स्वस्थ होने के बाद भी कोविड सेंटर में रहना चाहते हैं शहर के बुजुर्ग

पुलिस के सत्यकॉम कोरोना वॉलंटियर के पास बुजुर्गों के कई फोन आ रहे हैं। उनकी मदद भी की जा रही....

By: Ashtha Awasthi

Published: 23 May 2021, 06:39 PM IST

इंदौर। कोरोना महामारी ने जहां लोगों के जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है, वही सीनियर सिटीजन की भी मुश्किलें बढ़ा रहा है। कोरोन ने कई बुजुर्गों की जान ले ली। वहीं जो स्वस्थ होकर लौटे हैं, उनमें से कुछ अकेलेपन से परेशान हैं। वे फिर से अस्पताल जाने के लिए पुलिस से गुहार कर रहे है ताकि वहां आसपास लोग तो नजर आए।

MUST READ: फायदेमंद वैक्सीन: टीके के बाद भी लोगों को हो रहा कोरोना संक्रमण, लेकिन जान को खतरा नहीं

कोरोना की दूसरी लहर ने सबसे ज्यादा बुजुर्गों को प्रभावित किया है। पुलिस के सत्यकॉम कोरोना वॉलंटियर के पास बुजुर्गों के कई फोन आ रहे हैं। उनकी मदद भी की जा रही। दरअसल संक्रमण के चलते किसी का पति तो किसी की पत्नी की जान चली गई है। जीवन साथी के जाने से बुजुर्ग अकेले हो गए हैं, इनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं है। परिचित या रिश्तेदार साथ नहीं दे रहे।

gettyimages-1264280307-170667a.jpg

बीमारी को तो वे मात दे चुके है पर अकेलेपन से नहीं लड़ पा रहे। यही वजह है कि वे फोन लगाकर अफसरों से वापस अस्पताल में भर्ती कराने की गुहार लगा रहे हैं। उनका तर्क है, घर में अकेले रहने से अस्पताल में लोगों के बीच तो रहेंगे। वहां देखरेख तो होगी।

केस 1

द्वारकापुरी क्षेत्र के 78 वर्षीय बुजुर्ग कोरोना से तो जंग जीत गए पर अकेलेपन से हार गए। उनकी पत्नी की कुछ दिन पहले मौत हो गई। घर सूना है, इसलिए वे राधा स्वामी कोविड सेंटर में भर्ती होना चाहते हैं, ताकि वहां वे लोगों से बात तो कर सकेंगे।

केस 2

सरकारी विभाग से रिटायर बुजुर्ग भी अकेलेपन से परेशान हैं। उन्होंने बताया, उनके पास दो करोड़ का मकान है पर देखरेख करने वाला कोई नहीं। 3 दिन तक खाने को कुछ नहीं था। अब सत्यकॉम वॉलिंटियर उनकी देखरेख कर रहे हैं।

coronavirus coronavirus prevention
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned