पैराशूट नहीं खुलने की वजह से हुई थी जवान की मौत, एक दिन पहले ही मां से की थी ऐसी फरमाइश

पैराशूट नहीं खुलने की वजह से हुई थी जवान की मौत, एक दिन पहले ही मां से की थी ऐसी फरमाइश

Sunil Chaurasia | Publish: Nov, 10 2018 12:11:29 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 12:11:30 PM (IST) हॉट ऑन वेब

हरदीप की मौत की खबर गुरुवार दोपहर उनके पिता भूपिंदर सिंह को मिली।

नई दिल्ली। पैराशूट में आई तकनीकी खराबी के बाद 11.5 हजार फुट की ऊंचाई से गिरने से आगरा में सेना के एक जवान की मौत हो गई। हरदीप सिंह नाम का यह जवान सेना के पैरा बिग्रेड का सदस्य था। मौत की खबर सुनते ही हरदीप के घर में मातम छाया हुआ है। जवान के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो चुका है। बता दें कि हरदीप अपने परिवार के इकलौते बेटे थे।

पंजाब के पटियाला के रहने वाले थे हरदीप सिंह
आगरा के पैरा ड्रोपिंग जोन में हुए इस हादसे में हरदीप का पैराशूट नहीं खुल पाया, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई। मूल रूप से पंजाब के पटियाला के रहने वाले हरदीप के गांव तलवंडी मलिक के चप्पे-चप्पे पर मातम साफ तौर पर देखा जा सकता है। हरदीप पूरे गांव के लाडले थे, और सभी गांव वाले उन्हें बहुत चाहते थे।

मौत से एक दिन पहले ही हुई थी मां से बात
हादसे से एक दिन पहले ही हरदीप ने अपनी मां अकविंदर कौर से फोन पर बात भी की थी। हरदीप ने मां से बातचीत के दौरान कहा था कि वह घर लौट रहे हैं और उन्होंने मां के हाथ से बनी मिठाई खाने की फरमाइश की थी। हरदीप ने मां से कहा था कि घर आने पर उनके पसंद की मिठाई तैयार मिलनी चाहिए। हरदीप की मां ने बताया कि वे बेटे की ख्वाहिश को पूरा करने में जुटी हुई थीं, कि उन्हें ऐसी खबर मिली..जिसने उनकी पूरी दुनिया को ही मिटा कर रख दिया।

हरदीप की बदौलत ही जल रहा था घर का चूल्हा
हरदीप की मौत की खबर गुरुवार दोपहर उनके पिता भूपिंदर सिंह को मिली। बेटे की मौत की खबर सुनते ही पिता के पैरों तले ज़मीन खिसक गई। हरदीप परिवार का न सिर्फ इकलौता बेटा था, बल्कि घर में बनने वाली एक-एक रोटी भी उन्हीं के सेलरी की बदौलत बनती थी। थोड़ी ही देर में हरदीप का शव उनके गांव पहुंचने वाला है।

Ad Block is Banned