चमत्कारी पेड़ से ठीक 12 बजे निकलते है नाग देवता, दर्शन को जुटती है हजारों की भीड़, देखें वीडियो

पिछले 40 वर्ष से चल रहा सिलसिला, बिल से केवल 15 मिनट के लिए बाहर आते है नागराज

By: deepankar roy

Published: 07 Feb 2018, 03:02 PM IST

जबलपुर/कटनी। महाशिवरात्रि पर नाग देवता के पूजन की वर्षों परंपरा है। कई शिव मंदिरों में इस दिन नाग के आने और भक्तों द्वारा अर्पित किए गए दूध के पीने की मान्यता रही है। इस वर्ष शिवरात्रि ? के मौके पर पत्रिका आपको एक ऐसी जगह लेकर जा रहा है, जहां पर प्रतिदिन नाग देवता एक वृक्ष के नीचे प्रकट होते है। एक निर्धारित समय पर भक्तों को दर्शन देते है। केवल 15 मिनट के लिए उनके होने वाले दर्शन के लिए हर रोज सुबह से भक्तों की भीड़ जुटती है। यह सिलसिला कई वर्षों से चल रहा है। मान्यता है कि इस नाग को दूध पिलाने से भक्तों की मनोकामना पूरी होती है।

दोपहर में शुरू होता है पूजन
कटनी के माधव नगर थानांतर्गत स्थित अमीरगंज क्षेत्र में एक बेहद पुराना महुआ का पेड़ है। क्षेत्रीयजनों के अनुसार दोपहर होते ही पेड़ के आसपास प्रतिदिन पूजा शुरू होती है। इसके बाद दोपहर ठीक 12 बजे वहां पास में स्थित एक बिल से एक नाग बाहर आता है। फिर महुआ के पेड़ के नीचे कुंडली मारकर बैठ जाता है। करीब 15 मिनट दर्शन देने के बाद नाग दोबारा बिल में चला जाता है। नाग के निकलते ही लोग भगवान भोलेनाथ के जयकारे लगाने लग जाते हैं और साथ ही पूजन-अर्चन तेज हो जाता है। लोग नाग को दूध अर्पित करते है।

 

दो महीने से लग रही कतार
स्थानीय निवासी बालमीक भोले ने बताया कि यह नाग पिछले 40 वर्षों से निकल रहा है। इसकी जानकारी पहले लोगों को नहीं थी। लेकिन कुछ लोगों ने ध्यान दिया तो नाग के बिल से बाहर आने और जाने की समय बिल्कुल निर्धारित मिला। ये सूचना जैसे ही लोगों तक पहुंचती तो बड़ी संख्या में दर्शन के लिए वे आने लगे। करीब दो महीने से प्रतिदिन सुबह होते ही लोगों की महुआ के पेड़ के पास कतार लगने लगती है। नाग देवता भी दोपहर ठीक 12 बजे प्रकट होकर 15 मिनट तक दर्शन देने के बाद लौट जाते है।

भोले और पार्वती का वास
क्षेत्रीय लोगों के अनुसार प्रतिदिन नियम से सांप के निकलने की इस क्रिया की जानी मिलने पर बाहर से तांत्रिक भी पहुंच रहे है। तांत्रिकों का कहना है कि यह देव स्थान है। महुआ के पेड़ में स्वयं भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती हैं। पिछले कुछ दिनों से यह स्थान आस्था का केंद्र बन गया है। दूर-दूर से लोग दर्शन के लिए यहां पहुंच रहे है।

सर्प विशेषज्ञ भी हैरान
नाग की दिनचर्या को लेकर सर्प विशेषज्ञ भी हैरान है। हैरानी वाली बात ये भी यह है कि नाग को पकडऩे के लिए जिस-जिस दिन सर्प विशेषज्ञ मौके पर पहुंचे उस नाग देवता बिल से ही बाहर नहीं आए। पुलिस ने भी नाग को पकडऩे का प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली। क्षेत्रीय निवासी राजेश विश्वकर्मा का कहना है कि नाग को भगाने के लिए पेड़ के पास जड़ी भी रखी गई और टोटके किए गए लेकिन सब बेअसर साबित हुआ।

Show More
deepankar roy Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned