script चीन में बच्चों में फैल रही बीमारी, यहां भी इन्फ्लूएंजा-निमोनिया की होगी विशेष निगरानी | There will be special monitoring of influenza-pneumonia | Patrika News

चीन में बच्चों में फैल रही बीमारी, यहां भी इन्फ्लूएंजा-निमोनिया की होगी विशेष निगरानी

locationजबलपुरPublished: Dec 01, 2023 06:56:33 pm

Submitted by:

prashant gadgil

स्वास्थ्य विभाग ने दिए विशेष सावधानी बरतने के निर्देश, अस्पतालों में बेड से लेकर ऑक्सीजन की व्यवस्थाएं देखीं

doctors.jpg
doctors.jpg

जबलपुर . चीन में बच्चों में फैल रही बीमारी के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट मोड पर हैं। इन्फ्लूएंजा-निमोनिया से पीडि़त बच्चों की विशेष निगरानी की जाएगी। सरकारी अस्पतालों से लेकर निजी अस्पतालों में भी इस बात का विशेष ध्यान रखने कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग के निर्देश के बाद नगर के अस्पतालों में उपलब्ध बेड, ऑक्सीजन प्लांट, ऑक्सीजन सिलेंडर का रिव्यू किया गया। इसके साथ ही में मास्क, सेनेटाइजर की उपलब्धता की िस्थति भी देखी गई। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक प्रियंका दास ने अस्पतालों में नेबुलाइजर मशीन, सहायक इक्विपमेंट, सांस रोग में उपयोग होने वाली दवाएं पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी

सभी इन्फ्लूएंजा (सर्दी, जुखाम, बुखार, फेफड़ों में जलन) से संबंधित मामलों की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए गए हैं। इसका जिम्मा इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस प्रोग्राम (आईडीएसपी) की जिला सर्विलांस इकाइयों को सौंपा गया है। ऐसे बच्चों की न सिर्फ जांच कराई जाएगी, बल्कि उन्हें सर्विलांस पर भी रखा जाएगा। चिकित्सकों का कहना है कि चीन में बच्चों में फैल रहे इन्फ्लुएंजा से डरने जैसी कोई स्थिति नहीं है। सर्दी, खांसी और बुखार के गंभीर रूप से पीडि़त बच्चों के सैंपल कराए जाएंगे और इनका डेटा रखा जाएगा।

पीडि़त हो रहे बच्चों में ये लक्षण

चिकित्सकों के अनुसार चीन में बीमारी से पीडि़त हो रहे बच्चों में बुखार,डायरिया, उल्टी की समस्या हो रही है। ज्यादातर बच्चों को ठीक होने में तीन से पांच दिन का समय लग रहा है। हालाकि बच्चों को अलग से कोई समस्या नहीं हो रही है।

कोरोना जैसे प्रोटोकॉल

विशेषज्ञों के अनुसार अगर यहां बीमारी फैलती है तो बच्चों को बचाव के लिए कोरोना के ही प्रोटोकॉल अपनाने की आवश्यकता है। ऐसी स्थिति में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें। हाथों से आंख-कान, नाक को बार-बार छूने से बचें। बच्चों को सर्दी, खांसी, जुकाम होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। निमोनिया होने पर आइसोलेट करके रखें और दवाएं ले, मास्क पहनें।

ट्रेंडिंग वीडियो