Indira priyadarshini award 2020:1012 बेटियों को दिया जाएगा अवॉर्ड

बेटियों को इंदिरा प्रियदर्शिनी अवॉर्ड
1012 बेटियों को दिया जाएगा अवॉर्ड
सबसे अधिक 39 बेटियां जयपुर की
चयनित बेटियों को मिलेंगे एक लाख रुपए और स्कूटी

By: Rakhi Hajela

Published: 27 Oct 2020, 12:44 PM IST


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan secondry education Board) इस साल बोर्ड परीक्षाओं (Board Exam) में शानदार प्रदर्शन करने वाली छात्राओं को मिलने वाले इंदिरा प्रियदर्शनी अवॉर्ड (Indira priyadarshini award ) दिया जाएगा। बोर्ड ने इसकी घोषणा कर दी है। इस बार 1012 छात्राओं को यह अवॉर्ड (Award) दिया जाएगा। इनमें सबसे ज्यादा 39 छात्राएं जयपुर जिले (Jaipur disrtict)की हैं। इसके बाद 36 छात्राओं के साथ अलवर दूसरे तथा 35 बेटियों के साथ झुंझुनूं जिला (Jhunjhunu District) पूरे प्रदेश में तीसरे स्थान (Third position) पर रहा है।
पात्रता की जांच करवा रहा शिक्षा विभाग
बोर्ड से छात्राओं का चयन होने के बाद शिक्षा विभाग अब इनकी पात्रता की जांच करा रहा है। इसके बाद 12वीं में शानदार प्रदर्शन करने वाली इन चयनित बेटियों को स्कूटी और एक लाख रुपए का पुरस्कार मिलेगा। दसवीं की चयनित छात्राओं को 75 हजार रुपए दिए जाएंगे। इंदिरा प्रियदर्शनी पुरस्कार में कला संकाय और विज्ञान संकाय से ज्यादा बेटियों का चयन हुआ है। बोर्ड परीक्षाओं में शानदार प्रदर्शन करने वाली विभिन्न कैटेगरी की छात्राओं का इस योजना के लिए चयन किया जाता है।
हालांकि अभी यह तय नहीं हो पाया है कि यह सम्मान बेटियों को कब और कैसे मिलेगा क्योंकि प्रदेश में कोविड 19 के केसेज लगातार बढ़ रहे हैं। विभाग के अधिकारियों के अनुसार वेरिफिकेशन की रिपोर्ट के बाद ही शिक्षा विभाग इस संबंध में गाइडलाइन भेजेगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग एवं प्रारंभिक शिक्षा विभाग के अधीनस्थ आठ संवर्ग क्रमश: सामान्य, अनूसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, अति पिछड़ा वर्ग, बीपीएल, निशक्त वर्ग की ऐसी बालिकाएं जिन्होंने कक्षा 10वीं, 12वीं की परीक्षाओं में जिले में प्रथम स्थान पर रही, उन्हें इंदिरा प्रियदर्शनी अवॉर्ड दिया जाता है।
यह है अवॉर्ड के लिए पात्रता
छात्रा ने अपने वर्ग में 8वीं,10वीं और 12वीं की परीक्षा में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया हो
वरिष्ठ उपाध्याय या प्रवेशिका परीक्षा में राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया हो
लाभार्थी छात्रा का परीक्षा में न्यूनतम 60 फीसदी अंक प्राप्त करना जरूरी है।
छात्रा अगली कक्षा में नियमित अध्ययनरत हो
बोर्ड परीक्षा के लिए प्रस्तुत आवेदन पत्र में छात्रा की ओर से भरा गया जाति संवर्ग ही अंतिम होगा

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned