अफसर से मारपीट : BJP विधायक पर FIR दर्ज, गिरफ्तारी होने तक नहीं चलेगी नगर निगम

निगम कर्मचारियों ने नगर निगम और थाने में हंगामा करने के साथ काम बंद कर दिया है।

By: हुसैन अली

Published: 26 Jun 2019, 03:56 PM IST

इंदौर. खतरनाक मकान को तोडऩे आए अफसर से मारपीट के मामले में पुलिस ने भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ सरकारी काम में बाधा, मारपीट और बलवे की धारा में प्रकरण दर्ज कर लिया है। इधर निगम कर्मचारियों ने नगर निगम और थाने में हंगामा करने के साथ काम बंद कर दिया है। ये लोग नारेबाजी करते हुए विधायक पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

must read : खतरनाक मकान गिराने आए निगम अफसर को विधायक ने दौड़ा-दौड़ाकर बैट से पीटा

नगर निगम आयुक्त आशीष सिंह ने कहा कि जिस मकान को तोडऩे की कार्रवाई आज की जा रही थी, उसे लेकर विधायक आकाश विजयवर्गीय का कहना था कि वह जर्जर नहीं है। हमने उनसे दिखवाकर कार्रवाई करने का कहा था। उन्होंने ही मकान के फोटो दिए थे, जो कि जर्जर दिख रहा है। इसलिए तोडऩे के लिए टीम पहुंची थी। निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस के साथ मारपीट के बाद धारा 353 सहित 294, 323, 506, 147, 148 में प्रकरण दर्ज करा दिया गया है। जब तक विधायक की गिरफ्तारी नहीं होगी, तब तक नगर निगम नहीं चलेगी। विधायक ने जो किया वो पूरी तरह से अराजकता फैलाने का प्रयास है। नगर निगम कर्मचारियों ने आज पूर्व नगर निगम आयुक्त मनीष सिंह को भी याद किया। निगमकर्मियों का कहना था कि पूर्व में चाटाकांड के बाद हुई कार्रवाई से कर्मचारियों का मनोबल बढ़ा था।

indore

यह है पूरा मामला

जोनल अफसर धीरेंद्र बायस और असीत खरे नगर निगम की टीम के साथ जेल रोड के पास गंजी कंपाउंड स्थित एक दो मंजिला खतरनाक मकान तोडऩे पहुंचे थे। इसमें करीब पांच परिवार रह रहे थे। वैसे तो सबने मकान खाली कर दिया था, लेकिन एक किराएदार अफसरों से विवाद करने लगा। इतने में विधायक आकाश विजयवर्गीय और अफसरों से उनका विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि विधायक ने बैट उठा लिया और निगम अफसर धीरेंद्र बायस को दौड़ा-दौड़ाकर पीट दिया। उनके साथ आए कार्यकर्ताओं ने भी अफसर से मारपीट की। हंगामा होते ही क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गई।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned