दादी ने 28 साल पहले लिया था संकल्प, 'राम मंदिर' बनने पर ही खाऊंगी अन्न

संकल्प लिया था कि जब भगवान राम मंदिर में विराजमान हो जाएंगे तभी वो खाना खाएंगी...

By: Ashtha Awasthi

Updated: 02 Aug 2020, 03:32 PM IST

जबलपुर। राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन को लेकर अयोध्या में खासा उत्साह है। राम मंदिर के भूमि पूजन में हिस्सा लेने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या आ रहे हैं। जैसे-जैसे भूमि पूजन की तारीख नजदीक आती जा रही है, वैसे-वैसे कई नई जानकारियां भी सामने आ रही हैं। वहीं मध्यप्रदेश के सीएम ने आज ट्वीट करके भी कहा है कि, 'प्रभु श्रीराम कभी भक्तों को निराश नहीं करते हैं, फिर चाहे वह त्रेतायुग की शबरी माता हों या आज की मैया उर्मिला! माता,धन्य है आपकी श्रद्धा! यह सम्पूर्ण भारतवर्ष आपको नमन करता है! जय सियाराम!'

photo6140982336636955161.jpg

यहां पर सीएम शिवराज सिंह चौहान जिन उर्मिला माता की बात कर रहे हैं वह जबलपुर निवासी 81 साल की उर्मिला चतुर्वेदी है। साल 1992 में अयोध्या विवाद को लेकर जब खून-खराबा हुआ था, तब मध्यप्रदेश के जबलपुर की रहने वाली उर्मिला चतुर्वेदी बहुत विचलित हुई थीं।

 

1_6_5347511-m.jpg

इन्होंने 28 साल पहले विवादित ढांचा गिरने पर संकल्प लिया था कि जब तक राम मंदिर का निर्माण शुरू नहीं होगा वो अन्न ग्रहण नहीं करेंगी। वह सिर्फ फल और दूध पर रहती थीं। उर्मिला चतुर्वेदी अपने परिवार के साथ जबलपुर के विजय नगर इलाके में रहती हैं।

फैसला आने पर भी नहीं खाया खाना

बीते साल राम मंदिर पर फैसला आने के बाद भी उनके घर वालों ने उन्हें बहुत समझाया लेकिन वह अपने फैसले पर अडिग रहीं। उनका कहना है कि मैं अन्न तो अयोध्या में ही ग्रहण करूंगी। उर्मिला चतुर्वेदी ने कहा कि अयोध्या में भगवान राम के दर्शन के बाद ही अपना उपवास तोड़ूंगी। वह अभी तक सुबह में चाय, सीजनल फल, दूध और मठा के सहारे रह रही हैं। उनका कहना है कि मुझे इस संकल्प को पूरा करने के लिए भगवान से उर्जा मिलती है। मैं जहां भी रहती हूं, मेरे अंदर राम का उच्चारण होते रहता है।

Ram Mandir
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned