script संघ का विचार, प्रॉपर्टी न हो, समाज का हर घर संघ का कार्यालय: होसबोले | RSS News sangh news in hindi RSS office of malwa niwad office RSS office sudarshan in indore mp Hosbole statement | Patrika News

संघ का विचार, प्रॉपर्टी न हो, समाज का हर घर संघ का कार्यालय: होसबोले

locationइंदौरPublished: Dec 19, 2023 07:45:59 am

Submitted by:

Sanjana Kumar

मालवा-निमाड़ की गतिविधियों का केंद्र बनेगा नारायण बाग, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मालवा प्रांत का नया मुख्यालय अब 'सुदर्शन' हो गया है। संघ के सह कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की मौजूदगी में भवन का लोकार्पण हुआ, होसबोले ने कहा कि शुरू से संघ का विचार रहा है कि कोई प्रॉपर्टी न हो। समाज का हर घर संघ का कार्यालय है, क्योंकि समाज ही संघ है...

 

har_ghar_sangh_ka_ghar_indore_news_in_hindi_mp_hindi_news.jpg

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मालवा प्रांत का नया मुख्यालय अब 'सुदर्शन' हो गया है। सोमवार को संघ के सह कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की मौजूदगी में भवन का लोकार्पण हुआ। अब तक इंदौर में 76 रामबाग यानी अर्चना कार्यालय संघ का मुख्यालय हुआ करता था। यहां केएस सुदर्शन जैसे कई वरिष्ठ प्रचारकों ने समय दिया। इंदौर और उज्जैन को मिलाकर जब से मालवा प्रांत बना है, तब से सारी गतिविधियां यहीं से संचालित हो रही थीं। सोमवार को नारायण बाग में सुदर्शन नामक नया मुख्यालय मिल गया है। 18 हजार वर्गफीट पर बनी बिल्डिंग का निर्माण डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति ने कराया। यहां 150 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। होसबोले ने कहा कि शुरू से संघ का विचार रहा है कि कोई प्रॉपर्टी न हो। समाज का हर घर संघ का कार्यालय है, क्योंकि समाज ही संघ है। समाज में बदलाव के लिए प्रशिक्षण दिए जाने चाहिए। मालूम हो, संघ ने वर्षों तक बगैर कार्यालय काम किया। अब जिला स्तर पर कार्यालय खुलने लगे हैं।

आजादी के बाद भी रही भौतिक गुलामी

लोकार्पण अवसर पर मुख्य अतिथि होसबोले ने कहा कि मैकाले की शिक्षा पद्धति और मार्क्सवादी विचारों के कारण राजनीतिक स्वतंत्रता के बाद भी देश दशकों तक भौतिक गुलामी में रहा। समाज को गुलामी से मुक्त होना चाहिए। गुलाम मानसिकता के कारण विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों में वर्षों तक हिंदुत्व को नकारने और इतिहास पर घृणा करने की प्रवृति रही। इससे समाज को जिस प्रकार विकसित होना था, वैसा नहीं हो पाया। भारतीयता, स्वदेशी, हिंदुत्व को लेकर हमेशा से संघ का आग्रह रहा है, क्योंकि एक राष्ट्र खुद के स्वाभिमान को समझकर आगे बढ़े। उसी के बल पर देश विकसित होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि ये भवन समाज ने बनवाया और समाज के उपयोग के लिए है। स्मारक समिति ने कभी विचार नहीं किया कि हमारी संपत्ति होनी चाहिए, लेकिन कार्य विस्तार और प्रशिक्षण के लिए स्थान की आवश्यकता होने के कारण निर्माण हुआ है। देशभर में विविध सेवा कार्य, आपदा व राहत कार्य चलाए जा रहे हैं, जिसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत होती है, इसलिए भवन में कमरों का निर्माण भी किया है। कार्यालय सुदर्शनजी के नाम पर रखा गया है, वे सदैव भारत के स्व को दृढ़ करने के लिए समाज से आग्रह करते थे। कार्यालय के लोकार्पण का दिन सुदर्शन के उसी संकल्प और स्वप्न को पूर्ण करने के निश्चय का दिन है। इस दौरान सुरेश सोनी, दीपक विस्पुते, गणवंत कोठारी, कृष्णकुमार अष्ठाना आदि मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन प्रांत कार्यवाह विनीत नवाथे ने किया।

ट्रेंडिंग वीडियो