कोरोना के डर से 40 फीसदी बढ़े मानसिक रोगी

महामारी के साइड इफेक्ट से बढ़ा तनाव

By: रमेश वैद्य

Published: 20 Apr 2021, 02:15 AM IST

इंदौर. शहर में कोरोना को दस्तक दिए १३ महीने हो गए हैं। दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक साबित हो रही है। बढ़ते संक्रमण के साथ आर्थिक गतिविधियां थमने से लोगों पर दोहरी मार पड़ रही है। ऐसे में बीमारी के साथ अन्य समस्याओं के चलते शहरवासियों को मानसिक रोग जकड़ रहे हैं। शहर के मानसिक चिकित्सालय, निजी क्लीनिक और मनोचिकित्सकों के पास मरीजों का आंकड़ा ४० प्रतिशत तक बढ़ गया है। रोज ५००-६०० मरीज पहुंच रहे हैं।
कोरोना के साइड इफेक्ट के चलते कोरोना मरीज और उनके परिजनों में मानसिक विकृतियां आ रही हैं। कोरोना का डर और लॉकडाउन में हो रहे आर्थिक नुकसान से बढ़ रहे तनाव और डर के लक्षण देखने को मिल रहे हैं। मरीजों को मानसिक तनाव से बचाने के लिए सरकारी अस्पतालों में मनोचिकित्सक की ड़्यूटी लगाई है। अकारण चिंता से दूर रहकर शांत-चित्त रहने पर जोर दिया जा रहा है।
दूसरी लहर ने बढ़ाया मर्ज
दूसरी लहर में बढ़ते संक्रमण के साथ लॉकडाउन के कारण व्यापार-व्यवसाय बंद है, जिससे आर्थिक नुकसान समेत कई ऐसे साइड इफेक्ट हैं जो लोगों में चिंता, तनाव, घबराहट, अनिद्रा, बैचेनी, उदासी और गुस्से के लक्षण ला रहे हैं। लोगों में बीमारी होने का डर, अपनों के संक्रमित होने की ङ्क्षचता और आर्थिक नुकसान से ऐसी स्थिति बन रही है।
लगातार बढ़ रहे मरीज
शहर के सबसे बड़े सरकारी मानसिक चिकित्सालय में रोज १५०-२०० मरीज आ रहे हैं। इनमें अधिकतर वर्तमान परिस्थितयों को लेकर परेशान हैं। अस्पताल अधीक्षक और मनोचिकित्सक डॉ. वीएस पॉल ने बताया, कोविड की विषम स्थितियों को देखते हुए लोगों में मानसिक बीमारी देखने को मिल रही है। पहले से संखख्या बढ़ी है। जो लोग पहले से ही इन बीमारी से ग्रसित थे और इलाज से ठीक हो गए थे, उन्हें फिर से मानसिक बीमारी होने लगी है।
शहर में 30 मनोचिकित्सक
इंदौर मनोचिकित्सक सोसायटी के अध्यक्ष और मनोचिकित्सक डॉ. रामगुलाम राजदान ने बताया, शहर में करीब 30 मनोचिकित्सक है। हर डॉक्टर के पास रोजाना करीब 15 से 20 मरीज आ रहे हैं। जो सामान्य दिनों के मुकाबले 40 प्रतिशत ज्यादा हैं। दूसरी लहर के कारण लोगों में भय व्यापत है। अपनों को खोने का डर, बेड, ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी से भी लोग तनाव में है।

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned