कार्यवाहक अध्यक्ष का पदभारग्रहण कार्यक्रम बना अखाड़ा

अरूण यादव के खिलाफ प्रदेश कोषाध्यक्ष ने दिया भाषण तो भड़के समर्थक
पुराने नेताओं ने संभाला मोर्चा, बरसों बाद दिखी कांग्रेस के आयोजन में भीड़

By: नितेश pal

Published: 20 Jul 2018, 06:01 AM IST

इंदौर.
कांग्रेस के कार्यवाहक शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल के पदभार ग्रहण कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस दफ्तर गांधीभवन अखाड़े में तब्दिल हो गया। बाकलीवाल को पदभार ग्रहण करवाने आए प्रदेश कांग्रेस कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल ने अपने भाषण के दौरान पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव पर टिप्पणी कर दी। इस टिप्पणी से यादव के समर्थक नेता भड़क गए। हालत ये हो गई कि गोयल को वरिष्ठ नेताओं के पीछे छिपना पड़ा। वहीं भड़के कांग्रेसियों ने गांधीभवन के नीचे सड़क पर भी गोयल के खिलाफ नारेबाजी की।
बाकलीवाल के पदभार ग्रहण समारोह के दौरान गांधीभवन पर बड़ी संख्या में कांग्रेसी इकट्ठा हुए थे। इस दौरान कांग्रेस के इंदौर के पर्यवेक्षक बनाए गए नेता सुरेंद्र ठाकुर, निमिष शाह सहित गोयल भी इंदौर पहुंचे थे। गोयल के भाषण के पहले जहां कांग्रेसी एकजुट दिख रहे थे, वहीं अपने भाषण में गोयल ने पहले तो प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ की बढ़ाई की, वहीं उन्होने इस दौरान कह दिया कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की नई टीम उत्साह से काम कर रही है। लेकिन पिछले साढ़े चार साल में संगठन के नेताओं ने संगठन को कम और नेताओं ने खुद का ज्यादा फायदा किया। गोयल का इतना कहना था कि यादव समर्थक पूर्व प्रदेश महासचिव अनिल यादव भड़क गए। यादव ने उन्हें टोकते हुए कहा कि आप ये क्या बोल रहे हैं। उनके साथ यादव समर्थक सैय्यद वाहिद अली, आफताब खान, दीपू यादव भी गोयल के खिलाफ खड़े हो गए और गोयल की खिलाफत शुरू कर दी। उनके साथ ही उनके समर्थक भी अरूण यादव के समर्थन में नारेबाजी करते हुए गोयल की ओर बढऩे लगे। विवाद की स्थिति बनते ही मंच पर मौजूद कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष तुलसी सिलावट वरिष्ठ कांग्रेस नेता कृपाशंकर शुक्ला, राजेश चौकसे, अंजू टांक, राजेश पांडे गोयल और यादव समर्थकों के बीच में आ खड़े हो गए। हालत ये हो गई कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं के गुस्से से बचने के लिए गोयल को इन नेताओं को बारी मशक्कत करना पड़ी। उन्हें वरिष्ठ नेताओं ने जैसे-तैसे बचाया। काफी देर हंगामा होने के बाद वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेसियों को शांत करवाया और कार्यक्रम वापस शुरू हो पाया। उसके बाद पूर्व विधायक अश्विन जोशी, प्रदेश उपाध्यक्ष अर्चना जायसवाल, प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष सुरेंद्रसिंह ठाकुर आदि के भाषण हुए। वहीं बाकलीवाल ने भी अपने भाषण में कहा कि कुछ लोग मुझे नया कह रहे हैं, जबकि मैं दो बार पार्षद रह चुका हूं। और इसी कारण मुझे ये पद दिया गया है। मैं कार्यकर्ताओं को विश्वास दिलाता हूं, कि वो जब भी मुझे याद करेंगे मैं उनके साथ खड़ा मिलूंगा। वहीं शहर अध्यक्ष प्रमोद टंडन ने इस दौरान कहा कि वे और बाकलीवाल दोनों एक ओर एक दो नहीं बल्कि एक ओर एक ग्यारह होकर काम करेंगे। इससे कांग्रेस को मजबूती मिलेगी।
बरसों बाद कांग्रेस में दिखी भीड़
बाकलीवाल के पदभार ग्रहण में पहली बार कांग्रेसियों की भीड़ दिखाई दी। गुरूवार को कांग्रेस के इस आयोजन में सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसी मौजूद थे। हालत ये थी कि राजबाड़ा पर बाकलीवाल के पहुंचने के पहले ही 700 से ज्यादा कांग्रेसी पहुंच चुके थे। वहीं उनके पहुंचने के साथ ही कांग्रेस नेता भी पहुंचने लगे थे। इस दौरान बाकलीवाल ने पहले अहिल्याबाई होल्कर की प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया और रैली के रूप में गांधीभवन की ओर निकले। इस दौरान कांग्रेस सचिव सज्जनसिंह वर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष सिलावट, युवक कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष पिंटू जोशी, युवक कांग्रेस लोकसभा अध्यक्ष अमन बजाज बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के साथ पहुंचे थे। बाकलीवाल ने राजबाड़ा से पैदल पदभार ग्रहण करने निकले। रास्ते में जगह-जगह पर कांग्रेसियों ने मंच लगाकर उनका स्वागत भी किया।

नितेश pal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned