Budhwar Ke Upay कारोबार बढ़ा देगा नारद पुराण में वर्णित गणेशजी के इन नामों का जाप

ज्योतिषशास्त्र (Jyotish Shastra) में सप्ताह के सातों दिन का अलग-अलग महत्व है। हर दिन किसी विशेष ग्रह को समर्पित है। बुधवार (Budhwar) का दिन नवग्रहों के राजकुमार बुध ग्रह का माना जाता है। बुध देव व्यापार के कारक हैं और गणेशजी की पूजा से वे प्रसन्न होते हैं। यही कारण है कि व्यापारियों को उनकी अर्चना जरूर करना चाहिए।

By: deepak deewan

Published: 28 Oct 2020, 08:30 AM IST

जयपुर. ज्योतिषशास्त्र (Jyotish Shastra) में सप्ताह के सातों दिन का अलग-अलग महत्व है। हर दिन किसी विशेष ग्रह को समर्पित है। बुधवार (Budhwar) का दिन नवग्रहों के राजकुमार बुध ग्रह का माना जाता है। बुध देव व्यापार के कारक हैं और गणेशजी की पूजा से वे प्रसन्न होते हैं। यही कारण है कि व्यापारियों को उनकी अर्चना जरूर करना चाहिए।

ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि बुधवार के दिन मंगलमूर्ति गणेशजी की पूजा बहुत फलदायी होती है। श्रीगणेश सभी देवताओं में प्रथम पूज्य माने जाते हैं। गणेशजी (Ganesh Ji) को प्रसन्न करने के लिए शास्त्रों में कई उपाय बताए गए हैं जो बुधवार के दिन किए जा सकते हैं। वैसे भगवान गणेश की कृपा पाने के लिए बुधवार के दिन उनके मंत्र जाप करना सबसे उत्तम माना गया है।इस दिन सुबह स्नान के बाद गणेशजी के अत्यंत सरल मंत्र ओम गं गणपतये नमः' मंत्र (Mantra) का जाप कर सकते हैं.

ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर के अनुसार नारद पुराण में भगवान गणेश के 12 नाम - सुमुख, एकदंत, कपिल, गजकर्णक, लंबोदर, विकट, विघ्न-नाश, विनायक, धूम्रकेतु, गणाध्यक्ष, भालचंद्र और गजानन— बताए गए हैं। बुधवार के दिन इन नामों का सुबह-शाम विश्वासपूर्वक 108 बार जाप करने से व्यापार में वृद्धि होगी।

Show More
deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned