न आग बुझाने की व्यवस्था, न ही फायर ब्रिगेड पहुंच सकती है, फिर भी और समय देगा निगम

सूरत में 22 बच्चों की मौत के बाद भी नहीं जागा प्रशासन: मंत्री के हस्तक्षेप के बाद रुकी थी कार्रवाई

By: हुसैन अली

Published: 10 Jul 2019, 02:03 PM IST

इंदौर. सूरत की कोचिंग क्लास में हुए भीषण अग्निकांड में 22 बच्चों की जान चले जाने के बाद भी इंदौर में जिम्मेदारों की नींद नहीं खुली है। शहर में कई ऐसे संस्थान और इमारतें हैं जहां आग से बचने के न तो पर्याप्त साधन हैं न ही वहां फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंच सकती है। लेकिन उन पर कार्रवाई ही नहीं हो रही है।

must read : डिलीवरी होते ही खून से लथपथ बच्चा परिजन को सौंप एमवायएच किया रैफर, रास्ते में हो गई मौत

जिन खतरनाक संस्थानों को सील करने के आदेश दिए गए थे उन्हें बार-बार मोहलत दी जा रही है। हद तो यह है कि नोटिस मिलने के बाद भी संचालक बच्चों की जान की परवाह नहीं करते हुए इन्हें बदस्तूर जारी रखे हुए हैं। रियायत की भी समय सीमा खत्म होने के बाद इनकी और से बिना कोई मोहलत मांगे निगम इन्हें एक सप्ताह का समय और देने जा रहा है जो समझ से परे है। मुख्यमंत्री के आदेश पर कलेक्टर और निगमायुक्त ने शहर की इमारतों की जांच में तो बड़ी तेजी दिखाई थी लेकिन समय के साथ यह ठंडे बस्ते में चली गई। एक महीना बीत गया है लेकिन सिर्फ 150 के करीब कोचिंग क्लासेस और स्कूलों की जांच हुई। इनमें से 38 इंस्टिट्यूट ऐसे थे, जहां सुरक्षा के पर्याप्त इंतेजाम नहीं थे और न ही वहां आग से बचने की कोई संभावना नजर आ रही थी।

must read : डायमंड कॉलोनी से अवैध निर्माण हटाने पहुंची निगम की टीम, महिलाओं ने किया पथराव

यहां जान पर खेलकर पढऩे आते थे बच्चे, जांच के बाद इन्हें सील करना शुरू किया था निगम ने पर अब तक कार्रवाई नहीं
-एडवांस पब्लिक स्कूल, 184/6 मेघदूत नगर
-नवजीवन स्कूल, मेघदूत नगर
-कौटिल्य एकेडमी, 7 व्यंकटेश नगर
-कौटिल्य एकेडमी, राधास्वामी नगर, चितावद रोड
-कौटिल्य एकेडमी, 12-13 सिद्धार्थनगर, स्कीम नंबर 44
-अयाम कॅरियर इंस्ट्टियूट, 9/3 मनोरमागंज
-जील कम्प्यूटर, 210 ब्लॉक सी, सिल्वर मॉल, आरएनटी रोड
-अग्रवाल प्रोफेशनल एकेडमी, 303 ब्लॉक बी, सिल्वरमॉल
-पेस एजुकेयर प्रा.लि., 402 ब्लॉक बी, सिल्वर मॉल
-प्री-प्रायमरी स्टेट्स पब्लिक स्कूल स्कीम नं-78 अरण्य
-दिव्या कान्वेंट हायर सेकंडरी स्कूल, स्कीम 78 अरण्य
-विनर्स इंस्टिट्यूट 11, प्रोफेसर कॉलोनी
-फोर्स एकेडमी, चितावद रोड पेट्रोल पंप के पास
-सत्याश्री शर्मा कोचिंग क्लासेस, 159 साजन नगर
-मदरलैंड पब्लिक स्कूल, जोन 5 के सामने
-प्रकाश सिविल सर्विसेज, 72 जयरामपुर कॉलोनी
-दांगी कोचिंग क्लासेस, 72 जयरामपुर कॉलोनी
-कोठारी कोचिंग इंस्टिट्यूट, प्रिंस यशवंत रोड
-हीरानंद आहूजा द्वारा संचालित होस्टल, 34 प्रोफेसर कॉलोनी
-आकाश एजुकेशन एकेडमी, 242 उषानगर एक्सटेंशन
-विजय एजुकेशन एकेडमी, 4 द्रविड़ नगर
-एनआईआईटी, विद्यापति बिल्डिंग, रेसकोर्स रोड
-वीआईईसी (वाईस) स्टडी अबोर्ड, जंजीरवाला चौराहा
-एबिलिटी स्लो लर्नर क्लासेस, 19/2 जेमिनी टॉवर आनंद बाजार
-जेकेएम स्टडी पाइंट, सेंकड फ्लोर आनंद बाजार काम्प्लेक्स
-देवी अहिल्या कम्प्यूटर एजुकेशन 621/1 कालानी नगर
-ऐप मेकर्स, 623 सलूजा बिल्डिंग, कालानी नगर
-क्रिएटिव पाइंट 40/4 कालानी नगर
-ब्रिटिश इंस्टिट्यूट ऑफ इंग्लिश कोचिंग, 621/1 कालानी नगर
-एनिम मीडिया आर्ट, 621 कालानी नगर
-वीएम एकेडमी, 1881 सेक्टर डी सुदामा नगर
-सेम्फायर इंस्टीट्यूट, 29 दादावाडी रामबाग
-क्षोत्रिय इंस्टीट्यूट ऑफ कामर्स मैनेजमेंट, 146 सदर बाजार
-फोकस क्लासेस, 158 शिवशक्ती नगर
-सिग्मा क्लासेस, 355 गोयल नगर
-कोचिंग क्लासेस लाइब्रेरी (चरणजीत सिंह), 5 विष्णुपुरी मेन
-सुरेंद्र सिंह और मुकेश सिंह, 58 सिद्धार्थनगर स्कीम नंबर 44
-पीएस एकेडमी, वेदा बिल्ंिडग भंवरकुआं चौराहा

स्कूल भी हैं शामिल

निगम ने जिन संस्थानों को छात्रों के लिए खतरनाक माना था, उसमें स्कूल भी शामिल थे। ये वे स्कूल हैं जहां आग लगने पर फायर वाहन भी नहीं जा सकते हैं।

 

indore

हम सभी स्कूल और कोचिंग क्लासेस का एक बार और सर्वे करवा रहे हैं। अधिकतर ने अपने संस्थान शिफ्ट कर लिए हैं, यदि किसी ने नहीं किए हैं, तो हम उसे बंद करेंगे। वहीं, स्कूलों की मान्यता निरस्ती के लिए जिला प्रशासन से अनुरोध करेंगे ताकि वे स्वत: बंद हो जाएं।-आशीष सिंह निगमायुक्त

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned