मुकेश अंबानी ने 259 साल पुरानी ब्रिटिश टाॅय कंपनी हेमलीज का किया टेकओवर

मुकेश अंबानी ने 259 साल पुरानी ब्रिटिश टाॅय कंपनी हेमलीज का किया टेकओवर

Saurabh Sharma | Updated: 10 May 2019, 03:39:04 PM (IST) इंडस्‍ट्री

  • हेमलीज की स्थापना 259 साल पहले वर्ष 1760 में हुई थी
  • वैश्विक स्तर पर हैमलीज के 18 देशों में 167 स्टोर हैं
  • देश में हेमलीज के 29 शहरों में 88 स्टोर्स संचालित हो रहे हैं

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी की रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड ने विश्व के खिलौना बाजार में दो शताब्दी से अधिक समय से पैठ जमाने वाली कंपनी हेमलीज ग्लोबल होल्डिंग्स लिमिटेड का अधिग्रहण करने के साथ ही खिलौनों की खुदरा बिक्री के अंतरराष्ट्रीय बाजार में कदम रखा है।

यह भी पढ़ेंः- सोना फिर बन सकता निवेशकों की पहली पसंद, ये हैं बड़ी वजह

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहायक इकाई रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड ने हांगकांग की सी बैनर इंटरनेशनल होल्डिंग्स की शत प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने का करार किया है। सी बैनर होल्डिंग्स हैमलीज ब्रांड की मालिक है। कंपनी ने सौदे की रकम का खुलासा नहीं किया है। हेमलीज की स्थापना 259 साल पहले वर्ष 1760 में हुई थी। यह विश्व की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी खिलौना शॉप है। बाद में यह वैश्विक कंपनी में बदल गई।

हेमलीज अपने बेहतरीन खिलौनों से दो सदियों से अधिक समय से बच्चों के चेहरे पर मुस्कान बिखेर रही है। कंपनी अपने खिलौनों की बेहतरीन गुणवत्ता और विस्तृत श्रखंला के एक बेहतरीन मॉडल के साथ विस्तार करने में सफल रही है तथा बच्चों की पसंदीदा बनी हुई है। कंपनी ने थिएटर और मनोरंजन के साथ अपने रिटेल नेटवर्क का विस्तार भी किया है।

यह भी पढ़ेंः- मारुति सुजुकी का उत्पादन 9 फीसदी घटा, सबसे कम हुआ इस गाड़ी का उत्पादन

वैश्विक स्तर पर हेमलीज के 18 देशों में 167 स्टोर हैं । भारत में रिलायंस ही हेमलीज की मुख्य फ्रैंचाइजी है और देश के 29 शहरों में 88 स्टोर्स का संचालन कर रही है। इस अधिग्रहण के साथ रिलायंस ब्रांड्स ने और तेजी से आगे बढऩे की उम्मीद और वैश्विक खिलौना उद्योग में एक प्रमुख कंपनी के रुप में उभरने में सफल होने की उम्मीद जताई है।

रिलायंस ब्रांड्स के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी दर्शन मेहता ने अधिग्रहण पर खुशी जताते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में देश में हेमलीज ब्रांड के तहत खिलौनों की खुदरा बिक्री में काफी इजाफा हुआ और यह लाभप्रद कारोबार में तब्दील हुआ। उन्होंने कहा 250 वर्षों से अधिक पुराने इंग्लिश टॉय रिटेलर ने विश्वभर में ब्रिक ऐंड मोर्टर रिटेलिंग के लोकप्रिय होने से काफी पहले खुदरा में बड़े स्तर पर नए प्रयोगों की शुरुआत कर सफलता अर्जित की।

यह भी पढ़ेंः- एनएसएसओ की रिपोर्ट से हुआ खुलासा, आर्थिक आंकड़ों में फर्जीवाड़े पर फिर घिरी सरकार

हेमलीज ब्रांड और इसके वैश्विक कारोबार के अधिग्रहण से रिलायंस दुनिया के खुदरा कारोबार में एक प्रमुख कंपनी बन कर उभरेगी। उन्होंने कहा कि इस अधिग्रहण से कंपनी के काफी पुराने सपने को वास्तविकता में बदलने में सफलता मिली है। हेमलीज का पहला प्रमुख स्टोर 1881 में लंदन के रीजेंट स्ट्रीट में खोला गया था। सात मंजिल और 54 हजार वर्गफुट में फैले इस स्टोर में 50 लाख से अधिक ग्राहक सालाना आते हैं। इस स्टोर में खिलौने की 50 हजार से अधिक लाइंस बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। इस स्टोर में विश्वभर से बच्चे और किशोर साल पूरा होने पर विभिन्न आयोजनों, प्रस्तुतियों में शामिल होने और खिलौनों की विस्तृत श्रखंला को देखने के लिए आते हैं।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned