राजस्थान में फिर बाढ़ के हालात, नदियां उफनी, सैकड़ों मकान डूबे, आज कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

राजस्थान में फिर बाढ़ के हालात, नदियां उफनी, सैकड़ों मकान डूबे, आज कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

Dinesh Saini | Updated: 14 Sep 2019, 10:27:53 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Flood Condition in Rajasthan: मध्यप्रदेश में भारी बारिश ( Heavy Rain ) के कारण शुक्रवार देर रात चंबल नदी ( Chambal River ) के सबसे बड़े बांध गांधी सागर ( Gandhi Sagar Dam ) से करीब पांच लाख क्यूसेक पानी की निकासी की गई...

जयपुर। मध्यप्रदेश में भारी बारिश ( Heavy Rain ) के कारण शुक्रवार देर रात चंबल नदी ( Chambal River ) के सबसे बड़े बांध गांधी सागर ( Gandhi Sagar Dam ) से करीब पांच लाख क्यूसेक पानी की निकासी की गई।  इसके बाद कोटा बैराज ( Kota Barrage ) से भी इतने ही पानी की निकासी शुरू कर दी गई। इससे चंबल की डाउन स्ट्रीम की बस्तियों के सैकड़ों मकान डूब गए। बस्तियों में बाढ़ जैसे हालात ( Flood Condition in Rajasthan ) हो गए हैं। गांवड़ी में घरों में छह से सात फीट ( Heavy Rain in Rajasthan ) पानी भर गया है। जिला प्रशासन व एसडीआरएफ ( SDRF ) ने देर रात 20-25 लोगों को नाव से निकालकर सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया। कुछ मकानों में छह-सात लोग पानी में फंसे हुए हैं, उन्हें निकालने के प्रयास जारी थे। देर रात जिला कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल ने सभी अधिकारियों को मुस्तैद रहने को कहा है। बांसवाड़ा में अलर्ट घोषित किया गया है।

कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी ( Heavy Rain Alert in Rajasthan )
मौसम विभाग ने शनिवार को टोंक, भीलवाड़ा, उदयपुर, चित्तौडगढ़़, राजसमंद, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, सिरोही, कोटा, बूंदी, बारां, झालावाड़, करौली, सवाईमाधोपुर, भरतपुर, धौलपुर में बारिश की चेतावनी दी है।

 

flood-3.jpg

झालावाड़ जिले के कई क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात ( Heavy Rain in Rajasthan )
झालावाड़ जिले में पिछले चार दिन से लगातार हो रही बारिश से कई क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। जिले की सभी नदियां उफान पर है। रायपुर व सुनेल क्षेत्र सबसे ज़्यादा प्रभावित है। यहां कई घरों में नदी का पानी घुस गया है। बाजारों में दरिया बह रहा है। चँवली नदी उफान पर होने से इंदौर मार्ग बंद हो गया है। कालीसिंध बांध के 14 गेट खोल रखे है। इसके अलावा भीमसागर बांध, पिपलाद बांध, छापी बांध, चँवली डेम, गागरिन बांध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है।

चित्तौडगढ़़ में भारी बारिश से नदियां उफान पर ( Heavy Rain in Chittorgarh )
चित्तौडगढ़़ जिले में भारी बारिश से नदियां उफान पर है। जिले के भदेसर क्षेत्र में शुक्रवार रात के बाद शनिवार तडक़े भी जोरदार बारिश हुई। इससे कई सडक़ मार्ग अवरुद्ध पड़े हुए हैं। बाड़ी मानसरोवर बांघ के सुबह 5 गेट खोल करीब दो हजार क्यूसेक पानी गम्भीरी बांध के लिये छोड़ा गया। गम्भीरी के पहले ही 7 छोटे और दो बडे गेट खोल पानी नदी में छोड़ा जा रहा है। इससे चितौड़ शहर के मध्य से गुजर रही गम्भीरी नदी भी पूरे वेग से बह रही है। शनिवार सुबह 8 बजे समाप्त 24 घण्टे में निम्बाहेड़ा में 109, भदेसर में 108, बड़ीसादड़ी में 90, डूंगला में 81, बेंगू में 80, गंगरार में 46, कपासन में 33 ओर चितोडगढ़़ शहर में 32 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। बरसाती नदियां उफान पर हैं। इनमें मंगलवाड उदयपुर, सांवलिया जी आवरी माता, बानसेन कंथारिया, सोनियाणा भादसोड़ा, आकोला भादसोड़ा व रेवलियां भादसोडा मार्ग अवरुद्ध पड़े हुए हैं। क्षेत्र की वागन गांगली बाकली सभी नदियां उफान पर हैं। कई वर्षों बाद नदियों में उफान को देखने सडक़ के किनारे पर लोग जमा है वाहनों की कतारें लगी हुई हैं।

flood-2.jpg

बीसलपुर बांध के 6 गेट खोले, त्रिवेणी का गेज पहुंचा 5.10 मीटर ( Bisalpur Dam )
बीसलपुर बांध से बनास नदी में लगातार पानी की निकासी जारी है। शनिवार को बांध के छह गेट खोलकर बनास नदी में प्रति सेकंड 60 हजार 100 क्यूसेक पानी की निकासी जारी है। बांध के चार गेट 2-2 मीटर व बांध के दो गेट एक-एक मीटर तक खोलकर पानी की निकासी की जा रही है। त्रिवेणी का गेज 5.10 मीटर दर्ज किया गया है। बीसलपुर बांध क्षेत्र में बीते 24 घंटों के दौरान कुल 28 एमएम बारिश दर्ज की गई। वहीं सीजन की अब तक कुल 843 एमएम बारिश दर्ज की जा चुकी है। त्रिवेणी का गेज 5.10 मीटर चलने से बांध में अभी पानी की आवक लगातार जारी रहने की संभावना है।

टापू पर फंसे, 23 घंटे बाद निकाला
निमोदा हरिजी गांव के टापू पर फंसे कोटा के रंगतलाब के सलमान व अनीश को 23 घंटे बाद निकाला।

उधर, प्रदेश से मानसून ( Monsoon 2019 ) की विदाई को अब एक सप्ताह शेष है। लेकिन शुक्रवार को जाते हुए मानसून ने वागड़ को तर कर दिया। भीलवाड़ा, बांसवाड़ा, चित्तौडगढ़़ और प्रतापगढ़ में जमकर मेघ बरसे। बांसवाड़ा में अलर्ट घोषित किया गया है। उदयपुर और जयपुर से एसडीआरएफ की एक-एक टीम मंगवाई गई है। प्रदेश में सर्वाधिक बारिश भीलवाड़ा के जहाजपुर में सात इंच और बिजौलिया में छह इंच दर्ज की गई है। भीलवाड़ा के अमरगढ़ में बिजली गिरने से एक वृद्धा एवं जहाजपुर में तालाब में डूबने से एक युवक की मौत हो गर्ई।

बांसवाड़ा में सर्वाधिक बारिश ( Heavy Rain in Banswara ) बागीदौरा में पांच इंच दर्ज की गई है। माही के 16 गेट 6 मी. तक खोले गए। वहीं, राजस्थान से सटे मध्यप्रदेश के बाजना जिले का भडनक़ोट बांध शुक्रवार को अत्यधिक बारिश से फूट गया। इससे बाजना एवं अन्य इलाकों में अलर्ट घोषित किया गया। इधर चित्तौडगढ़़ जिले के बेगूं में 3.96 भैसरोडगढ़़ में 3 इंच बारिश हुई। राजधानी जयपुर में दिनभर गर्मी के बाद शाम साढ़े छह बजे बाद एक घंटे तक बारिश का दौर चला। बारिश के बाद गर्मी से राहत मिली। जयपुर में दिनभर उमसभरी गर्मी के बाद शाम लगभग साढ़े छह बजे बाद एक घंटे तक बारिश हुई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned