साल भर पहले ही जिनका टेंडर हो गया खत्म, मेकाज प्रबंधन ने उसे ही सवा करोड़ का कर दिया भुगतान, उसके बाद......

बिजली मेंटनेंस के नाम पर हर महीने साढ़े आठ लाख रुपए रुपए का किया जा रहा भुगतान

By: Badal Dewangan

Published: 16 May 2020, 04:27 PM IST

जगदलपुर. मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने बिजली मेंटेनेंस के लिए जिस फर्म को ठेका दिया गया है, उस फर्म का ठेका 11 महीने पहले ही खत्म हो गया है। इसके बावजूद मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने उसी फर्म को प्रति माह महीने साढ़़े 8 लाख रुपए का भुगतान कर रही है। नियम को ताक पर रख कर इस अकेली फर्म को सवा करोड़ रुपए से अधिक का भुगतान किया जा चुका है। यह सिलसिला अभी भी जारी है।

बिजली गुल होने की समस्या लगातार बनी
मेडिकल कॉलेज में बिजली मेंटेनेंस के लिए हर साल टेंडर निकाला जाता है। इसमें पंजीकृत व योग्य फर्म आवेदन करते हैं। टेंडर की सभी शर्तों केा मानने वाली सक्षम फर्म को ही टेंडर दिया जाता है। मेडिकल कालेज ने जिस फ र्म को यह काम दिया था उनका कार्यकाल जून 2019 में ही खत्म हो गया है। इसके बाद भी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन नया टेंडर जारी करने की बजाए उसी पूराने फर्म से काम ले रहा है। फर्म के काम करने के बावजूद मेडिकल कालेज में बिजली गुल होने की समस्या लगातार बनी हुई है।

हर महीने साढ़े 8 लाख रुपए का भुगतान
मेडिकल कॉलेज में बिजली मेंटेनेंस के लिए जिस फर्म को टेंडर दिया गया है उसे हर महीने करीब साढ़े 8 लाख रुपए का भुगतान किया जा रहा है। इसमें 132 केव्हीं सब स्टेशन के मेंटेनेंस के लिए हर महीने साढ़े 5 लाख रुपए और मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में बिजली मेंटेनेंस के लिए तीन लाख रुपए का भुगतान किया जा रहा है। इसके बाद भी हॉस्पिटल में बिजली व्यवस्था चौपट रहती है। कई बार पूरे मेडिकल कॉलेज में ब्लैक आउट की स्थिति भी हो चुकी है। जिससे मरीजों को काफी परेशनी हुई है।

बिना इंजीनियर के टेक्नीशियन के भरोसे चल रहा काम
मेडिकल कॉलेज में बिजली मेंटेनेंस के लिए हर महीने साढ़े आठ लाख रुपए का भुगतान किया जाता है। वहीं मेंटेनेंस के लिए सिर्फ 5 से 7 टेक्नीशियन रखे गए हैं। जिनका पीएफ भी नहीं कांटा जाता है। वहीं नियम के अनुसार करीब 40 टेक्नीशियन और कम से कम 5 इंजीनियर होने चाहिए। जबकि मेडिकल कॉलेज में बिजली मेंटेनेंस के लिए इस फर्म का एक भी इंजीनियर पदस्थ नहीं है। ऐसे में मेंटेनेंस के लिए इतना रुपए खर्च कैसे हो रहा है।

जल्द ही नया टेंडर जारी करेंगे
बिजली मेंटेनेंस के लिए एक निजी गु्रप को टेंडर दिया गया है। हां, सही है कि इसकी अवधि साल भर पहले ही खत्म हो गई है। अब नई प्रक्रिया शुरु करनी है। लॉक डाउन की वजह से यह काम टल गया है। बिजली गुल होने जैसी कोई बात नहीं है।
डा. केएल आजाद, अधीक्षक

Show More
Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned