मरीजों की मौत की घबराए कोविड संदिग्ध ने अस्पताल में फल काटने वाले चाकू से रेत लिया गला, कुछ घंटे बाद निगेटिव आई रिपोर्ट

कोरोना की दहशत और मेडिकल कॉलेज की अव्यवस्थाओं से परेशना कोरोना संदिग्ध ने की आत्महत्या, कुछ घंटों बाद ही निगेटिव आई मृतक की कोरोना रिपोर्ट।

 

By: Faiz

Published: 17 May 2021, 02:17 PM IST

जबलपुर/ कोरोना संक्रमण से मौत का खौफ लोगों पर हावी होने लगा है। इसी की बानगी देखने को मिली मध्य प्रदेश के जबलपुर स्थित एनएससीबी मेडिकल कॉलेज में, जहां एक 30 वर्षीय युवक ने फल काटने वाले चाकू से खुद का गला रेत लिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार, घटना को अंजाम देने के बाद शुरु हुई तकलीफ से घबराकर युवक वार्ड में ही इधर-उधर भागने लगा, जिससे पूरे वार्ड में खून फैल गया। थोड़ी देर में ही युवक की छटपटा कर मौत हो गई।

 

पढ़ें ये खास खबर- पूर्व मंत्री के बंगले पर महिला मित्र ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा था- 'तुम गुस्से में बहुत तेज हो, अब सहन नहीं होता'


परिजन ने लगाया हत्या का आरोप

बता दें कि, युवक को बीते 14 मई से मेडिकल कॉलेज में कोरोना संदिग्ध के तौर पर भर्ती था। बताया जा रहा है कि, उसे कोरोना से मौत की दहशत बैठ गई थी। हालांकि, मौत के कुछ घंटे बाद ही उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। दूसरी तरफ, मृतक के परिजन ने अस्पताल प्रबंधन पर हत्या का आरोप लगाते हुए मजिस्ट्रियल जांच की मांग की है।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP में यहां उड़ रही थीं लॉकडाउन की धज्जियां, ये वीडियो वायरल हुई तो जागा प्रशासन


लगातार हो रही मौंत और मेडिकल कॉलेज की अव्यवस्थाओं से था परेशान

शहर के गढ़ा थाना प्रभारी राकेश तिवारी के अनुसार, पाटन के मुड़िया नुनसर के रहने वाले 30 वर्षीय गणेश सिंह की तबियत गुजिश्ता 13 मई खराब हुई थी। बुखार आने पर परिजन ने संदेह में 14 मई को उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल के वार्ड नंबर तीन में भर्ती कराया था। यहां उसका कोरोना सैंपल भी जांच के लिए भेज दिया गया था। एक तरफ तो वो अपने लक्षणों को लेकर कोरोना के संदेह में था, तो वहीं दूसरी तरफ अस्पताल में लगातार हो रही कोविड मरीजों की मौत और मेडिकल कॉलेज की अव्यवस्थाओं को देखकर परेशान था।


पूरे वार्ड में बिखरा मिला खून

गणेश सिंह ने रविवार रात को फल काटने वाले चाकू से अपना गला रेत लिया। गला कटने के बाद वो और भी घबरा गया। इसके बाद वो छटपटाते हुए पूरे वार्ड में दौड़ने लगा। इस वजह से खून से पूरा वार्ड भी सन गया। मरीज द्वारा की गई इस हरकत को देखते हुए वार्ड में भर्ती अन्य मरीजों के बीच चीख-पुकार मच गई। चीखों की आवाज सुनकर अस्पताल की नर्स और वार्ड बॉय मोके पर पहुंचे। लेकिन, जब तक वो कुछ कर पाते युवक की मौत हो चुकी थी।

 

पढ़ें ये खास खबर- 100 रुपए बचाने के लिए इंटरनेट से निकाला कस्टमर केयर का नंबर, एक क्लिक पर खाते से उड़ गए 63 हज़ार


मौत के बाद रिपोर्ट आई निगेटिव

मामले की जांच में जुटी गढ़ा पुलिस का कहना है कि, गणेश का सैंपल 15 मई को जांच के लिये भेजा गया था। 16 मई की रात जब तक उसकी रिपोर्ट आई उससे पहले ही उसने आत्म हत्या कर ली। हालांकि, गणेश की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना संकट के बीच मेडिकल कॉलेज में अस्थाई कर्मचारियों ने मंत्री को सौंपा ज्ञापन, रखी ये बड़ी मांग


परिजन ने की मजिस्ट्रियल जांच की मांग

किसानी का काम करने वाले गणेश के दो बच्चे हैं। राेते हुए उसके पिता देवी सिंह और बड़े पापा मदन सिंह ने आरोप लगाया, कि गणेश ने उन्हें कुछ देर पहले ही फोन करके अस्पताल से ले जाने को कहा था। उसने कहा था कि, उसे यहां से निकाल लो। उसने फोन पर कहा था कि, अस्पताल नहीं कसाईघर लग रहा है। परिजनों ने अस्पताल के एक डॉक्टर व वार्ड बॉय पर हत्या का आरोप लगाया है। साथ ही, मामले की मजिस्ट्रियल जांच कराने की मांग की है।

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े हर सवाल का जवाब - जानें इस वीडियो में

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned