election 2018 - अवैध खनन - नर्मदा की रेत की मंडी बन गए खेत, दोनों दलों को भारी पड़ेगा यह मुद्दा

election 2018 - अवैध खनन - नर्मदा की रेत की मंडी बन गए खेत, दोनों दलों को भारी पड़ेगा यह मुद्दा

deepak deewan | Publish: Sep, 07 2018 10:33:52 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

दोनों दलों को भारी पड़ेगा यह मुद्दा

प्रभाकर मिश्रा@ जबलपुर. बरगी विधानसभा में शहपुरा, बेलखेड़ा की उपजाऊ जमीन क्षेत्र को अलग पहचान दिलाती है लेकिन, एक दशक से क्षेत्र रेत अवैध उत्खनन का बड़ा अड्डा बन गया है। रेत की मंडी पर कब्जा जमाने के वर्चस्व की लड़ाई में तटों पर अपराध भी आम हैं।

उत्खनन अंधाधुंध: पार्टी में ही कम नहीं असंतुष्ट
उपजाऊ खेत हर साल बारिश के दिनों से पहले रेत की मंडी बन जाते हैं। खनन माफिया के हथियारबंद लोगों का यहां डेरा हो जाता है। ये खौफ प्रशासन-पुलिस के तंत्र में भी नजर आता है। उधड़ी खस्ताहाल सडक़ें, तुअर, चना की उपज का भुगतान बकाया होने को लेकर भी लोग नाराज हैं।

2013 - प्रतिभा सिंह 69076 - ठा. सोबरन सिंह 61677
ये नाम हैं चर्चा में
भाजपा
प्रतिभा सिंह - मौजूदा विधायक, लोधी वोटरों के बीच पैठ।
विनोद गोंटिया - भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष, संगठन में पकड़, गुजरात चुनाव के बाद राष्ट्रीय नेताओं की नजर में
शिव पटेल - ग्रामीण पूर्व अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के निकट।
कांग्रेस
संजय यादव - कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ व राष्ट्रीय प्रवक्ता रणवीर सूरजेवाला के करीब, लगातार सक्रिय।
अभय सिंह ठाकुर - युवाओं के बीच लगातार सक्रिय।
जयकांत सिंह- पूर्व विधायक सोबरन सिंह के बेटे। क्षेत्र में सक्रियता रहती है।


ये भी ठोक रहे ताल

नितिन अग्रवाल - नर्मदा यात्रा के दौरान दिग्विजय सिंह रहे करीब।
संतोष सिंह परिहार - बरगी से सरपंच, लगातार सक्रिय।


जातिगत समीकरण- लोधी पटेल समाज के वोट ज्यादा हैं। भाजपा विधायक प्रतिभा सिंह लोधी पटेल समाज से हैं। बाकी वोटरों में जैन, यादव, ब्राह्मण व अन्य शामिल हैं।


चुनौतियां
भाजपा- किसानों को चना की उपज का भुगतान करोड़ों में बकाया।
कांग्रेस - सोबरन सिंह के निधन के बाद कांग्रेस उपयुक्त चेहरे की तलाश में।

विधायक की परफॉर्मेंस
बरगी विधानसभा में पेयजल की बहुत बड़ी समस्या थी। विधायक प्रतिभा सिंह के प्रयासों से लगभग दो सौ करोड़ की पाइली परियोजना स्वीकृत हुई।

बरगी विधानसभा के बिल्हा के क्षेत्रीयजन, डीपी यादव कहते हैं कि नर्मदा से रेत के अवैध उत्खनन पर रोक लगना चाहिए। रेत माफिया लगातार नर्मदा का सीना छलनी कर रहा है। इससे पर्यावरण को तो नुकसान पहुंच ही रहा है, गर्मी के दिनों में जल स्तर तेजी से गिरने लगा है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned