indian army के लिए बनाते हैं बड़े-बड़े बम, जी रहे हैं ऐसे हालात में

deepak deewan

Publish: Oct, 13 2017 11:11:00 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
indian army  के लिए बनाते हैं बड़े-बड़े बम, जी रहे हैं ऐसे हालात में

पत्रिका अभियान- कॉलोनियां बदहाल रहवासियों का बुरा हाल, क्वार्टरों की नाली चोक, पीने का पानी भी मटमैला

जबलपुर। ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) में देश के दुश्मनों को तबाह करने के लिए बम और गोला-बारूद बनाया जाता है। राष्ट्र की सुरक्षा के अहम काम में लगे यहां के कर्मचारी एवं उनके परिजन खुद ही सुरक्षित नहीं है। इन्हें नारकीय जीवन जीना पड़ रहा है। पी टाइप क्वार्टर में एक महीने से नालियां चोक हैं। गंदगी से बजबजा रही हैं। १०० से अधिक आवास वाले इस क्षेत्र में एक माह से सीवर लाइन डालने का काम चल रहा है। बीते सवा माह से यह काम चल रहा है। इस कारण क्वार्टर की नालियां जाम कर दी गई हैं। कुछ जगह पानी की पाइप लाइन भी फूट गई हैं। इससे पानी की समस्या भी होने लगी है।


ईस्टलैंड इस्टेट में पी-टाइप
क्वार्टर में फैक्ट्री और होमगार्ड के कर्मचारी एवं उनके परिजन रहते हैं। इस समय उन्हें बेहद तकलीफ उठानी पड़ रही है। क्वार्टर के पीछे बनी नाली क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं। उनकी सफाई लंबे समय से नहीं हुई। इस कारण गंदगी वहीं जमा रहती है। अभी जैसे-तैसे शौचालय की गंदगी बह जाया करती थी। लेकिन ओएफके प्रबंधन के द्वारा इन क्वार्टर को सीवर लाइन से जोड़ा जा रहा है। पूरे इलाके में इस काम के लिए नाली खोदी गई है। लोगों का कहना है कि एक नाली को दो-दो बार खोदा और भरा जा रहा है। इस काम के कारण गंदे पानी की निकासी रोक दी गई है। इससे उनके शौचालय का पानी तक बाहर नहीं जा पा रहा है। लोगों को निस्तार के लिए बाहर जाना पड़ रहा है। यहीं नहीं खुदाई के कारण पाइप लाइन फूट गई हैं। साक्षी उइके एवं मिताली ठाकुर ने बताया कि इससे कुछ दिनों तक यहां पानी नहीं आया। प्रबंधन ने टैकर से पानी की सप्लाई की, लेकिन सोमवार को फिर पानी नहीं एकआया। कुछ जगह मटमैला पानी आ रहा है क्योंकि गंदगी पाइप लाइन में भर रही है। इस कारण उन्हें दूसरी जगहों से पानी लाना पड़ रहा है।

किसने-क्या कहा
- नियमित सफाई नहीं होती। खपरैल की जगह छत पर सीट लगाई गई है। उसमें गेफ है। इससे गुहेरा अंदर आ जाते हैं।
सरोज मिश्रा, क्षेत्रीय निवासी


- एक महीने से शौचालय बंद है। नाली निर्माण में देरी की जा रही है। ठेकेदार हमारी समस्या पर ध्यान ही नहीं दे रहा है।
भगवानदीन दाहिया, क्षेत्रीय निवासी


- टैंकर कुछ दिन आया। रोज कहां शिकायत करें। मजबूरी में कभी घाना तो कभी दूसरी जगह से पानी लाना पड़ रहा है।
शारदा पिल्ले, क्षेत्रीय निवासी


- पानी नहीं आ रहा, ऊपर से आसपास गंदगी जमा है। शिकायत के बाद भी फैक्ट्री प्रबंधन द्वारा मदद नही की जा रही है।
रेखा सिंह क्षेत्रीय निवासी


- पानी नहीं आ रहा है। एक महीने से समस्या बनी है। नालियां चोक होने से शौचालय का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं।
रुकमणि सिंह, क्षेत्रीय निवासी

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned