किस्मत की हर समस्या की 'रामबाण' काट है पान के पत्ते के ये टोटके

तंत्र शास्त्र में पान के पत्ते के कुछ ऐसे प्रयोग (टोटके) बताए गए हैं जिन्हें करने से आपकी सभी इच्छाएं पूर्ण हो सकती हैं।

By: सुनील शर्मा

Published: 12 Nov 2020, 05:27 PM IST

तंत्र शास्त्र में पान के पत्ते के कुछ ऐसे प्रयोग (टोटके) बताए गए हैं जिन्हें करने से आपकी सभी इच्छाएं पूर्ण हो सकती हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ प्रयोग-

गुड़ के अचूक टोटके बदल देंगे आपकी तकदीर, खुशहाल जिंदगी के लिए जरूर आजमाए

एक मुट्ठी काले उडद बदल देंगे आपका भाग्य, एक बार जरूर आजमाए

  1. अगर किसी व्यक्ति को नजर लग गई हो तो उस व्यक्ति को पान के पत्ते में गुलाब की सात पत्तियां रख कर खिला दें। उसकी नजर उतर जाएगी।
  2. लगातार सात मंगलवार या शनिवार को हनुमानजी को एक डंठल वाला पान का पत्ते पर लड्डू चढ़ाने से कुंडली के दुष्ट ग्रहों के कारण आ रही हर समस्या दूर होती है। अगर किसी की कुंडली में शनि या राहू जैसे ग्रह प्रतिकूल असर दे रहे हैं तो इस उपाय से वो भी अच्छा असर देने लगते हैं।
  3. अगर व्यापार में परेशानी चल रही हो तो पान के पत्ते का दान करने से सारी समस्याएं हल होती हैं।
  4. होली दहन के दिन परिवार के सभी लोगों को एक पान का पत्ता, एक बताशा तथा देसी घी में भिगोई हुई दो लौंग लेकर जलती हुई होली में चढ़ाएं। इसके बाद होली की ग्यारह परिक्रमा कर सूखे नारियल की आहुति दे। इससे उस परिवार के सभी कष्ट दूर होते हैं और घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है।
  5. अगर आपको लगता है कि किसी ने तंत्र-मंत्र का प्रयोग कर आपके व्यापार को ठप्प कर दिया है तो आप शनिवार की सुबह पांच पीपल के पत्ते तथा 8 साबुत डंडी वाले पान के पत्ते लें। इन सभी पत्तों को एक ही धागे से पिरोकर दुकान अथवा कार्यस्थल पर पूर्व की ओर बांध दें। ऐसा लगातार पांच शनिवार करें। पुराने पत्तों को किसी कुएं अथवा नदी में बहा दें। इससे दुकान पर किया गया तंत्र-मंत्र निष्फल हो जाएगा और आपका काम फिर से दौड़ने लगेगा।
  6. अगर आपको कोई काम बहुत लंबे समय से अटका हुआ है और लाख प्रयास के बाद भी नहीं हो रहा है तो रविवार को एक पान का पत्ता लेकर घर से बाहर निकलें, आपके सभी कार्य अपने आप बनते चले जाएंगे और आपको सफलता प्राप्त होगी।
  7. पान के पत्ते का एक प्रयोग और भी बताया गया है। इस प्रयोग को मंगलवार, शनिवार या हनुमानजयंती के दिन करना चाहिए। इस प्रयोग में एक पान में कत्था, गुलकंद, सौंफ, खोपरे का बूरा और कतरी हुई सुमन डलवा कर बीड़ा बनवा लेना चाहिए। इस पान में चूना, सुपारी तथा तंबाकू का हाथ भी नहीं लगना चाहिए। इसके बाद हनुमानजी की विधि-विधान से पूजा कर उन्हें यह पान अर्पित करें तथा उनसे प्रार्थना करें, ‘हे हनुमानजी, आपको मैं यह मीठा रस भरा पान अर्पण कर रहा हूं। इस मीठे पान की तरह आप मेरा जीवन भी मिठास से भर दीजिए’। इस प्रयोग को करने के बाद कुछ ही समय में आपकी बड़ी से बड़ी समस्या दूर हो जाएगी।
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned