शुभ व मांगलिक कार्य वर्जित कहे गए हैं। पर किसी शुभकार्यारम्भ के समय लग्न में केन्द्र या त्रिकोण स्थान में कोई शुभ ग्रह स्थित हो तो रिक्ता तिथि का दोष परिहृत हो जाता है। दशमी तिथि में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य करने चाहिए।

नक्षत्र: पुनर्वसु ‘चर व तिङ्र्यंमुख’ संज्ञक नक्षत्र प्रात: ७.४६ तक, इसके बाद पुष्य ‘क्षिप्र व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र है। पुनर्वसु नक्षत्र में शांति, पुष्टता, यात्रा, अलंकार, घर व व्रतादि शुभ कहे गए हैं। पुण्य नक्षत्र में सभी चर-स्थिर कार्य, पुष्टता व उत्सवादि कार्य विवाह को छोडक़र करने चाहिए।

योग: सिद्ध नामक योग रात्रि १.१६ तक, तदन्तर साध्य नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग है। विशिष्ट योग: सर्वार्थसिद्धि नामक शुभ योग प्रात: ७.४६ तक है। करण: तैतिल नामकरण सायं ४.११ तक, तदुपरान्त गरादि करण रहेंगे।

शुभ विक्रम संवत् : 207४
संवत्सर का नाम : साधारण
शाके संवत् : 193९
हिजरी संवत् : 143९, मु.मास: मुहर्रम-२२
अयन : दक्षिणायन
ऋतु : शरद्
मास : कार्तिक।
पक्ष : कृष्ण।

शुभ मुहूर्त: उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज पुष्य नक्षत्र में वाहन क्रय करना और मशीनरी या कलकारखाना प्रारम्भ करना आदि के शुभ मुहूर्त हैं।

श्रेष्ठ चौघडि़ए: आज सूर्योदय से पूर्वाह्न १०.४७ तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत, दोपहर १२.१३ से दोपहर बाद १.३९ तक शुभ तथा सायं ४.३१ से सूर्यास्त तक चर के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर ११.५० से १२.३६ तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारंभ के लिए अत्युत्तम हैं।

व्रतोत्सव: आज गुरु हरिराय पुण्य दिवस (प्राचीन मत से) तथा गुरु अस्त पश्चिम में रात्रि ८.०० से। आगे ८ नवम्बर २०१७ तक गुरु अस्त रहेंगे। गुरु के अस्त में विवाहादि मांगलिक कार्य वर्जित हैं।

चन्द्रमा: चन्द्रमा सम्पूर्ण दिवारात्रि कर्क राशि में रहेंगे। ग्रह राशि नक्षत्र परिवर्तन: सायं ४.०३ पर मंगल कन्या राशि में व रात्रि ११.५३ पर बुध तुला राशि में दाखिल होंगे।

दिशाशूल: शुक्रवार को पश्चिम दिशा की यात्रा में दिशाशूल है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज उत्तर दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद रहेगी।

राहुकाल: प्रात: १०.३० से दोपहर १२.०० बजे तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे
आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (ही, हु, हे, हो, डा) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। इनकी जन्म राशि कर्क और जन्म का पाया रजत है। सामान्यत: ये जातक धनवान, दानी, कीर्तिवान, बुद्धिमान, काव्यप्रेमी, सुशील, होशियार, धर्मकार्यों में आस्था रखने वाले, कामलोलुप, चतुर, कार्यदक्ष, अध्ययन-अध्यापन में रुचि रखने वाले और ऐश्वर्यवान होते हैं। इनका भाग्योदय लगभग ३०-३५ वर्ष की आयु तक होता है। कर्क राशि वाले जातकों के कार्यों में बड़ी उलझन भरी स्थिति है। किसी कार्य को करना या ना करना यह दुविधा है। अत: वरिष्ठ व अनुभवी जनों की परामर्श का लाभ उठाएं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned