सेना में दाऊद का दखल -कई बड़े चेहरों से हटेगा नकाब

सेना में दाऊद का दखल -कई बड़े चेहरों से हटेगा नकाब

deepak deewan | Publish: Sep, 16 2018 02:59:26 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

दाऊद का दखल

जबलपुर . जबलपुर सेना के मध्य भारत एरिया का हेडक्वार्टर होने के बाद भी सीओडी जैसे अति सुरक्षित परिसर से 2012 से लगातार छह साल तक एके-47 रायफल चोरी होती रही। इस प्रकरण ने मिलिट्री इंटेलीजेंसी की चूक को भी उजागर कर दिया। सीओडी प्रशासन भी कटघरे में है। 15 अगस्त 2018 को सीओडी परिसर में सीनियर स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर को एके-47 रायफल के पाट्र्स के साथ दबोचा गया था, लेकिन उसे बिना पूछताछ के छोड़ दिया गया। सीओडी प्रशासन और मिलिट्री इंटेलीजेंसी ने चूक नहीं की होती तो उसी दिन रिटायर्ड आर्मरर पुरुषोत्तम के पंचशील नगर स्थित घर से छह एके-47 रायफलों की जब्ती भी हो गई होती।


सीओडी के कई बड़े चेहरे से नकाब हट जाएगा
सुरक्षा से जुड़े जानकारों की मानें तो इस हाइप्रोफाइल मामले की एनआइए (राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी) ने जांच शुरू की तो सीओडी-सेंट्रल ऑर्डनेंस डिपो में कार्यरत कई बड़े चेहरे से नकाब हट जाएगा। सीओडी की सुरक्षा को लेकर लापरवाही बरती जा रही है। संवेदनशील स्थलों की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरा सिर्फ गेट पर लगाया गया। सुरेश ठाकुर अपनी निजी कार से सीओडी परिसर में जाता था और एके-47 रायफल को पाट्र्स के रूप में चुराकर आराम से बाहर निकल आता था। सीओडी प्रशासन ने मुख्यालय की अनुमति का हवाला देकर क्राइम ब्रांच को भी परिसर में जांच की अनुमति नहीं दी। आठ दिन बाद टीम गई तो वहां तब तक सब कुछ साफ किया जा चुका था।


अप्रैल से हर महीने मुंगेर जाता था पुरुषोत्तम
पुरुषोत्तम और सुरेश ठाकुर 70 एके-47 रायफलों को चुराने की बात स्वीकार कर चुके हैं। अप्रैल से 28 जुलाई के बीच पुरुषोत्तम हर महीने मुंगेर जाता था। जून व जुलाई में वह दो-दो बार मुंगेर गया। हर बार वह एके-47 रायफलों की डिलेवरी देने गया था। मामले में हथियार तस्कर शमशेर और इमरान आतंकियों, डी-कम्पनी से जुड़े बदमाशों, नक्सली सहित कई सफेदपोश लोगों को रायफल बेच चुका है। जबलपुर के अलावा बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, पंजाब सहित बांग्लादेश की राजधानी ढाका तक मामले के तार जुड़ चुके हैं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned