scriptOmicron knocks in India, shortage of technicians to test here | ओमीक्रॉन की भारत में दस्तक, यहां टेस्ट करने टेक्नीशियन की कमी | Patrika News

ओमीक्रॉन की भारत में दस्तक, यहां टेस्ट करने टेक्नीशियन की कमी

अस्पताल में कोविड और लैब में होने वाली जांच एक टेक्नीशियन के भरोसे

होशंगाबाद

Published: December 03, 2021 07:45:05 pm

होशंगाबाद. दुनिया में ओमीक्रॉन की धहशत के बाद अब भारत के कई राज्य इसकी चपेट में आ गए हैं। मध्य प्रदेश सरकार ने भी इसोक लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। कोरोना के नए वेरियेंट के आने का बाद भी सरकारी तैयारियां ना काफी दिखाई दे रही हैं।जिले के सोहागपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक टेक्नीशियन नियुक्त है। इस वजह से अस्पताल के मुख्य एवं अन्य तात्कालिक लैब संबंधित व्यवस्थाएं बाधित हो रही हैं।

omicron_virus_in_india_1.png

बताया जाता है कि एक और टेक्नीशियन की नियुक्ति हुई है, जिसका अस्पताल प्रबंधन को इंतजार है। वर्ष 2019 के मध्य तक अस्पताल में तीन टेक्नीशियन पदस्थ थे। जिनमें से एचएस बाथम का 2019 के मध्य में स्थानांतरण हो गया। वहीं लगभग पांच महीनों पूर्व अन्य टेक्निशियन एके गोस्वामी का भी स्थानांतरण हो गया है। तथा अब वर्तमान में एक टेक्नीशियन वीके राठौर अस्पताल में पदस्थ हैं, जिन पर कई महत्वपूर्ण अन्य जिम्मेदारियां भी हैं। तथा इस अव्यवस्था के चलते सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की लैब संबंधित व्यवस्थाएं प्रभावित हुईं हैं।

Must See: कर्ज लेकर खेतों में की बुआई, एक माह से पानी का इंतजार

कोविड जांच शुरू तो लैब बंद
रोजाना सुबह दो से तीन घंटे टेक्नीशियन राठौर को कोविड की सैंपलिंग व जांच करनी होती है। लेकिन इस दौरान नियमित रूप से कोरोना काल के पहले खुलने वाली लैब बंद रहती है। लैब बंद होने के कारण अन्य जांच कराने आने वाले मरीजों को परेशानी होती है। क्योंकि स्वस्थ लोगों में कोरोना संक्रमण के डर के चलते टेक्नीशियन अपनी लैब की ओर नहीं आते हैं।

आज हड़ताल पर रहेंगे लैब टेक्नीशियन
प्रदेशभर के मेडिकल लैब टेक्नीशियन अपनी 17 सूत्री मांगों को लेकर 10 दिसंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की तैयारी में हैं। इसके तहत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ लैब टेक्नीशियन अमान सिंह अहिरवार उक्त हड़ताल का समर्थन देने के लिए तीन दिसंबर को सामूहिक रूप से आकस्मिक अवकाश पर रहेंगे। बताया जाता है कि इसकी सूचना बीएमओ डॉ. जेएस परिहार को दी गई है।

गर्भवती महिलाएं ज्यादा परेशान
बताया जाता है कि सबसे अधिक परेशानी गर्भवती महिलाओं को होती है जिन्हें हिमोग्लोबिन एवं शुगर की जांच करानी पड़ती है। आए दिन अस्पताल में गर्भवती महिलाएं लंबे समय तक बंद लैब के सामने बैठी रहती हैं। तथा उस दौरान टेक्नीशियन कोविड जांच में व्यस्त होते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.