MAHA SHIVRATRI

महाशिवरात्रि

MAHA SHIVRATRI

विवरण :

महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भगवान शिव का प्रमुख पर्व है। फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को शिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। माना जाता है कि सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ था। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन सृष्टि का आरम्भ अग्निलिङ्ग ( जो महादेव का विशालकाय स्वरूप है ) के उदय से हुआ था। अधिक तर लोग यह मान्यता रखते है कि इसी दिन भगवान शिव का विवाह देवि पार्वति के साथ हुआ था। साल में होने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

 

शिवरात्रि के बारे में जानें

महाशिवरात्रि भगवान शिव के सम्मान में सालाना मनाया जाने वाला हिंदू त्यौहार है। इस दिन शिव का देवी पार्वती से विवाह किया गया था। महाशिवरात्रि त्योहार, जिसे 'शिवरात्रि' या 'शिव की महान रात' के रूप में भी लोकप्रिय माना जाता है। शिव और शक्ति के अभिसरण को दर्शाता है अमावस्या-एंट महीने की गणना के अनुसार हिंदू कैलेंडर माह मेघ के कृष्ण पक्ष चतुर्दशी पर महा शिवरात्रि मनाया जाता है। पूर्णिमा-एंटी महीने की गणना के अनुसार, दिन है कृष्ण पक्ष हिंदू कैलेंडर माह फल्गुना का चतुर्दशी जो कि ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार फरवरी या मार्च में पड़ता है। वर्ष में बारह शिवरात्रियों में से, महाशिवरात्री सबसे पवित्र हैं।

 

शिव यानि कल्याणकारी, शिव यानि बाबा भोलेनाथ, शिव यानि शिवशंकर, शिवशम्भू, शिवजी, नीलकंठ, रूद्र आदि। हिंदू देवी-देवताओं में भगवान शिव शंकर सबसे लोकप्रिय देवता हैं, वे देवों के देव महादेव हैं तो असुरों के राजा भी उनके उपासक रहे। आज भी दुनिया भर में हिंदू धर्म के मानने वालों के लिए भगवान शिव पूज्य हैं। इनकी लोकप्रियता का कारण है इनकी सरलता। इनकी पूजा आराधना की विधि बहुत सरल मानी जाती है। माना जाता है कि शिव को यदि सच्चे मन से याद कर लिया जाए तो शिव प्रसन्न हो जाते हैं। उनकी पूजा में भी ज्यादा ताम-झाम की जरुरत नहीं होती। ये केवल जलाभिषेक, बेलपत्रों को चढ़ाने और रात्रि भर इनका जागरण करने मात्र से मेहरबान हो जाते हैं।

 

वैसे तो हर सप्ताह सोमवार का दिन भगवान शिव की आराधना का दिन माना जाता है। हर महीने में मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है लेकिन साल में शिवरात्रि का मुख्य पर्व जिसे व्यापक रुप से देश भर में मनाया जाता है दो बार आता है। एक फाल्गुन के महीने में तो दूसरा श्रावण मास में। फाल्गुन के महीने की शिवरात्रि को तो महाशिवरात्रि कहा जाता है। इसे फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। महाशिवरात्रि के अवसर पर श्रद्धालु कावड़ के जरिए गंगाजल भी लेकर आते हैं जिससे भगवान शिव को स्नान करवाया जाता हैं।

MAHA SHIVRATRI : MAHA SHIVRATRI 2018

महाशिवरात्रि : महाशिवरात्रि 2018

News

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK