scriptटाइगर देखना चाहते हैं, तो इन जगहों पर जाने का बना सकते हैं प्लान, आपकी जिंदगी का होगा सबसे रोमांचक सफर | If you want to see a tiger, then you can plan to visit these places, it will be the most exciting journey of your life | Patrika News
जयपुर

टाइगर देखना चाहते हैं, तो इन जगहों पर जाने का बना सकते हैं प्लान, आपकी जिंदगी का होगा सबसे रोमांचक सफर

हाल के वर्षों में बेंगाल और साइबेरियाई बाघों की संख्या दोनों में वृद्धि हो रही है। इसका मुख्य कारण इनके अवैध शिकार के खिलाफ सरकार की सख्ती एक प्रमुख कारण है। साथ ही इनके प्राकृतिक निवास में हो रहे सुधार भी इनकी संख्या में वृद्धि का एक प्रमुख कारण है।

जयपुरApr 20, 2024 / 06:09 pm

जमील खान

आज दुनियाभर में बाघों की घटती संख्या चिंता का विषय बनी हुई है। इसका मुख्य कारण है इनका अवैध तरीके से शिकार करना। बाघ की नौ उप-प्रजातियों में से तीन पिछली शताब्दी के भीतर विलुप्त हो गईं, और शेष छह पर लुप्त होने का खतरा मंडरा रहा हैं। लेकिन इन्हें लेकर कुछ अच्छी खबर भी है। हाल के वर्षों में बेंगाल और साइबेरियाई बाघों की संख्या दोनों में वृद्धि हो रही है। इसका मुख्य कारण इनके अवैध शिकार के खिलाफ सरकार की सख्ती एक प्रमुख कारण है। साथ ही इनके प्राकृतिक निवास में हो रहे सुधार भी इनकी संख्या में वृद्धि का एक प्रमुख कारण है।
भारत में हैं सबसे ज्यादा बाघ
भारत में दुनिया में बाघों की सबसे बड़ी आबादी रहती है। 1973 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय में बाघों के सरंक्षण के लिए प्रोजेक्ट टाइगर कार्यक्रम शुरू किया गया था, जो अभी तक चला आ रहा है। इस प्रयास ने 70 के दशक की शुरुआत से बंगाल टाइगर की संख्या को तीन गुना करने में मदद की है।
इन जगहों पर देख सकते हैं बाघ
अगर आप प्रकृति के सबसे शानदार शीर्ष शिकारियों में से एक को आमने-सामने देखने की सोच रहे हैं तो हम आपको बताएंगे कि वे कौनसी जगह हैं जहां इस शिकारी का आप दीदार कर सकते हैं।
1. रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान, सवाईमाधोपुर
राजस्थान के सवाईमाधोपुर में स्थित और करीब 330000 एकड़ (133,546 हेक्टर) में फैला रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान उत्तरी भारत के सबसे बड़े उद्यानों में से एक है। यह करीब 88 बंगाल टाइगर का घर है। बाघों के अलावा पर्यटक यहां तेंदुए, भालू, सियार, मगरमच्छ, भारतीय लोमड़ी, हाथी और यहां तक कि लकड़बग्घा भी देख सकते हैं।
कब जाएं
फरवरी और मार्च का मौसम सबसे अच्छा होता है। लेकिन अप्रेल और मई की गर्मी बाघों को जलाशयों की ओर खींच लाती है, जिससे बाघ को देखने का सबसे अच्छा मौका मिलता है।
2. सरिस्का टाइगर रिजर्व
राजस्थान के अलवर जिले में स्थित सरिस्का टाइगर रिजर्व में आप बाघों के अलावा आप तेंदुआ, जंगली कुत्ता, जंगली बिल्ली, सिवेट हाइना और सियार देख सकते हैं। इनके आम शिकार सांभर, चीतल, नीलगाय, चौसिंघा, जंगली सूअर और लंगूर जैसी प्रजातियां हैं। सरिस्का रीसस बंदरों की बड़ी आबादी के लिए भी जाना जाता है, जो तालवृक्ष के आसपास पाए जाते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सरिस्का में मोर, ग्रे पाट्र्रिज, बुश बटेर, सैंड ग्राउज़, ट्री पाई, गोल्डन बैकड वुडपेकर, क्रेस्टेड सर्पेंट ईगल और द ग्रेट इंडियन हॉर्नड उल्लू सहित बड़ी संख्या में जैसे पक्षियो को भी देख सकते हैं।
3. जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, उत्तराखंड
वर्ष 1936 में हैली नेशनल पार्क के रूप में स्थापित किया गया और बाद में इसका नाम प्रसिद्ध शिकारी और प्रकृतिवादी जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क के नाम पर रखा गया। यह उत्तराखंड में है। बाघों के अलावा आप यहां भारतीय हाथी, नेवले, तेंदुए, स्लॉथ, भालू और हिरण देख सकते हैं।
कब जाएं
बाघ को देखने का सबसे अच्छा समय अप्रेल और जून के बीच होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इन महीनों में अत्यधिक गर्मी होने के कारण बाघ ठंडक पाने के लिए झाडिय़ों की आड़ छोड़कर खुले पानी के गड्ढे में पानी पीने की सबसे अधिक संभावना होती है, जिससे इन्हें देखने की अधिक संभावनाएं बनती है।
4. सुंदरबन, बांग्लादेश
भारत और बांग्लादेश में फैला, सुंदरवन दुनिया का सबसे बड़ा मैंग्रोव वन है। 114 से अधिक बंगाल बाघों का घर माना जाता है।

कब जाएं
आमतौर पर अक्टूबर से मार्च तक समय अच्छा माना जाता है, लेकिन बेहतर होगा कि अप्रेल और मई के महीने में जाएं जब इन्हें देखने की संभावनाएं अधिक होती है।
5. चितवन राष्ट्रीय उद्यान, नेपाल
नेपाल-भारत सीमा के पास स्थित, चितवन राष्ट्रीय उद्यान एक मान्यता प्राप्त यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है, जो एक सींग वाले गैंडों, रॉयल बंगाल टाइगर और घडिय़ाल मगरमच्छों की आबादी के लिए जाना जाता है।
कब जाएं
आमतौर पर अक्टूबर से मार्च तक समय अच्छा माना जाता है, लेकिन बेहतर होगा कि अप्रेल और मई के महीने में जाएं जब इन्हें देखने की संभावनाएं अधिक होती है।

6.मध्यप्रदेश मध्य प्रदेश
– जिसे भारत के ‘टाइगर स्टेट’ के रूप में जाना जाता है – करीब 50 बाघ अभयारण्यों का घर है। कानहा और सतपुरा जैसे राष्ट्रीय उद्यान काफी मशहूर हैं।
कब जाएं
अधिकांश बाघ अभयारण्य जुलाई-से-सितंबर मानसून के मौसम के दौरान बंद हो जाते हैं। जबकि बाघों को साल भर देखा जा सकता है, अप्रेल, मई और प्री-मानसून महीनों में बाघों को देखने का सबसे अच्छा समय माना जाता है।
7. रॉयल मानस राष्ट्रीय उद्यान, भूटान
पूर्वी हिमालय में स्थित, रॉयल मानस भूटान का पहला और सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है। यहां बाघों के अलावा आप तेंदुआ, पिग्मी हॉग, वॉटर बफैल्लो, एक सींग वाला गैंडा, हाथी और सुनहरा लंगूर जैसे जानवर देख सकते हैं।
8. बर्दिया राष्ट्रीय उद्यान, नेपाल
यहां आप बाघों के अलावा हिरण सहित अन्य जानवर भी देख सकते हैं।

कब जाएं
बर्दिया साल भर खुला रहता है। इस क्षेत्र में अन्य जगहों की तरह, गर्म मौसम में बाघों को देखना आम तौर पर सबसे आसान होता है जब बाघ (और गैंडे) को अक्सर गिरवा नदी में आराम करते हुए देखा जा सकता है।
9. ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान, भारत
मध्य भारत में महाराष्ट्र राज्य में स्थित, ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान (जिसे ताडोबा अंधारी टाइगर रिजर्व के नाम से भी जाना जाता है) कम से कम 80 बाघों का घर होने के बावजूद कम लोगों द्वारा देखा जाने वाला स्थान है।
कब जाएं
यहां बाघों को देखने का सबसे अच्छा समय मार्च से मई के बीच होता है।

Hindi News/ Jaipur / टाइगर देखना चाहते हैं, तो इन जगहों पर जाने का बना सकते हैं प्लान, आपकी जिंदगी का होगा सबसे रोमांचक सफर

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो